लाइव टीवी

राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस का पलड़ा रहेगा भारी, पढ़ें- राजस्थान की 3 सीटों का चुनावी गणित 

Sudhir sharma | News18 Rajasthan
Updated: February 3, 2020, 12:27 PM IST
राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस का पलड़ा रहेगा भारी, पढ़ें- राजस्थान की 3 सीटों का चुनावी गणित 
ज्यसभा की तीन सीटें 10 अप्रैल को खाली होने जा रही हैं

राजस्थान की राज्यसभा (Rajya Sabha) की तीन सीटें 10 अप्रैल को खाली होने जा रही हैं. इन तीनों सीटों में से दो सीटों पर कांग्रेस का पलड़ा भारी रहने वाला है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) से राज्यसभा (Rajya Sabha) की तीन सीटें 10 अप्रैल को खाली होने जा रही हैं. लिहाजा प्रदेश में तीनों सीटों को लेकर कांग्रेस और भाजपा की तैयारियां तो शुरू हो गई है लेकिन वोटों के गणित के मुताबिक राज्यसभा की खाली होने वाली तीनों सीटों में से दो सीटों पर कांग्रेस का पलड़ा भारी रहने वाला है. बताया जा रहा है कि इन तीन सीटों के लिए चुनाव की प्रक्रिया 15 मार्च तक पूरी हो जाएगी. हालांकि इस बारे में निर्वाचन आयोग की ओर से राज्यसभा का चुनाव कार्यक्रम जारी होना अभी बाकी है.

विधानसभा चुनाव-2018 के बाद बदला राजनैतिक समीकरण
प्रदेश में 2018 विधानसभा चुनाव के बाद बदली हुए राजनैतिक समीकरणों का असर राजस्थान में 10 अप्रैल को रिक्त होने वाली राज्यसभा की तीन सीटों पर भी पड़ने वाला है. साल 2018 तक हुए राज्यसभा के चुनावों में प्रदेश की तमाम दस सीटों पर भाजपा काबिज थी लेकिन प्रदेश में सत्ता के बदलने के साथ ही प्रदेश की राज्यसभा की सीटों में भी पार्टियों का गणित बदलने लगा.

एक सीट को जीतने के लिए कितने वोट चाहिए?

दरअसल, प्रदेश की तीन सीटों पर हो रहे चुनाव को लेकर पूरे 200 विधायकों के मान्य वोट हैं. प्रदेश की इन तीनों सीटों की बात करें तो हर एक सीट को जीतने के लिए प्रथम वरीयता के लिए 51 वोट चाहिए.

कांग्रेस के पास 107, बीजेपी के पास 72 वोट
कांग्रेस के पास है 107 विधायकों के वोट हैं तो भाजपा के पास है 72 विधायकों के वोट हैं. कांग्रेस के पास 13 निर्दलियों में से अधिकतर का समर्थन भी है. अन्य छोटी पार्टियों और निर्दलीय विधायक को संख्या 21 है.2 सीटों पर कांग्रेस, एक सीट बीजेपी को

तय फॉर्मूले के अनुसार कांग्रेस को दो सीट जीतने के लिए 102 वोट चाहिए जो कि पर्याप्त रूप से उसके पास हैं. वहीं बात करते है कि भाजपा के पास सदन में 72 विधायक हैं, ऐसे में प्रथम वरीयता के 51 वोट चाहिए लिहाजा भाजपा के खाते में भी एक सीट आने वाली है.

पहले डॉ. मनमोहन सिंह चुने गए, अब इन तीन सीटों पर चुनाव 
पिछले साल मदन लाल सैनी के निधन के बाद एक सीट रिक्त हुई थी. इस सीट पर पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह चुने गए थे. वहीं इन तीन सीटों से भाजपा के राज्यसभा सदस्य ही रिटायर हो रहे हैं. इसमें रामनारायण डूडी, विजय गोयल और नारायण लाल पंचारिया हैं.

ये भी पढ़ें- 

लड़की भगाने के शक में गर्भवती महिला को कुएं में लटकाया, हाथों पर अंगारे रख दीं यातनाएं
PHOTOS: अनोखी ताइवान-इंडियन वेडिंग, न मांस-मच्छी, न दूध-दही के पकवान परोसे गए

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 3, 2020, 12:18 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर