वसुंधरा राजे-अमित शाह के बीच मुलाकात से राजस्थान BJP में हलचल, सियासी कयासबाजी तेज

वसुंधरा राजे की शाह से लंबे समय के बाद मुलाकात हुई है. (Photo- Twitter)

वसुंधरा राजे की शाह से लंबे समय के बाद मुलाकात हुई है. (Photo- Twitter)

Rajasthan Bjp Poliitics: दिल्ली में गृहमंत्री अमित शाह और राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे की मुलाकात से प्रदेश बीजेपी में हलचल मची हुई है. इस मुलाकात के कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं. इस मुलाकात को राज्य संगठन में चल रही खेमेबाजी और उठापटक से जोड़ कर देखा जा रहा है.

  • Share this:

जयपुर. पूर्व सीएम वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) की दिल्ली में केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) से हुई मुलाकात के बाद पार्टी में चर्चाओं का दौर तेज हो गया है. राजे ने खुद अपने ट्वीटर हैंडल पर इस मुलाकात की जानकारी दी है. राजे ने अपने ट्वीट में लिखा कि नई दिल्ली में केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात हुई. इस दौरान विभिन्न विषयों पर चर्चा की. राजे और शाह की इस मुलाकात को लेकर राज्य में अलग-अलग खेमों में बंटी बीजेपी में कयासबाजी तेज हो गई है.

राजे और शाह की मंगलवार को हुई इस मुलाकात का ब्यौरा हालांकि अभी तक बाहर नहीं आया है, लेकिन प्रदेश बीजेपी में इसे संगठन में चल रही उठापटक से जोड़कर देखा जा रहा है. राजस्थान कांग्रेस में बिखराव और गुटबाजी का आरोप लगाने वाली बीजेपी के संगठन में भी हाल ही में राजे और पूनिया दो खेमे होने की बात सामने आई थी. उसके बाद दोनों खेमों के समर्थकों की ओर से अलग-अलग कार्यकारिणी गठित किये जाने की चर्चाएं भी सोशल मीडिया में काफी छाई रही थी. हालांकि पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पूनिया ने इन सभी कयासों को सिरे से नकार दिया था, लेकिन कांग्रेस ने इस मुद्दे को लपक लिया था.

कांग्रेस को भी बीजेपी मिला मौका


बीजेपी में सामने आई इस कथित गुटबाजी के बाद कांग्रेस को भी उसे घेरने का मौका मिल गया था. कांग्रेस ने बीजेपी में गुटबाजी की इन चर्चाओं को स्थानीय निकाय चुनाव में भुनाने की कोशिश भी की थी. सीएम गहलोत और पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने भी इस पर तंज भी कसा था.

Youtube Video

मुलाकात के बाद सियासी चर्चाएं सरगर्म


राजे और शाह की इस मुलाकात के बात इस बात कयास लगाये जा रहे हैं कि इसमें अन्य राजनीतिक मुद्दो के अलावा प्रदेश संगठन के भीतर चल रही उठापटक पर भी चर्चा हुई है. बता दें कि निकाय चुनाव में कांग्रेस के मुकाबले बीजेपी पिछड़ गई थी, इस लिहाज से ही दोनों नेताओं की मुलाकात के कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज