लाइव टीवी

राजस्थान में 20,770 पाक विस्थापित अल्पसंख्यक कर रहे हैं नागरिकता का इंतजार
Jaipur News in Hindi

Prem Meena | News18 Rajasthan
Updated: January 2, 2020, 1:34 PM IST
राजस्थान में 20,770 पाक विस्थापित अल्पसंख्यक कर रहे हैं नागरिकता का इंतजार
सीएम अशोक गहलोत के गृह जिले जोधपुर में 14,500 पाक विस्थापित अल्पसंख्यक रह रहे हैं. शेष पाक विस्थापित पाली, जालोर, कोटा, सिरोही, बीकानेर, श्रीगंगानगर, बाड़मेर और जैसलमेर जिलों में हैं. फाइल फोटो

राज्य के गृह विभाग (Home department) के अनुसार राजस्थान में पाकिस्तान (Pakistan), बांग्लादेश (Bangladesh) और अफगानिस्तान (Afghanistan) से आए अल्पसंख्यक समुदाय के 20,770 विस्थापित भारतीय नागरिकता के लिए इंतजार कर रहे हैं. सबसे ज्यादा पाक विस्थापित अल्पसंख्यक जोधपुर जिले में रह रहे हैं.

  • Share this:
जयपुर. केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) के 3 जनवरी को जोधपुर (Jodhpur) के प्रस्तावित दौरे से ठीक पहले राज्य में पाक विस्थापित अल्पसंख्यकों (Pak Displaced Minorities) को नागरिकता (Citizenship) देने का मामला गरमा गया है. राज्य के गृह विभाग (Home department) के अनुसार राजस्थान में पाकिस्तान (Pakistan), बांग्लादेश (Bangladesh) और अफगानिस्तान (Afghanistan) से आए अल्पसंख्यक समुदाय के 20,770 विस्थापित भारतीय नागरिकता के लिए इंतजार कर रहे हैं. सबसे ज्यादा पाक विस्थापित अल्पसंख्यक जोधपुर जिले में रह रहे हैं.

सबसे ज्यादा विस्थापित जोधपुर जिले में
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृह जिले जोधपुर में 14,500 पाक विस्थापित अल्पसंख्यक रह रहे हैं. शेष पाक विस्थापित पाली, जालोर, कोटा, सिरोही, बीकानेर, श्रीगंगानगर, बाड़मेर और जैसलमेर जिलों में हैं. पाक विस्थापित अल्पसंख्यक लॉंग टर्म वीजा के आधार पर यहां निवास कर रहे हैं. स्थाई नागरिकता के अभाव में इन्हें सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है. बिजली कनेक्शन, नल कनेक्शन, जाति प्रमाण-पत्र, निवास प्रमाण-पत्र, राशन कार्ड और आधार कार्ड नहीं बनने के कारण पाक विस्थापित अल्पसंख्यकों को केंद्र एवं राज्य सरकार की विभिन्न लोक कल्याणकारी योजनाओं का लाभ भी नहीं मिल पा रहा है.

गृह विभाग करता है नागरिकता शिविरों का आयोजन

राज्य का गृह विभाग पाक विस्थापित अल्पसंख्यकों को स्थाई नागरिकता देने के लिए विभिन्न जिलों में नागरिकता शिविरों का आयोजन करता है. गृह विभाग ने नवंबर और दिसंबर महीने में ही नागरिकता शिविर लगाकर करीब 90 लोगों को भारतीय नागरिकता प्रदान की थी. इससे पहले प्रदेश में जनवरी 2019 से 17 जून 2019 तक ऐसे कुल 79 पाक विस्थापितों को भारतीय नागरिकता प्रदान की गई थी.

नागरिकता शिविर कैंप लगवाने के निर्देश दिए थे
राज्य के गृह विभाग ने पाली, जालोर, कोटा, श्रीगंगानगर, बीकानेर और बाड़मेर के जिला कलेक्टर्स को पत्र लिखकर 2 दिसंबर से 13 दिसंबर तक नागरिकता शिविर कैंप लगवाने के निर्देश दिए थे. इन नागरिकता शिविरों में करीब चार दर्जन पाक विस्थापित भारतीय नागरिकता प्रदान की गई थी. 

पाकिस्तान से आई हिन्दू शरणार्थी छात्रा के सामने आया शिक्षा का संकट

कैबिनेट ने किया 'टिड्डी टेरर' पर मंथन, सरकार प्रभावित किसानों को देगी मुआवजा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 2, 2020, 1:29 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर