लाइव टीवी

विधानसभा में गूंजा ओलावृष्टि का मामला, 5 जिलों में हुआ फसल को नुकसान
Alwar News in Hindi

Dinesh Sharma | News18 Rajasthan
Updated: March 2, 2020, 7:28 PM IST
विधानसभा में गूंजा ओलावृष्टि का मामला, 5 जिलों में हुआ फसल को नुकसान
विधायकों ने विधानसभा में फसल खराबे की जानकारी सदन में रखी. (प्रतीकात्मक तस्वीर/GettyImages)

29 फरवरी को हुई बारिश और ओलावृष्टि (hailstorm) ने कई हिस्सों में अन्नदाता पर कहर ढाया है. भरतपुर (bharatpur), अलवर (alwar), धौलपुर (dholpur) और झुंझुनूं (jhunjhunjhunu) जिले से आने वाले विधायकों ने विधानसभा में फसल खराबे की जानकारी सदन में रखी.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान प्रदेश में 29 फरवरी को हुई बारिश और ओलावृष्टि (hailstorm) ने कई हिस्सों में अन्नदाता पर कहर ढाया है. बारिश और ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों का मसला सोमवार को विधानसभा में गूंजा जिस पर सरकार की ओर से जवाब दिया गया. भरतपुर (bharatpur), अलवर (alwar), धौलपुर (dholpur) और झुंझुनूं (jhunjhunjhunu) जिले से आने वाले विधायकों ने अपने-अपने क्षेत्रों में हुई फसल खराबे की जानकारी सदन में रखी और प्रभावित किसानों को मुआवजे की पुरजोर तरीके से मांग की. विधायक मंजीत धर्मपाल, शकुन्तला रावत और रीटा चौधरी ने कहा कि उनके क्षेत्रों में बेर और लड्डू के आकार के ओले गिरे जिनका वजन 100 से 150 ग्राम का था. इस ओलावृष्टि से सरसों और गेहूं की फसल बर्बाद हो गई. विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा ने जहां सर्वे समुचित रूप से करवाने की मांग की तो विधायक रोहित बोहरा ने आलू की फसल में हुए खराबे का मामला उठाया. बोहरा ने कहा कि खेतों में पानी भरा होने से आलू की फसल खराब हो जाएगी लेकिन चूंकि आलू की फसल जमीन के अंदर होती है लिहाजा राजस्व और कृषि विभाग में समन्वय के बिना उसके खराबे का सही तरीके से आकलन नहीं हो पाएगा.

5 जिलों से मिली खराबे की सूचना
चर्चा का जवाब देते हुए आपदा प्रबंधन मंत्री भंवरलाल मेघवाल ने कहा कि भरतपुर, धौलपुर, अलवर, झुंझुनूं और बारां जिले के विभिन्न हिस्सों से 33 प्रतिशत से 50 प्रतिशत खराबे की प्रारम्भिक सूचनाएं मिली है. लेकिन गिरदावरी रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद ही सही स्थिति की जानकारी हो पाएगी. उन्होंने कहा कि प्रदेश में 5 मार्च तक गिरदावरी का काम जारी रहेगा लेकिन यदि जरुरत पड़ी तो इसके समय में बढोतरी भी की जाएगी. एसडीआरएफ के प्रावधानों के अनुसार 33 प्रतिशत से ज्यादा खराबे पर मुआवजे का प्रावधान है और दायरे में आने वाले सभी किसानों को मुआवजा मिले यह सुनिश्चित किया जाएगा. मंत्री ने यह भी कहा कि राजस्थान में नुकसान कम से कम दिखाने की परम्परा चली आ रही है लेकिन अब सरकार ने तय कर लिया है कि 33 प्रतिशत से ज्यादा खराबे वाले सभी किसानों को मुआवजा मिलेगा.

अधिकारियों को दिए हैं निर्देश



मंत्री भंवरलाल मेघवाल ने सदन में यह भी जानकारी दी कि विभाग के अधिकारियों को मामले में संवेदनशील रहने के निर्देश दिए गये हैं. वहीं आलू की फसल में हुए खराबे का भी समुचित आकलन करवाया जाएगा. उन्होंने कहा कि एक दिन में पूरे खराबे का सही आकलन नहीं हो सकता है लेकिन प्रभावित किसानों को पूरी राहत देने के प्रयास होंगे.



ये भी पढ़ें-

जयपुर पहुंचा कोरोना वायरस! दोबार पुष्टि के लिए सैंपल पुणे भेजा

Jaipur Today:एम्पावरिंग वुमन अवॉर्ड,जमीन समाधि सत्याग्रह के साथ 'नो व्हीकल डे'
First published: March 2, 2020, 7:28 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading