Home /News /rajasthan /

ashok gehlot govt sports minister ashok chandna offered resignation via tweet taunts kuldeep ranka politics cgpg

गहलोत सरकार के खेल मंत्री अशोक चांदना ने की इस्तीफे की पेशकश, कहा- 'जलालत भरे पद से मुक्त करें'

Rajasthan News: राजस्थान के खेल मंत्री अशोक चांदना ने इस्तीफे की पेशकश की है.

Rajasthan News: राजस्थान के खेल मंत्री अशोक चांदना ने इस्तीफे की पेशकश की है.

Rajasthan Politics: राजस्थान में सियासी बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है. अब गहलोत सरकार के खेल मंत्री अशोक चांदना ( Rajasthan Sports Minister Ashok Chandna) ने इस्तीफे की पेशकश की है. उन्होंने एक ट्वीट करते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) से पद मुक्त करने की बात कही है. माना जा रहा है कि अशोक चांदना सीएम के प्रमुख सचिव कुलदीप रांका (Kuldeep Ranka) से नाराज हैं. उन्होंने अपने ट्वीट में अपने विभाग की सारी जिम्मेदारी रांका को सौंपने की भी बात कही है.

अधिक पढ़ें ...

जयपुर. राज्यसभा चुनाव से पहले राजस्थान कांग्रेस में कलह लगातार बढ़ती जा रही है और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मुश्किल बढ़ती जा रही है. अब सीएम गहलोत की करीबी माने जाने वाले युवाओं खेल मामलों के मंत्री अशोक चांदना चांदना ने इस्तीफे की पेशकश कर दी है. चांदना ने मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव कुलदीप राका पर सभी विभागों पर कब्जे का आरोप जड़ते हुए कहा कि सभी विभाग वही चला रहे हैं तो फिर उनके मंत्री रहने का क्या मतलब. उन्हें जलालत से मुक्त करें. सिर्फ चांदना ही नाराज नहीं है. एक दिन पहले ही कांग्रेस विधायक राजेंद्र बिधूड़ी ने आरोप लगाया कि पुलिस हावी है. जनता और कांग्रेस कार्यकर्ताओं की सुनवाई नहीं हो रही है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह मेरिट भर्ती परीक्षा के घोटाले की सीबीआई जांच से इसलिए डर रहे हैं कि कही उनके एक नजदीकी मंत्री जेल न चले जाएं.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सलाहकार संयम लोढ़ा ने भी गृहमंत्री का नाम लेकर परोक्ष रूप से उन पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि विधानसभा में मामला उठाने के बावजूद गृह मंत्रालय और पुलिस एक मामले में कार्रवाई नहीं कर रही है और निर्दोष को फंसा रही है. इस बीच गहलोत सरकार के एक और मंत्री नाराज विधायक और मंत्री के समर्थन में उतर आए.

मंत्री खाचरियावास ने दिया बड़ा बयान

खाद्य नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि  मंत्री-विधायक की बात सुनी जानी चाहिए. इससे पहले राज्यसभा चुनाव में दावेदारी के मसले पर कांग्रेस के एक विधायक गणेश घोघरा ने दिल्ली में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव केसी वेणुगोपाल से डूंगरपुर के जिला अध्यक्ष की शिकायत की और कहा कि पार्टी किसी कीमत पर  जिला अध्यक्ष  दिनेश को खोडनिया को टिकट न दें.

खोडनिया  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नजदीकी माने जाते हैं और राज्यसभा टिकट के लिए दावेदार माने जा रहे हैं. गणेश घोघरा विधायक पद से भी इस्तीफा दे चुके हैं. हालांकि अभी तक उनका इस्तीफा मंजूर नहीं हुआ लेकिन गोगरा अभी तक इस्तीफा वापस लेने को तैयार नहीं हुए.

कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव धीरज गुर्जर ने साधा गहलोत सरकार पर निशाना

राजस्थान सीड कॉरपोरेशन के चेयरमैन और कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव धीरज गुर्जर ने भी गहलोत सरकार पर निशाना साधा है और अफसरशाही पर हमला बोला कहा कि अफसर सरकार की कब्र खोद रहे हैं. धीरज गुर्जर उत्तर प्रदेश में प्रियंका गांधी के साथ कांग्रेस के सह प्रभारी हैं. प्रियंका गांधी के करीबी नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने मंत्री अशोक चांदना के ट्वीट पर गहलोत पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि खराबी इंजन में है और आप डिब्बे बदलने की बात कर रहे है. इससे पहले आचार्य प्रमोद कृष्णन में एक और ट्वीट किया और धीरज गुर्जर के ट्वीट पर लिखा की राजस्थान में सच बोलना गुनाह है और आपको भी सचिन पायलट समर्थक मान लिया जाएगा.

राजस्थान के उपनेता प्रतिपक्ष और वरिष्ठ बीजेपी नेता राजेंद्र राठौर ने इस मामले पर गहलोत सरकार को घेरते हुए अपनी प्रतिक्रिया में कहा, “एक मंत्री कोई बात कहता है तो ये माना जाता है सामूहिक मंत्रीमंडल का ये कहना है. दुर्भाग्यपूर्ण है. काग्रेस की सत्ता मे इतने छेद हो गये हैं कि पानी बहुत तेजी से भर रहा है. गणेश घोघरा हो या एक के बाद एक. इस प्रकार के आपाधापी का वातावरण बना हुआ है. सरकार में जनप्रतिनिधि घुटनों पर रेंग रहे हैं. अपमान की राजनीति चरम पर है. सचिन पायलट के जो हालात हैं. सीएम ने खुद कहा था मैने एक साल तक उनसे संवाद नहीं किया. अशोक चांदना ने मंत्री पद को जलालत भरा बताया है.”

Tags: Ashok gehlot, Jaipur news, Rajasthan Congress, Rajasthan news, Rajasthan Politics

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर