होम /न्यूज /राजस्थान /Rajasthan political crisis: गहलोत ने उठाए सवाल, कहा- यह नौबत क्यों आई? रिसर्च की है जरूरत

Rajasthan political crisis: गहलोत ने उठाए सवाल, कहा- यह नौबत क्यों आई? रिसर्च की है जरूरत

गहलोत ने कांग्रेस अध्यक्ष के पद के लिए खड़गे को बेहद अनुभवी बताते हुए कहा कि शशि थरूर से उनकी तुलना ही नहीं की सकती.

गहलोत ने कांग्रेस अध्यक्ष के पद के लिए खड़गे को बेहद अनुभवी बताते हुए कहा कि शशि थरूर से उनकी तुलना ही नहीं की सकती.

Congress Politics: राजस्थान में आए राजनीतक संकट पर अब धीरे-धीरे सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) मुखर होने लगे हैं. गहलोत ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

राजनीतिक संकट के एक सप्ताह बाद अब मुखर होने लगे अशोक गहलोत
गहलोत ने खड़गे की पैरवी करते हुए कहा कि उन्हें संगठन का काफी अनुभव है
अशोक गहलोत ने शशि थरूर को लेकर कहा कि वे अच्छे हैं लेकिन एलिट क्लास के हैं

जयपुर. राजस्थान में उपजे राजनीतिक संकट (Rajasthan political crisis) पर अब सीएम अशोक गहलोत ने सवाल उठाए हैं. गांधी जयंती के मौके पर अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा कि उन पर आया संकट विफल कर दिया है. गहलोत ने सवाल उठाते हुए कहा कि लेकिन इस पर रिसर्च की जरूरत है कि राजस्थान में आखिर यह स्थिति क्यों बनी? राजनीतिक संकट पर अशोक गहलोत ने कहा कि वे अपना काम कर रहे हैं. आगे फैसला आलाकमान को करना है. बकौल गहलोत मैंने सोनिया गांधी से कहा कि 50 साल में पहली बार मैंने देखा कि हम एक लाइन का प्रस्ताव पारित नहीं करवा पाए. जबकि वह हमारी ड्यूटी थी, लेकिन यहां पर यह स्थिति क्यों बनी? इस पर रिसर्च की जरूरत है.

गहलोत ने कहा कि यह नौबत क्यों आई कि यहां के विधायक मेरी बात मानने को ही तैयार नहीं थे? स्पीकर के पास इस्तीफा देकर आ गए! शायद उन्हें डर था कि अब मैं दिल्ली जा रहा हूं तो हमें किसके भरोसे छोड़ कर जा रहे हैं? इस दौरान गहलोत ने कहा कि बीजेपी आगे भी सरकार को डिस्टर्ब करने की कोशिश करेगी लेकिन प्रदेशवासियों का सहयोग उनके साथ है. तभी वे बार-बार कहते हैं कि वे उनसे दूर कैसे हो सकते हैं.

‘मैं CM रहूं या ना रहूं 102 MLA को नहीं भूल सकता…’ बोल गहलोत ने BJP को फिर घेरा

खड़गे अनुभवी उन्हें थरूर से कंपेयर नहीं कर सकते
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कांग्रेस अध्यक्ष के पद के लिए खड़गे को बेहद अनुभवी बताते हुए कहा कि शशि थरूर से उनकी तुलना नहीं ही नहीं सकती. शशि थरूर भी अच्छे हैं लेकिन एलिट क्लास के हैं. संगठन का अनुभव खड़गे के साथ है जो कि थरूर के साथ कंपेयर हो ही नहीं सकता. पीसीसी के डेलिगेट्स भी खड़गे से अपने आप को कनेक्ट करेंगे क्योंकि वे भी संगठन को समझते हैं.

अध्यक्ष बनता तो 102 विधायक के साथ नाइंसाफी होती
इस दौरान गहलोत ने दो साल पहले सरकार पर आए संकट को याद करते हुए कहा कि मैं उन 102 विधायकों का साथ नहीं छोडूंगा जिन्होंने संकट के समय सरकार बचाने में सहयोग दिया था. उन्होंने कि कहा कि वे अगर कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनते तो यह 102 विधायक के साथ नाइंसाफी होती. मीडिया से रू-ब-रू होते हुए गहलोत ने बीजेपी पर भी फिर से हमला बोला और हॉर्स ट्रेडिंग का बड़ा आरोप लगाया.

Tags: Ashok gehlot news, Congress politics, Rajasthan Congress, Rajasthan news, Rajasthan Political Crisis, Sachin pilot

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें