• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • डोटासरा के बाद अब विवादों में घिरीं MLA कृष्णा पूनिया, पति की नियुक्ति पर उठे सवाल

डोटासरा के बाद अब विवादों में घिरीं MLA कृष्णा पूनिया, पति की नियुक्ति पर उठे सवाल

कृष्णा पूनिया के पति की नियुक्ति पर उठे सवाल. (https://www.facebook.com/KrishnaPoonia.INDIA)

कृष्णा पूनिया के पति की नियुक्ति पर उठे सवाल. (https://www.facebook.com/KrishnaPoonia.INDIA)

Rajasthan News: कांग्रेस विधायक और ओलंपियन डॉ. कृष्ण पूनिया (Krishna Poonia) विवादों में घिर गई हैं. पति की खेल अधिकारी के पद पर नियुक्ति के बाद बीजेपी (BJP) ने सवाल उठाए है.

  • Share this:
जयपुर. ओलंपियन कृष्णा पूनिया (Olympian Krishna Poonia) विवादों से घिर गई हैं. कांग्रेस विधायक पूनिया के पति को खेल अधिकारी के पद पर नियुक्ति देने से विवाद खड़ा हो गया. आरोप है कि एक अर्जुन अवार्डी को दरकिनार कर और नियमों से परे गहलोत सरकार ने पूनिया के पति को खेल अधिकारी नियुक्त कर दिया. बीजेपी ने इसे सरकारी नौकरियों की कांग्रेस की लूट करार दिया. तो वहीं कांग्रेस के कुछ विधायक कह रहे हैं कि अगर गहलोत (CM Ashok Gehlot) पार्टी के विधायकों को कुछ दे रहैं तो ये अच्छी बात है.
ओलंपयिन कृष्णा पूनिया खिलाड़ी से राजनेता बन हैं. चुरु के सादुलपुर से कांग्रेस विधायक हैं. पूनिया अब अपने पति को लेकर विवादों से घिर गई हैं. कृष्ण पूनिया के पति विरेंद्र पूनिया को राजस्थान सरकार ने खेल अधिकारी के पद पर नियुक्त किया. इस पद के लिए 08 खिलाड़ियों ने साक्षात्कार दिया था, जिनमें वीरेद्र पूनिया के साथ अर्जुन पुरस्कार विजेता बजंरग लाल ताखर भी शामिल हैं. वीरेंद्र पूनिया भी द्रोर्णाचार्य पुरस्कार विजेता हैं.

सरकार के सवाल पर बवाल

अर्जुन पुरस्कार विजेता बजंरग लाल ताखर का आरोप है कि अर्जुन पुस्कार उसे बतौर खिलाड़ी मिली. इस पद के लिए जरूरी पात्रता के लिए वे अधिक योग्यता रखते हैं. लेकिन वीरेंद्र पूनिया की पत्नी के कांग्रेस विधायक होने से उसे नियुक्ति दे दी. दरअसल, विवाद की शुरुआत तो 14 जुलाई को इस पद के लिए साक्षात्कार शुरू होने से पहले ही हो गई थी. पूर्व ओलंपयिन गोपाल सैनी ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर
चयन प्रकिया पर ही सवाल खड़े कर दिए थे. बीजेपी ने आरोप लगाया कि गहलोत सरकार अपने विधायकों के परिजनों को नौकरियों की रेवड़ियां बांट रही है. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने तो इस नियुक्ति के खिलाफ आंदोलन की चेतावनी दी है.
पूनिया ने किया पति का बचाव

पति के बचाव में खुद कृष्णा पूनिया मैदान में उतरी. कृष्णा पूनिया ने सफाई दी कि उनके पति द्रोर्णाचार्य पुरस्कार विजेता है. काबिलियत के आधार पर पद मिला, न कि सिफारिश से. वीरेंद्र पूनिया कृष्णा पूनिया के कोच भी रहे है.​

राजस्थान की गहलोत सरकार लगातार सरकारी नौकरियों में भाई भतीजावाद से घिरती जा रही है. इससे पहले शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा समेत कुछ कांग्रेस विधायकों के रिश्तेदारों के राजस्थान प्रशासनिक सेवा में चयन पर भी सवाल उठे कि साक्षात्कार में अधिक अंक दिलावाकर चयन में फायदा पहुंचाया
गया.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज