Rajasthan: विश्वास मत जीतने के बाद बोले पायलट- जीवन की आखिरी सांस तक मैं प्रदेश के लिए समर्पित हूं
Jaipur News in Hindi

Rajasthan: विश्वास मत जीतने के बाद बोले पायलट- जीवन की आखिरी सांस तक मैं प्रदेश के लिए समर्पित हूं
विधायक के तौर पर विधानसभा सत्र में शामिल हुए सचिन पायलट. (File)

Rajasthan Assembly Session Update: विधानसभा सत्र के दौरान सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने कहा, 'सदन में कौन कहा बैठता है ये महत्वपूर्ण नहीं है. लोगों के दिल और दिमाग में क्या चल रहा है ये जानना ज्यादा जरूरी है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में तकरीबन एक महीने से चल रहे पॉलिटिकल ड्रामे के बीच शुक्रवार को विधानसभा सत्र में गहलोत सरकार (Gehlot Government) ने बहुमत हासिल कर लिया. विशेष सत्र में ध्वनि मतों से विश्वास मत प्रस्ताव को पारित किया गया. वहीं, विधानसभा सत्र के बाद सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने कहा, 'पहले मैं सरकार का हिस्सा था. आज नहीं हूं, लेकिन यहां पर कौन कहां बैठता है ये महत्वपूर्ण नहीं है. लोगों के दिल और दिमाग में क्या है ये ज्यादा महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा, जीवन की आखिरी सांस तक मैं इस प्रदेश के लिए समर्पित हूं. मालूम हो कि अपनी ही पार्टी और सरकार से बगावत के चलते सचिन पायलट को डिप्टी सीएम और पीसीसी चीफ के पद से हटा दिया गया था. सदन में वे एक विधायक के तौर पर शामिल हुए. इस वजह से सदन में उनकी सीटिंग बदल दी गई थी.

विधानसभा सत्र के दौरान सचिन पायलट ने कहा, चाहे वो मेरा दोस्त हो या साथी हो. हम लोगों ने जिस डॉक्टर के पास मर्ज को बताना था बता दिया. इलाज करवाने के बाद हम सब सवा सौ लोग सदन में खड़े हैं. उन्होंने कहा, इस सरहद पर चाहे कितनी भी गोलाबारी हो मैं कवच ढाल, गदा और भाला बनकर सब सुरक्षित रखूंगा. सदन में सीट बदलने पर सचिन पायटल ने कहा, पहले जब मैं वहां बैठता था तो मैं सुरक्षित था सरकार का हिस्सा था. बकौल पायलट, ' फिर मैंने सोचा की मेरे अध्यक्ष और चीफ व्हिप ने मेरी सीट यहां क्यों की है. तब मैंने देखा कि ये सरहद है और सरहद पर किसे भेजा जाता है, सबसे मजबूत योद्धा को'.
ये भी पढ़ें: राजस्थान: गहलोत ने साबित किया बहुमत, विश्वास मत जीता, 21 अगस्त तक सदन स्थगित 

सीएम गहलोत ने बीजेपी पर साधा निशाना



सदन में सीएम अशोक गहलोत ने बीजेपी पर जमकर निशाना साधा. सीएम गहलोत ने कहा, 'राजस्थान में फोन टैपिंग की परम्परा नहीं रही है. सरकार गिराने का पूरा षड्यंत्र था. देश में लोकतंत्र खतरे में है. केवल 2 लोग राज कर रहे हैं'. सीएम गहलोत ने कहा कि बीजेपी के लोग बगुला भक्त बन रहे हैं. तंज कसते हुए उन्होंने कहा, 100 चूहे खाकर बिल्ली हज को चली. मैं 69 साल का हो गया, 50 साल से राजनीति में हूं. मैं आज लोकतंत्र को लेकर चिंतित हूं. उन्होंने बताया कि भैरोंसिंह शेखावत सरकार को गिराने का षड्यंत्र हुआ था. मैं उस समय पीसीसी चीफ था. मैं पीएम और राज्ययपाल के पास गया. मैंने षड्यंत्र में शामिल होने से इनकार किया. मैंने चुनी हुई सरकार को गिराने से इनकार किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज