• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • राजस्थान में एक और महा घूसकांड: RSLDC में ACB की बड़ी कार्रवाई, 5 लाख की रिश्वत लेते 2 अधिकारियों को दबोचा

राजस्थान में एक और महा घूसकांड: RSLDC में ACB की बड़ी कार्रवाई, 5 लाख की रिश्वत लेते 2 अधिकारियों को दबोचा

एसीबी की स्पेशल यूनिट ने शिकायत का सत्यापन कर शनिवार को दोनों अधिकारियों को परिवादी से 5 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुये रंगे हाथों गिरफ्तार किया है.

एसीबी की स्पेशल यूनिट ने शिकायत का सत्यापन कर शनिवार को दोनों अधिकारियों को परिवादी से 5 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुये रंगे हाथों गिरफ्तार किया है.

Big Bribery Scandal in Rajasthan: भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने राजस्थान राज्य कौशल विकास निगम (RSLDC) के कार्यालय में 2 अधिकारियों को 5 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुये पकड़ा है. इस मामले में 2 आईएएस अधिकारियों नीरज के. पवन और प्रदीप कुमार गवंडे के मोबाइल भी सीज किये गये हैं.

  • Share this:

जयपुर. राजस्थान में एक और बड़े रिश्वत कांड (Big Bribery Scandal) का खुलासा हुआ है. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (Anti Corruption Bureau) ने राजस्थान राज्य कौशल विकास निगम (RSLDC) के कार्यालय में इस कार्रवाई को अंजाम दिया है. इस मामले में आरएसएलडीसी के स्कीम कॉर्डिनेटर अशोक सांगवान और प्रबंधक राहुल कुमार गर्ग को 5 लाख रुपये रिश्वत राशि लेते हुये रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया है. वहीं ब्यूरो ने आरएसएलडीसी के चैयरमेन आईएएस नीरज के. पवन और मुख्य प्रबंधक आईएएस प्रदीप कुमार गवंडे के मोबाइल को जांच के लिए कब्जे में लिया गया है. एसीबी दोनों की भूमिका की विस्तृत और गहन जांच कर रही है. ब्यूरो की इस कार्रवाई के बाद प्रशासनिक मशीनरी में हड़कंप मचा हुआ है.

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के महानिदेशक बीएल सोनी ने बताया कि इस मामले में परिवादी ने अधिकारियों द्वारा रिश्वत की मांग करने की शिकायत दी थी. परिवादी ने अपनी शिकायत में बताया कि उसकी फर्म की ओर से प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना और दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल विकास योजना में 1 करोड़ 50 लाख रुपये का कार्य किया गया था. उसके पेंडिग बिल पास करने, ब्लैक लिस्ट से हटाने, जवाब देने के लिये एक्सटेंशन और बैंक गारंटी जब्त नहीं करने की एवज में अशोक सांगवान और राहुल कुमार गर्ग ने 5-6 लाख रुपये की रिश्वत मांगी. रिश्वत नहीं देने पर उसे परेशान किया जा रहा है.

संबंधित अधिकारियों के चैम्बर सील किये
इस पर एसीबी की स्पेशल यूनिट ने शिकायत का सत्यापन कर शनिवार को दोनों अधिकारियों को परिवादी से 5 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुये रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया गया है. इस मामले में आरएसएलडीसी के चैयरमेन आईएएस नीरज के. पवन और मुख्य प्रबंधक आईएएस प्रदीप कुमार गवंडे के मोबाइल को भी कब्जे में लिया गया है. दोनों के मोबाइल की एफएसएल से जांच करायी जायेगी. एसीबी के एडीजी दिनेश एमएन के निर्देशन में आरोपियों के निवास और अन्य ठिकानों की तलाशी जारी है. संबंधित अधिकारियों के चैम्बर सील कर दिये गये हैं. एसीबी की ओर से मामले में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज कर आगे जांच की कार्रवाई की जायेगी. ब्यूरो की टीम पूरी गंभीरता से मामले की जांच में जुटी है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज