Assembly Banner 2021

इंडियन रेलवे ने डीजल और बिजली से चलने वाले पहले इंजन का किया सफल परीक्षण, 150 किलोमीटर प्रति घंटे रही रफ्तार

राजस्थान में भारतीय रेलवे ने डीजल और बिजली दोनों से चलने वाले रेल इंजन का सफल परीक्षण किया है.

राजस्थान में भारतीय रेलवे ने डीजल और बिजली दोनों से चलने वाले रेल इंजन का सफल परीक्षण किया है.

भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने आज कोटा-नागदा के बीच डीजल और बिजली से चलने वाले रेल इंजन (Train Engine) का सफल परीक्षण किया. इस दौरान 150 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेन (Train) को दौड़ाया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 11:07 PM IST
  • Share this:
कोटा. भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने गुरुवार को कोटा रेल मंडल में कोटा-नागदा के बीच डीजल और बिजली से चलने वाले ट्रेन के इंजन (Train Engine) का परीक्षण किया. परीक्षण के दौरान इंजन को अधिकतम 150 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ाया गया. रेल अधिकारियों ने बताया कि परीक्षण पूरी तरह सफल रहा. यह परीक्षण अगले दो-तीन दिन और जारी रहेगा.

परीक्षण के दौरान इंजन को डीजल और बिजली दोनों से चलाया गया. इस दौरान कहीं भी कोई समस्या सामने नहीं आई. डीजल से दौड़ाते समय इंजन 4500 हॉर्स पावर की शक्ति प्रधान करता है, जबकि बिजली से चलने पर यह इंजन 5000 हॉर्स पावर की शक्ति देता है. उल्लेखनीय है कि रेलवे में यह पहला इंजन डीजल और बिजली से चलने वाला बनाया है. इस इंजन की खासियत यह है कि बिजली बंद रहने के दौरान भी ट्रेन रास्ते में खड़ी नहीं होगी. डीजल की मदद से इंजन चलाकर ट्रेन को आसानी से चलाया जा सकता है.
राजस्थान विधानसभा उपचुनाव: कांग्रेस ऐनवक्त पर घोषित करेगी टिकट ! जानिए क्या है रणनीति

आरडीएसओ लखनऊ कर रहा परीक्षण
यह परीक्षण लखनऊ स्थित अनुसंधान अभिकल्प और मानक संगठन (आरडीएसओ) द्वारा किया जा रहा है. परीक्षण सफल रहने के बाद इस इंजन को ट्रेनों में जोड़ा जा सकेगा. इधर, पूर्व में कोटा रेल मंडल में सबसे पहले वंदे मातरम सुपरफास्ट ट्रेन का हाई स्पीड ट्रायल हुआ था. वंदे मातरम ट्रेन का कोटा रेल मंडल में कोटा -सवाई माधोपुर के बीच 180km की स्पीड से ट्रायल किया गया था.



फरवरी माह में कोटा रेल मंडल में ट्रेन की स्पीड का इतिहास रचा गया था. ट्रेन को अधिकतम 185 किलोमीटर प्रति घंटे से दौड़ाया गया था. यह रफ्तार भारत में दौड़ी अब तक सभी ट्रेनों में सबसे अधिक थी. तृतीय श्रेणी के वातानुकूलित इकोनॉमी क्लास के कोच का परीक्षण हाई स्पीड में किया गया. उल्लेखनीय है कि गतिमान एक्सप्रेस भारत में सबसे तेज गति से चलने वाली ट्रेन है. यह ट्रेन दिल्ली और झांसी के बीच 160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ती है. भारत में चलने वाली ट्रेनों की औसत गति 36 से लेकर 112 किलोमीटर प्रतिघंटा है. इधर हाल ही में पश्चिम मध्य रेलवे के जीएम शैलेंद्र कुमार कोटा रेल मंडल के दौरे पर आए थे और उन्होंने उम्मीद जताई थी कि 2024 में कोटा रेल मंडल में ट्रेनों की रफ्तार 160 किलोमीटर प्रति घंटा होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज