लाइव टीवी

108 Ambulance strike: कर्मचारी नेता वीरेंद्र सिंह गिरफ्तार, अब MLA की अगुवाई में सामूहिक गिरफ्तारी

News18Hindi
Updated: November 1, 2019, 1:14 PM IST
108 Ambulance strike: कर्मचारी नेता वीरेंद्र सिंह गिरफ्तार, अब MLA की अगुवाई में सामूहिक गिरफ्तारी
प्रदेश भर में जीवन वाहिनी सेवा एंबुलेंस 108 के पहिए थमे हुए हैं.

प्रदेश में एंबुलेंस-108 (108 Ambulance) और एंबुलेंस-104 सेवाएं दूसरे दिन शुक्रवार को भी ठप हैं. राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) के साथ पहली वार्ता विफल रहने से सूबे के मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2019, 1:14 PM IST
  • Share this:
जयपुर. राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) के साथ पहली वार्ता विफल रहने के बाद प्रदेश में एंबुलेंस-108 (108 Ambulance) और एंबुलेंस-104 सेवाएं दूसरे दिन शुक्रवार को भी ठप हैं. उधर, एंबुलेंस कर्मचारी नेता वीरेंद्र सिंह सहित चार हड़ताली कर्मचारियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया गया. इसके बाद एंबुलेंस कर्मचारी आक्रोशित नजर आ रहे हैं. आंदोलनरत कर्मचारी अब विधायक विधायक बलवान पूनिया के नेतृत्व में सामूहिक गिरफ्तारी के लिए राजधानी के ज्योति नगर थाने पहुंचे हैं. बता दें कि राजस्थान कर्मचारी संघ के आह्वान पर एंबुलेंस कर्मचारी गुरुवार को अनिश्चितकाल के लिए हड़ताल पर चले गए थे और इसी के साथ प्रदेश भर में जीवन वाहिनी सेवा एंबुलेंस 108 के पहिए थम गए. सरकार की नई निविदा के विरोध के साथ कर्मचारियों ने 7 मांगें रखी है. कर्मचारियों के अनुसार जब तक मांगें पूरी नहीं होंगी हड़ताल जारी रहेगी. बता दें कि इससे प्रदेश भर की 1400 एंबुलेंस रुकी हुई हैं.

मरीज होते रहे परेशान
प्रदेशभर में करीब 1400 एंबुलेंस जीवन वाहिनी के रूप में मरीजों को अस्पताल पहुंचाने का काम करती हैं. गुरुवार को हड़ताल के चलते एक्सिडेंट और गंभीर बिमार मरीजों को खासी परेशानी झेलनी पड़ी. फोन करने के बाद भी एंबुलेंस मौके पर नहीं पहुंची. अकेले जयपुर में सवाई मानसिंह अस्पताल के ट्रोमा सेंटर में ढाई साै के करीब मरीज पहुंचे लेकिन एंबुलेंस सेवाओं के बंद होने से कोई बाइक पर तो कोई टैक्सी से अस्पताल पहुंचा.

इसलिए हड़ताल पर

सरकार की ओर निकाली गई नई निविदा को लेकर कर्मचारियों में रोष है. कर्मचारियों के अनुसार यह उनके हित में नहीं है. इसके विरोध में उन्होंने अनिश्चितकालिन हड़ताल (Indefinite Strike) का रुख किया है.

इन मांगों पर थमे एंबुलेंस के पहिए
♦ 108 और 104 एंबुलेंस सेवा के लिए सरकार अलग से रिसीवर नियुक्त करे.
Loading...

♦ नई निविदा में वर्तमान में कार्यरत कर्मचारियों को ही सेवा में रखा जाए.
♦ एंबुलेंस ईएमटी (नर्सिंगकर्मी) का वेतन 16 हजार और पायलट (ड्राइवर) का वेतन 14,000 रुपये किया जाए.
♦ कर्मचारियों का वेतन हर साल 10 प्रतिशत बढ़ाया जाए.
♦ जहां एंबुलेंस रखी जाती हैं वहां कर्मचारियों को मूलभूत सविधा दी जाएं.
♦ श्रम कानून के तहत कर्मचारियों का कार्य समय 8 घंटे किया जाए.

ये भी पढ़ें- नगर पालिका चुनाव 2019: आज जारी होगी अधिसूचना, पांच नवंबर तक नामांकन
TOLL TAX पर गहलोत सरकार को हनुमान बेनीवाल ने दी आंदोलन की चेतावनी

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 11:02 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...