1994 बैच के IAS अधिकारी राजस्‍थान में कर रहे ये अनोखा काम, बदलेगी इस इमारत की सूरत
Jaipur News in Hindi

1994 बैच के IAS अधिकारी राजस्‍थान में कर रहे ये अनोखा काम, बदलेगी इस इमारत की सूरत
आईएएस अधिकारियों ने दूसरे कलाकारों को भी आगे आने की अपील की है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

अब आईएएस (IAS) अफसरों द्वारा कलाकृति भेंट करने के बाद ओटीएस (OTS) संस्थान ने मूर्तिकार और चित्रकारों (Painters) से अपनी श्रेष्ठ कलाकृतियों को भेंट करने की अपील की है. 

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान कैडर के 1994 बैच के 5 आईएएस अफसरों (IAS Officer) ने एक अनूठी पहल की है. इन अफसरों ने ओटीएस (OTS) के नाम से जाने वाले हरिश्चंद्र राजस्थान राज्य लोक प्रशासन संस्थान जयपुर, की नई हॉस्टल बिल्डिंग को एस्थेटिक रूप देने के उद्देश्य से एक बड़ी कलाकृति भेंट की है. राज्य के जाने-माने चित्रकार खुश नारायण जांगिड़ की कोरोना काल को दर्शाते हुए राजस्थान मिनिएचर शैली की कलाकृति मैन लॉबी में प्रदर्शित की जाएगी. मुख्यमंत्री के प्रिंसिपल सेक्रेटरी कुलदीप रांका, राजस्व विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी आनंद कुमार , कार्मिक विभाग की प्रिंसिपल सेक्रेटरी रोली सिंह, उद्योग विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेट्री नरेश पाल गंगवार और वन एवं पर्यावरण विभाग की प्रिंसिपल सेक्रेटरी श्रेया गुहा ने ये कलाकृति भेंट की है.

ओटीएस का आह्वान- कलाकृति करें भेंट
आईएएस अफसरों द्वारा कलाकृति भेंट करने के बाद ओटीएस संस्थान ने मूर्तिकारों और चित्रकारों से आह्वान किया है कि वे अपनी श्रेष्ठ कलाकृतियां संस्थान को भेंट करें. उल्लेखनीय है कि न्यू हॉस्टल की बिल्डिंग पूरी होते ही आगामी दिनों में कलाकृतियां प्रदर्शित की जाएंगी.


ब्यूरोक्रेट्स गढ़ती है ओटीएस




ओएटीएस में राजस्थान के कैडर के सभी भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों की ट्रेनिंग तथा सभी वरिष्ठ राज्य सेवाओं की आधारभूत एवं मिड कैरियर ट्रेनिंग प्रदान की जाती है. इसमें राजस्थान प्रशासनिक सेवा समेत अन्य सेवा शामिल हैं. अभी हाल ही में ओटीएस ने इन सेवाओं के एशोसिएशन से आह्वान किया था कि राजस्थान के मूर्तिकारों की ओटीएस को बड़ी मूर्तियां भेंट करें. विदेशी संस्थानों एवं शिक्षण संस्थानों में इस तरह की कलाकृतियां एवं मूर्तियां भेंट करने की प्रक्रिया है. इसी कड़ी में ओटीएस ने आईएएस एसोसिएशन से आह्वान किया था.


किसानों को बड़ी सौगात


मालूम हो कि किसानों की आय दोगुना करने के उद्देश्य के साथ राजस्थान सरकार ने ऑनलाइन मंडियों की संख्या बढ़ा रही है. इस साल 119 और मंडियों को ई-नाम पोर्टल से जोड़ा गया है. राज्‍य सरकार के मुताबिक, इस साल पांच अप्रैल से 30 जून के बीच नई 119 मंडियों को ई-नाम पोर्टल से जोड़ा गया है. इस दौरान 2205 किसानों ने पंजीकरण किया है और साथ में 2989 व्यापारी पंजीबद्ध हुए हैं. वहीं, कुल 2885.3 टन का व्यापार हुआ है.




ये भी पढ़ें:  PHOTOS:राजस्थान के किसानों की नई मुश्किल, टिड्डी के बाद अब हॉपर्स बढ़ा रहे परेशानी 

सरकार के मुताबिक, चालू वित्त वर्ष में पहले से मौजूद 25 ऑनलाइन मंडियों में 97 किसानों और 50 व्यापारी और कमीशन एजेंट के नए पंजीकरण हुए है. साथ में 1,79,420 मीट्रिक टन से अधिक कृषि उपज का कारोबार किया गया. राजस्थान के कृषि और बागवानी विभाग के प्रमुख सचिव कुंजी लाल मीणा ने कहा, ‘मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सोच के अनुसार राज्य सरकार किसानों की भलाई के लिए प्रतिबद्ध है. इसके तहत किसान कल्याण के लिए प्रौद्योगिकी का लाभ उठाने हेतु कई प्रयास किए जा रहे है तथा किसानों के बीच प्रौद्योगिकी साक्षरता में वृद्धि पर भी जोर दिया जा रहा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading