गहलोत सरकार नये साल पर तैयार कर रही है जनसुनवाई का त्रि-स्तरीय ढांचा, यह है मेगा प्लान

इसके लिये गठित कैबिनेट सब कमेटी फाइनल ड्राफ्ट बनाकर सीएम गहलोत को भेजेगी.

इसके लिये गठित कैबिनेट सब कमेटी फाइनल ड्राफ्ट बनाकर सीएम गहलोत को भेजेगी.

अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) लोगों की समस्याओं का जल्द से जल्द समाधान करने के लिये जन सुनवाई (Public Hearing) का त्रि-स्तरीय ढांचा तैयार कर रही है. इसे जल्द ही अमल में लाया जायेगा.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) नये वर्ष में आमजन की समस्याओं के समाधान के लिए नई सौगात देने जा रही है. आमजन की जन सुनवाई (Public Hearing) तीन स्तरों पर की जायेगी. इसमें कलस्टर, उपखण्ड और जिला स्तर पर जन सुनवाई करने की विस्तृत योजनाओं को अंतिम रूप देने की कवायद की जा रही है.

जनसुनवाई का प्रारूप कैसा हो इसको लेकर जलदाय मंत्री बी डी कल्ला की अध्यक्षता में गठित कैबिनेट सब कमेटी ने कमेटी में शामिल छह मंत्रियों को सुझाव देने के निर्देश दिए गये हैं. इसके लिये सचिवालय में कैबिनेट सब कमेटी की पहली बैठक भी हो चुकी है. सोमवार को इसकी दूसरी बैठक होगी.

फाइनल ड्राफ्ट सीएम गहलोत को भेजा जाएगा

कैबिनेट सब कमेटी के अध्यक्ष जलदाय मंत्री बीडी कल्ला ने कहा कि पहली बैठक में जनसुनवाई के प्रारूप के ड्राफ्ट पर चर्चा हो चुकी है. सभी मंत्रियों ने अपने-अपने सुझाव दिए हैं. उन सुझावों पर मिनट्स बनाने के निर्देश दिए गए हैं. 4 जनवरी सोमवार को अगली बैठक होगी. बैठक में जो मिनिट्स तैयार होंगे. उनका फाइनल ड्राफ्ट तैयार कर मुख्यमंत्री को भेजा जाएगा.
6 मंत्रियों ने 7 बिंदुओं पर किया मंथन

कमेटी में शामिल 6 मंत्रियों ने 7 बिंदुओं पर गहन मंथन किया. जन सुनवाई के लिए तीन स्तर जिनमें कलस्टर, उपखंड और जिला स्तर पर सुनवाई किया जाना तय किया गया है. जिला सतर्कता समिति एवं उपखंड सतर्कता समिति की बैठक एक दिन रखी जाए या फिर अलग-अलग इस पर कई सुझाव आये हैं. संपर्क पोर्टल पर आई जन सुनवाई के प्रकरणों को लेकर समाधान का मॉड्यूल बनाया जाए. संपर्क पोर्टल पर पूर्व में दर्ज प्रकरणों में से संबंधित परिवादों की जनसुनवाई किये जाने के बाद उनको दोबारा दर्ज किया जाये नहीं. प्रभारी सचिव की जनसुनवाई की मॉनिटरिंग किस तरह किए जाये. जनसुनवाई में पारदर्शिता किस तरह लाई जाये. इन बिन्दुओं समेत अन्य पर चर्चा की गई है. आज इन पर फिर से चर्चा की जायेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज