अपना शहर चुनें

States

Jaipur: गहलोत सरकार ने फोकस किया इन 19 योजनाओं पर ताकि निरोगी रहे राजस्थान

राजस्थान सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है. (File Photo)
राजस्थान सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है. (File Photo)

राज्य सरकार ने निरोगी राजस्थान समेत 19 योजनाओं को फ्लैगशिप योजनाओं (Flagship schemes) के रूप में घोषित किया है. सरकार ने कमजोर वर्ग के लोगों के सशक्तिकरण और उन्हें विकास की मुख्यधारा में जोड़ने के उद्देश्य से यह अहम निर्णय लिया है.

  • Share this:
जयपुर. राज्य सरकार ने निरोगी राजस्थान समेत 19 योजनाओं को फ्लैगशिप योजनाओं (Flagship schemes) के रूप में घोषित किया है. सरकार ने कमजोर वर्ग के लोगों के सशक्तिकरण और उन्हें विकास की मुख्यधारा में जोड़ने के उद्देश्य से यह अहम निर्णय लिया है. इन योजनाओं की नियमित तौर पर मॉनिटरिंग (Monitoring) होगी. जिला प्रभारी मंत्री, प्रभारी सचिव और संबंधित जिला कलक्टर इनकी मॉनिटरिंग करेंगे. सरकार का मकसद लोक कल्याणकारी योजनाओं को अंतिम छोर पर बैठे व्यक्ति तक पहुंचाना है.

'निरोगी राजस्थान योजना' फ्लैगशिप योजना के रूप में शामिल
आयोजना विभाग के प्रमुख शासन सचिव अभय कुमार ने बताया कि फ्लै​गशिप योजनाओं में शुद्ध के लिए युद्ध, निरोगी राजस्थान, मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा योजना, मुख्यमंत्री निःशुल्क जांच योजना, आयुष्मान भारत महात्मा गांधी राजस्थान स्वास्थ्य बीमा योजना, एक रुपए किलो गेहूं, महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम स्कूल, मुख्यमंत्री कन्यादान /हथलेवा योजना, सिलिकोसिस पॉलिसी 2019 के अन्तर्गत देय लाभ और मुख्यमंत्री एकल नारी सम्मान पेंशन योजना को शामिल किया गया है.

ये योजनांए भी हैं शामिल
इनके साथ ही मुख्यमंत्री वृद्धजन सम्मान पेंशन योजना, मुख्यमंत्री विशेष योग्यजन सम्मान पेंशन योजना, पालनहार योजना, राजस्थान कृषि प्रसंस्करण, कृषि व्यवसाय एवं कृषि निर्यात प्रोत्साहन योजना 2019, मुख्यमंत्री स्माल स्केल इंडस्ट्रीज प्रमोशन स्कीम, एमएसएमई एक्ट- स्व प्रमाणीकरण, राजस्थान इन्वेस्टमेंट प्रमोशन स्कीम (आरआईपीएस) 2019, जन-सूचना पोर्टल एवं जन आधार योजना को भी पलैगशिप योजनाओं में शामिल किया गया है.



कलक्टर स्तर पर होगी मॉनिटरिंग
प्रमुख शासन सचिव अभय कुमार ने बताया कि फ्लैगशिप योजनाओं का उद्देश्य लोगों के जीवन स्तर में व्यापक स्तर पर सुधार लाना है. साथ ही यह सुनिश्चित करना है कि विकास व्यापक रूप से फैले ताकि आय और रोजगार के मामले में इसका लाभ समाज के गरीब और कमजोर वर्गों को पर्याप्त रूप से प्राप्त हो सके.

धन की कमी नहीं होने से कार्यक्रम और उद्देश्य प्रभावित नहीं होते
फ्लैगशिप कार्यक्रमों के लिए एक बड़ा कोष आवंटित किया जाता है. इनके लिए पैसे की कमी नहीं के होने के कारण कार्यक्रम और इसके उद्देश्य प्रभावित नहीं होते हैं. इन फ्लैगशिप योजनाओं की नियमित मॉनीटरिंग संबंधित विभागों के साथ-साथ जिले के प्रभारी मंत्रियों, सचिवों एवं संबंधित जिला कलक्टर स्तर पर की जाएगी.

राजस्थान हाईकोर्ट का आदेश- लॉकडाउन के समय नहीं माफ होगी स्कूल फीस 

Rajasthan: गहलोत सरकार ने स्टाम्प ड्यूटी पर 10% सरचार्ज बढ़ाया, आम आदमी पर भार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज