अपना शहर चुनें

States

जयपुर: सचिवालय मारपीट मामले में प्रशासन ने निकाला बीच का रास्ता, 2 पुलिसकर्मी सस्पेंड, 7 लाइन हाजिर

सोमवार को सचिवालय 
में कर्मचारियों और वहां तैनात सुरक्षाकर्मियों के बीच टकराव की स्थिति बन गई थी.
सोमवार को सचिवालय में कर्मचारियों और वहां तैनात सुरक्षाकर्मियों के बीच टकराव की स्थिति बन गई थी.

शासन सचिवालय (Secretariat) में हुई मारपीट के मामले का सोमवार देर रात शांतिपूर्ण समाधान निकाल लिया गया. पुलिस ने अपने कर्मचारियों का बचाव करते हुये अधिकारियों और कर्मचारियों की कुछ मांगों को मानते हुये 2 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड (Suspend) कर दिया.

  • Share this:
जयपुर. शासन सचिवालय के एक सेक्शन अधिकारी के साथ हुई मारपीट (Beating) के मामले में प्रशासन ने बीच का रास्ता निकाल लिया है. अधिकारी-कर्मचारी संघ की मांग के बाद पुलिस प्रशासन ने दो पुलिसकर्मियों हेड कांस्टेबल छितरमल और वजीर को सस्पेंड (Suspend) और 7 पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया है. उसके बाद अब मामला शांत हो गया है.

जयपुर पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने बताया कि मामले का शांतिपूर्ण ढंग से समाधान हो गया है. 24 दिसंबर की रात निरीक्षण के दौरान सुरक्षा शाखा के एसओ मनीष पारीक के साथ वहां तैनात पुलिसकर्मी छितरमल और वजीर ने कथित रूप से मारपीट कर दी थी.

जोधपुर: रेप पीड़िता 11 वर्षीय मासूम ने दिया बच्चे को जन्म, पड़ोसी ने किया था रेप

सचिवालय में दिनभर विरोध प्रदर्शन


इस घटना के बाद 3 दिन का अवकाश आ गया था. लेकिन सोमवार को जब सचिवालय खुला तो कर्मचारियों और वहां तैनात सुरक्षाकर्मियों के बीच टकराव की स्थिति बन गई थी. उसके बाद पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर दिनभर धरने और बैठकों का दौर चलता रहा. कर्मचारी नारे लगाते रहे. शाम को सचिवालय कर्मचारी संगठनों के पदाधिकारियों और पुलिस अधिकारियों के बीच वार्ता हुई. देर रात सुरक्षा अधिकारी पर बंदूक तानने वाले आरोपी पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया. अन्य सात पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया गया. इसके बाद कर्मचारियों ने भी धरना समाप्त कर दिया.

मुख्य सचिव से मिले कर्मचारी
इस बीच पूरे मामले को लेकर सचिवालय कर्मचारी और अधिकारी मुख्य सचिव निरंजन आर्य से मिले. आर्य ने कर्मचारियों को बताया कि पुलिस कमिश्नरेट के अधिकारियों से वार्ता हो गई है. उनसे जाकर मिल लो. इस पर कर्मचारी नाराज हो गए और फिर धरने पर बैठ गए. बाद में पुलिस के अधिकारी सचिवालय पहुंचे और वार्ता हुई. इससे पहले सचिवालय के अधिकारी और कर्मचारी सचिवालय में तैनात पूरे जाब्ते को हटाकर नया जाब्ता लगाने की मांग कर रहे थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज