लाइव टीवी

'गुर्जर आरक्षण' पर गहलोत ने पायलट को थमाया माइक, कहा- आप सरकार भी और पार्टी भी

Bhawani Singh | News18India
Updated: February 7, 2019, 12:51 AM IST

जरा कैमरे से देखिए...कैसे गुर्जर आरक्षण का मुद्दा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच फुटबाल बना...

  • News18India
  • Last Updated: February 7, 2019, 12:51 AM IST
  • Share this:
गुर्जरों ने आरक्षण की मांग को लेकर आठ फरवरी से राजस्थान में रेलवे ट्रेक जाम करने का अल्टीमेटम दिया, लेकिन राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुर्जर आरक्षण पर सरकार का रुख साफ करने के बजाय कहा इसका जबाब वे नहीं सचिन पायलट देंगे. ये कहते हुए सीएम ने माइक डिप्टी सीएम पायलट के तरफ खिसका दिया. पायलट ने भी पूछ लिया- मैं क्यों आप क्यों नहीं? बाद में पायलट ने कहा कि केंद्र सरकार अगड़ी जातियों की तरह ही गुर्जरों को भी आरक्षण दे.

ये भी पढ़ें- कर्जमाफी से वसुंधरा को नहीं मिला फायदा, अब गहलोत की लगेगी नैया पार?

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से बुधवार को प्रदेश कांग्रेस दफ्तर में जब सवाल पूछा कि गुर्जरों के इस अल्टीमेटम पर सरकार क्या कर रही है? गहलोत ने इस सवाल का जवाब देने के बजाय मुस्कराते हुए माइक सचिन पायलट की ओर शिफ्ट किया. पायलट सकपकाए और पत्रकारों से पूछा कि आप सरकार से पूछ रहे हैं या पार्टी से? गहलोत ने फिर पायलट को कहा आप सरकार भी और पार्टी भी. इसके बाद एक साथ सभी लोग ठहाके लगाने लगे.

दरअसल, गुर्जर आरक्षण की मांग को लेकर फिर रेलवे ट्रैक जाम करने की तैयारी कर रहे हैं. गुर्जर नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला ने अजमेर में महापंचायत में ऐलान किया कि 7 फरवरी तक अगर सरकार उन्हें अलग से पांच फीसदी आरक्षण नहीं देगी, तो आठ फरवरी से राजस्थान में चार जगह पर दिल्ली- मुंबई रेलवे ट्रेक जाम कर देंगे. गुर्जरों की इस धमकी पर राजस्थान सरकार के चेहरे पर चिंता के बजाय सियासत के भाव ज्यादा दिखे.

ये भी पढ़ें- गहलोत सरकार के कर्जमाफी शिविरों पर मंडराने लगा ये खतरा!

ये भी पढ़ें- कल से गहलोत सरकार लगाएगी कर्जमाफी शिविर, यहां पढ़ें- पूरा कार्यक्रम

सवाल पूछा गया कि, गुर्जरो ने आठ तारीख से अल्टीमेटम दे रखा है...क्या कर रहे हैं? जबाब देने के सीएम गहलोत ने जवाब के बजाय मुस्कराए और माइक पायलट की ओर खिसकाया. इस पर डिप्टी सीएम पायलट ने कहा, आप किससे पूछ रहे हैं सरकार से या पार्टी से? इस पर गहलोत फिर मुस्कराए और कहा, 'आप दोनों हैं'.जब सचिन पायलट को अहसास हो गया कि गहलोत गुर्जर आरक्षण का तीर उनकी ओर कर चुके हैं. तब पायलट ने गुर्जरो को आरक्षण देने य़ा नहीं देने या फिर ट्रेक पर बैठने पर कार्रवाई करने को लेकर कुछ नहीं कहा. लेकिन गुर्जर आरक्षण की गेंद केंद्र की बीजेपी सरकार के पाले में डालते हुए गुर्जरों की वे मांग दोहरा दी, जो गुर्जर राजस्थान सरकार से कर रहे हैं. पायलट ने केंद्र सरकार से मांग की कि अगड़ी जातियों की जिस तरह से दस फीसदी आरक्षण दिया उसी तर्ज पर गुर्जरों को दे दे. लेकिन ये भी दोहराया कि उनकी सरकार गुर्जरों को इंसाफ दिलाने का चुनावी वादा पूरा करेगी.

अपने चुनाव घोषणा पत्र में वादा किया उसे पूरा करेंगे गुर्जरों को कानूनी इंसाफ दिलाने का केंद्र सरकार ने जिस तरह अगड़ी जातियों को आरक्षण दिया गुर्जरो को भी दे दे.
सचिन पायलट, उप मुख्यमंत्री राजस्थान


अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच इस माइक शिफ्टिंग के सियायी मायने है. दरअसल इससे पहले सचिन पायलट ने बयान दिया कि पार्टी ने उन्हें उप मुख्यमंत्री बना दिया, ऐसे में उनके परिवार से कोई भी लोकसभा टिकट के लिए दावा पेश नहीं करेगा. पायलट ने कहा कि पार्टी ने मुझे डिप्टी सीएम बनाया, ऐसे में लोकसभा टिकट पार्टी कार्यकर्ताओं को दिया जाना चाहिए, बजाय की परिवार को. माना जा रहा है कि पायलट का ये निशाना मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर है. गहलोत के बेटे वैभव गहलोत की ओर से लोकसभा टिकट के लिए दावेदारी की जा रही है.

मैं साफ कर दूं कि मेरे परिवार से कोई लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेगा. जब पार्टी ने मुझे डिप्टी सीएम बनाकर इतना बड़ा पद दिया तो अब लोकसभा टिकट के लिए कार्यकर्ताओं को मिलना चाहिए.
सचिन पायलट, उप मुख्यमंत्री राजस्थान


दरअसल, राजस्थान में सरकार और पार्टी में अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच चल रही सियासी जंग थमी नहीं, पर्दे के पीछे जारी है. माइक शिफ्टिग और ये बयानबाजी उसी टकराव का नतीजा है. गहलोत ने पायलट की ओर माइक शिफ्ट करके ये दिखाने की कोशिश कि कि वे गुर्जर नेता हैं और गुर्जरों के अल्टीमेटम को वे ही डील करेंगे. यानी गुर्जर आरक्षण से निपटना अब पायलट के जिम्मे. गहलोत ने एक तरह से सरकार पर मंडरा रहे संकट के बादल को पायलट की ओर सरका दिया. अगर गुर्जर बेकाबू होते हैं, ट्रेक जाम कर कानून हाथ में लेते हैं तो गुर्जरों के आंतक का ठीकरा पायलट पर. संदेश साफ है कि वे ही इसका रास्ता खोजें.
ये भी पढ़ें- 



एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 6, 2019, 9:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर