बेटे को टिकट दिलाने पर राहुल गांधी की नाराजगी के बाद अशोक गहलोत ने तोड़ी चुप्पी, बोले...

कांग्रेस शासित मुख्यमंत्रियों के बेटों को टिकट दिलाने पर राहुल गांधी की नाराजगी के बाद अशोक गहलोत ने चुप्पी तोड़ दी है और मीडिया के सवालों का विस्तार से जवाब दिया है.

News18 Rajasthan
Updated: May 27, 2019, 5:07 PM IST
बेटे को टिकट दिलाने पर राहुल गांधी की नाराजगी के बाद अशोक गहलोत ने तोड़ी चुप्पी, बोले...
अशोक गहलोत और राहुल गांधी (File Photo)
News18 Rajasthan
Updated: May 27, 2019, 5:07 PM IST
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दिल्ली में हुई कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के बेटों को लोकसभा चुनाव का टिकट देने पर नाराज़गी जताई थी. उनकी नाराजगी उन मुख्यमंत्रियों पर ज्यादा थी, जिन्होंने बेटे को टिकट दिलाने के लिए दबाव बनाया था. उस मुद्दे पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की प्रतिक्रिया आई है.

ये भी पढ़ें- हार के बाद कांग्रेस में सियासी घमासान, गहलोत वर्सेज पायलट जंग फिर शुरू?



अशाेक गहलोत के बेटे जोधपुर से लोकसभा चुनाव लड़े थे और भाजपा उम्मीदवार व केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत से बड़े अंतर से चुनाव हार गए थे.

कहां कमी रही, ये कहने का उन्हें अधिकार है: गहलोत

दिल्ली में मीडिया से बातचीत में अशोक गहलोत ने कहा, 'राहुल गांधी जी को अधिकार है कहने का, क्योंकि वह कांग्रेस अध्यक्ष हैं. किस नेता की कहां कमी रही कैंपेन के अंदर, किस नेता की निर्णय में कहां कमी रही? यह कहने का उन्हें अधिकार है. ऐसे वक्त में जब पोस्टमार्टम हो रहा है तो स्वाभाविक है कि यह कांग्रेस प्रेसिडेंट का अधिकार है कि वह कमियां बताएंगे सबको. हम लोगों ने उस पर डिस्कशन किए हैं. जो बातें अखबारों में आती हैं, किस संदर्भ में उन्होंने कही हैं, वे संदर्भ खत्म हो जाते हैं. मीडिया में जब संदर्भ से हटकर जब बात होती है तब उसके मायने दूसरे हो जाते हैं उस पर मैं कोई कमेंट नहीं करना चाहता.'

'राहुल के इस्तीफे को पूरी वर्किंग कमेटी ने रिजेक्ट किया है'

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत यहां हार की समीक्षा के लिए बुलाई गई कांग्रेस की बैठक में शामिल होने आए थे. बैठक के बाद मीडिया के सवाल पर सीएम गहलोत ने कहा, 'पहले भी ऐसा समय आ चुका है, जिसमें हम कमजोर रहे, लेकिन बाद में पार्टी उबरी और सत्ता में भी आई.' राहुल गांधी के इस्तीफे की पेशकश पर गहलोत ने कहा,
Loading...

वह बात तो वर्किंग कमेटी में सबके सामने आ चुकी है. उन्होंने पेशकश की पर पूरी वर्किंग कमेटी ने एकजुट होकर एक स्वर से उसको रिजेक्ट कर दिया. उनको कहा गया कि आपको ही कमान संभालनी है.


ये भी पढ़ें- गहलोत का नहीं चला जादू, पायलट भी फेल, पढ़ें- सियासत पर असर

राहुल गांधी में ही मोदीजी का और एनडीए का सामना करने का दमखम है, जो उन्होंने 5 साल तक दिखाया. हार से हम लोग कोई घबराने वाले नहीं है, हार सकते हैं पर कांग्रेसजनों के अंदर हिम्मत में कोई कमी नहीं आई है. गहलोत का कहना है कि राहुल गांधी ने देश में मुद्दा आधारित राजनीति की है और देश इसे एप्रिशिएट करता है. चाहे वोट हमें मिले हो या नहीं मिले हो पर हर व्यक्ति के जुबान पर है कि यह इंसान दिल से बोलता है. उन्होंने कहा कि झूठ शॉर्ट टर्म के लिए जीत सकता है पर अंतिम जीत सत्य जीत की होती है.

ये भी पढ़ें-

राहुल गांधी बोले- कमलनाथ, गहलोत ने पार्टी से ऊपर रखा परिवार, बेटों को टिकट दिलाने पर लगाया जोर

देश को कांग्रेस की जरूरत है और ये कभी खत्म नहीं हो होगी- अशोक गहलोत
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...