अपना शहर चुनें

States

राजस्थान: सत्ता-संगठन के बीच तालमेल के लिए गहलोत सरकार का नया फॉर्मूला, अब कार्यकर्ताओं को मिलेगी ज्यादा तरजीह

राजस्थान कांग्रेस ने कार्यकर्ताओं के लिए खास प्लान तैयार किया है.
राजस्थान कांग्रेस ने कार्यकर्ताओं के लिए खास प्लान तैयार किया है.

 कार्यकर्ता अपनी उपेक्षा के आरोप अपनी ही पार्टी की सरकार पर लगाते हुए दिखाई देते हैं, लेकिन अब ऐसी स्थितियों से निपटने के लिए प्रदेश कांग्रेस (Congress) ने एक फॉर्मूला तैयार किया है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) में सरकार की प्राथमिकताएं अब कांग्रेस कार्यकर्ताओं के सुझावों और मंशा के अनुरूप तय होंगी. सत्ता और संगठन में बेहतर तालमेल के लिए यह फॉर्मूला तैयार किया गया है. इससे जहां कार्यकर्ता पार्टी के साथ जुड़ाव महसूस करेंगे, वहीं योजनाओं की जानकारी भी ज्यादा मनोयोग के साथ आम जनता तक पहुंचाएंगे. सत्ता और संगठन के बीच आम तौर पर मनमुटाव जैसी स्थितियां देखने को मिलती है. कार्यकर्ता अपनी उपेक्षा के आरोप अपनी ही पार्टी की सरकार पर लगाते हुए दिखाई देते हैं, लेकिन अब ऐसी स्थितियों से निपटने के लिए प्रदेश कांग्रेस ने एक फॉर्मूला तैयार किया है.

सत्ता और संगठन के बीच बेहतर तालमेल के लिए ये फॉर्मूला तैयार किया गया है जिसके तहत सरकार की प्राथमिकताएं तय करने में कार्यकर्ताओं की अहम भूमिका होगी. अब कांग्रेस कार्यकर्ता आमजन से जुड़ी समस्याओं से संगठन को अवगत करवाएंगे और इसके बाद पार्टी के अधिवेशन में संगठन इन पर मुहर लगाकर सरकार के पास भिजवाएगा. संगठन की बैठक में यह तय होगा कि सरकार किन परेशानियों पर पहले फोकस करे. सरकार इन प्रस्तावों के अनुरूप अपनी प्राथमिकताएं और योजनाएं तय करेगी. कांग्रेस के इस फॉर्मूले से कार्यकर्ताओं को लगेगा कि सरकार उनके कहे अनुसार काम कर रही है और पार्टी से उन्हें जुड़ाव महसूस होगा. कार्यकर्ताओं को जब लगेगा कि सरकार उनका मान-सम्मान कर रही है तो वो ज्यादा उत्साह के साथ काम करेंगे और सरकार द्वारा किए गए कामों को ज्यादा मनोयोग के साथ आम लोगों तक पहुंचाएंगे.

ये भी पढ़ें: UP: कांग्रेस नेता दीपक सिंह ने सभापति को लिखा खत, विधानभवन से सावरकर की तस्वीर हटाने की मांग



सरकार ने कार्यकर्ताओं के लिए बनाया खास प्लान
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की भी यह मंशा है कि कार्यकर्ता आमजन से जुड़ी समस्याओं के प्रस्ताव तैयार करें और उन्हें संगठन द्वारा पास कर सरकार के पास भेजा जाए. यह बात मुख्यमंत्री कई बार बोल भी चुके हैं. वहीं पिछले दिनों पार्टी के प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने भी यही बात बोली थी. पार्टी प्रदेशाध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा का कहना है कि सरकार की मंशा आम जनता को गुड गवर्नेंस देना है. इसे कैसे बेहतर किया जा सकता है. इसे लेकर लगातार कवायद की जा रही है. वहीं सरकार अच्छी योजनाएं लांच करे और आम जनता को इनका बेहतर तरीके से लाभ मिल पाए इसमें भी यह फॉर्मूला कारगर साबित होगा. कार्यकर्ताओं की आशाएं और अपेक्षाएं इस फॉर्मूले से पूरी होंगी. उन्हें लगेगा कि सरकार के साथ उनका सीधा जुड़ाव है और सरकार उनकी भावना के अनुरूप काम कर रही है. कार्यकर्ताओं के प्रस्तावों के अनुरूप प्राथमिकताएं और योजनाएं तय होंगी तो वे उनके प्रचार-प्रसार में भी तन-मन से जुटेंगे जिसका फायदा सरकार और संगठन को होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज