अपना शहर चुनें

States

Rajasthan: अहमद पटेल के निधन के बाद कांग्रेस में कई नेताओं के सियासी समीकरण बिगड़े

अहमद पटेल की जगह कमेटी में नया सदस्य बनाया जायेगा या फिर बचे हुए 2 नेता ही रिपोर्ट तैयार करेंगे यह अभी तक साफ नहीं हो पाया है.
अहमद पटेल की जगह कमेटी में नया सदस्य बनाया जायेगा या फिर बचे हुए 2 नेता ही रिपोर्ट तैयार करेंगे यह अभी तक साफ नहीं हो पाया है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल (Ahmed patel) के निधन के कारण गहलोत-पायलट खेमे (Gehlot-Pilot Group) में सुलह के बाद मतभेदों का सुलझाने के लिये गठित की गई तीन सदस्यीय कमेटी की रिपोर्ट भी अटक गई है. पटेल इस कमेटी के सदस्य थे.

  • Share this:
जयपुर. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल (Ahmed patel) के निधन के बाद राजस्थान में कई नेताओं के सियासी समीकरण गड़बड़ा (Political equation upset) गए हैं. कई कांग्रेस नेताओं ने अपना पैरोकार खो दिया है. ऐसे नेताओं की अब परेशानियां भी बढ़ गई हैं. राजस्थान में कई कांग्रेस विधायकों ने अहमद पटेल के जरिए मंत्री बनने और राजनीतिक नियुक्तियों के लिए सिफारिशें करवाई थी. उन नेताओं को भी ने सिरे से कवायद करनी होगी. बहुत से नेताओं को अब हाईकमान के पास अपनी बात पहुंचाने का नया जरिया (New way) तलाशना होगा.

प्रदेश में पिछले दिनों सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट में हुये सियासी घमासान और सुलह के बाद गठित 3 सदस्यीय कमेटी की रिपोर्ट भी पटेल के निधन के बाद अटक गई है. पटेल इस कमेटी के सदस्य थे. सचिन पायलट खेमे से सुलह के बाद अगस्त में यह कमेटी बनी थी. इसमें केसी वेणुगोपाल, अजय माकन के साथ अहमद पटेल सदस्य थे. इस कमेटी की तीन बार बैठकें हो चुकी थीं. लेकिन कमेटी की फाइनल रिपोर्ट तैयार करना बाकी था. सीएम अशोक गहलोत से भी चर्चा करनी थी. इसी बीच अजय माकन और अहमद पटेल बीमार हो गये और कमेटी की रिपोर्ट अटक गई. इस कमेटी को सचिन पायलट खेमे की मांगों को सुनकर एक लॉजिकल कन्क्लूजन वाली रिपोर्ट तैयार करने का काम सौंपा गया था. पिछले 4 माह से सचिन पायलट खेमे को भी रिपोर्ट की प्रतीक्षा है.

Rajasthan: पारदर्शिता के दावों पर सवाल, सरकार के 2 साल में एक भी मंत्री ने सार्वजनिक नहीं की संपत्ति

अब कमेटी की रिपोर्ट आने में और भी देरी हो सकती है


अहमद पटेल की जगह कमेटी में नया सदस्य बनाया जायेगा या फिर बचे हुए 2 नेता ही रिपोर्ट तैयार करेंगे यह अभी तक साफ नहीं हो पाया है। पटेल के निधन के बाद तीन सदस्यों वाली कमेटी में फिलहाल उनकी जगह किसी नए नेता को सदस्य नहीं बनाया है. अभी यह भी साफ नहीं है कि कांग्रेस हाईकमान किसी नेता को इस कमेटी में और शामिल करेगा या बचे हुए दोनों सदस्य ही रिपोर्ट तैयार करेंगे. इस कमेटी की रिपोर्ट कब तक आएगी यह भी अभी कुछ नहीं कहा जा सकता.

संगठन कार्यकारिणी और राजनीतिक नियुक्तियां भी अटकी
कमेटी की रिपोर्ट के लंबित होने के कारण संगठन कार्यकारिणी और राजनीतिक नियुक्तियां भी अटक गई हैं. सचिन पायलट खेमे की मांगों को लेकर गठित कमेटी की रिपोर्ट नहीं आने के कारण कांग्रेस संगठन के पदों पर भी नियुक्तियां अटकी हुई हैं. अब तक कांग्रेस संगठन की कार्यकारिणी नहीं बनने के पीछे सबसे बड़ी वजह कमेटी की रिपोर्ट का नहीं आना ही बताया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज