Rajasthan Panchayat Election: पंचायत चुनाव के पहले चरण में 84 फीसदी मतदान, यहां सबसे ज्यादा पड़े वोट

राजस्थान में पहले चरण के पंचायत चुनाव में 84 फीसदी से ज्यादा पड़े वोट.
राजस्थान में पहले चरण के पंचायत चुनाव में 84 फीसदी से ज्यादा पड़े वोट.

Rajasthan Panchayat Election: राजस्थान में पंचायत चुनाव के पहले चरण में 31 लाख से ज्यादा वोटरों ने अपने मताधिकार (Vote) का प्रयोग किया. बाड़मेर (Barmer) के धोरीमन्ना में सबसे ज्यादा 94 प्रतिशत तो जालौर की सायला पंचायत में सबसे कम 66% वोट डाले गए.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में आज ग्राम पंचायत चुनाव 2020 के पहले चरण में ग्रामीण मतदाताओं ने गांव की सरकार चुनने के लिए बढ़-चढ़कर भाग लिया. पहले चरण में लगभग 84 फ़ीसदी मतदान हुआ. 25 जिलों की 934 ग्राम पंचायतों के लिए शांतिपूर्ण एवं निष्पक्ष तरीके से चुनाव संपन्न हो गया. चुनाव प्रक्रिया में 31 लाख 68 हजार 646 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. बाड़मेर जिले की धोरीमन्ना पंचायत समिति में सबसे ज्यादा 94.66 फीसदी वोटरों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. वहीं, सबसे कम मतदान जालौर जिले की सायला पंचायत समिति में  66.18 फीसदी दर्ज किया गया.

ग्राम पंचायत चुनाव में मतदान की रफ्तार दोपहर के बाद तेज होती गई. राज्य निर्वाचन आयोग के आंकड़ों के अनुसार सुबह 10 बजे तक 19.10% मतदान हुआ. 12 बजे से पहले तक 37.94% मतदान दर्ज किया गया. वहीं, दोपहर 3 बजे इसमें बढ़ोतरी देखी गई और 64.68% मतदान दर्ज किया गया. शाम 5.30 बजे तक 81.48% मतदान हुआ. इसके बाद भी कई जिलों में लंबी लाइनों में मतदाता अपनी बारी का इंतजार करते रहे. आयोग के मुताबिक पहले चरण में हुआ कुल 83.50% मतदान का आंकड़ा जारी किया गया है.

55 पदों के लिए चुनाव स्थगित कर दिए थे
आपको बता दें कि पहले चरण के पंचायत चुनाव के तहत 55 पदों पर रविवार देर रात चुनाव स्थगित कर दिया गया था. इनमें उदयपुर की सराडा, गोगुंदा की पंचायत समितियां शामिल हैं. खेरवाड़ा में बने अराजक हालात के कारण यहां चुनाव स्थगित कर दिए गए थे. गौरतलब है कि पहले 1003 सरपंच पद के लिए चुनाव होने थे.
निर्वाचन आयोग के मुताबिक कुछ मतदान केंद्रों पर EVM खराब होने और इसकी वजह से मतदान बाधित होने के भी समाचार मिले हैं. शांति व्यवस्था कायम रखने के लिए मतदान केंद्रों पर पर्याप्त संख्या में पुलिसबल के जवान तैनात किए गए थे. मतदान केंद्रों पर भी लोगों में उत्साह देखा गया. देर रात अधिकांश ग्राम पंचायतों के चुनाव परिणाम भी सामने आ गए.



सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां
प्रथम चरण के पंचायत चुनाव में राज्य निर्वाचन आयोग के तमाम दावों के बावजूद कोरोना वायरस की रोकथाम के मद्देनजर जारी की गई सोशल डिस्टेंसिंग की गाइडलाइंस का उल्लंघन हुआ. सुबह के समय मतदान के दौरान कई बूथों पर ग्रामीण मतदाता नियमों की अनदेखी करते देखे गए. इसके बाद आयोग ने सख्त रुख अपनाया और संबंधित जिलों के कलेक्टर एसपी को मौके पर जाकर गाइडलाइन का पालन करने के सख्त दिशा निर्देश दिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज