• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • विधानसभा उपचुनाव: 2 सीटों पर लगी हैं 3 पार्टियों की नजरें, कौन मारेगा बाजी ?

विधानसभा उपचुनाव: 2 सीटों पर लगी हैं 3 पार्टियों की नजरें, कौन मारेगा बाजी ?

बीजेपी और कांग्रेस समेत आरएलपी ने चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी हैं.फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

बीजेपी और कांग्रेस समेत आरएलपी ने चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी हैं.फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

प्रदेश में झुंझुनूं की मंडावा (Mandawa) और नागौर की खींवसर (Kheevnsar) विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव (Assembly by-election) की तारीख का ऐलान हो चुका है. इसके साथ ही बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) समेत आरएलपी (RLP) ने चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी हैं.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश में झुंझुनूं की मंडावा (Mandawa) और नागौर की खींवसर (Kheevnsar) विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव (Assembly by-election) की तारीख का ऐलान हो चुका है. इसके साथ ही बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) समेत आरएलपी (RLP) ने चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी हैं. गत विधानसभा चुनाव में मंडावा सीट पर बीजेपी के नरेन्द्र खीचड़ और खींवसर सीट पर आरएलपी ने हनुमान बेनीवाल (Hanuman Beniwal) ने जीत दर्ज कराई थी. लेकिन इन सीटों से जीते विधायक बाद में लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) जीतकर सांसद (MP) बन गए थे. ऐसे में दोनों पार्टियां अपनी-अपनी सीटों फिर से काबिज होने का प्रयास कर रही हैं. वहीं कांग्रेस सत्ता में आने के बाद गत साढ़े आठ माह में किए गए कार्यों के बूते दोनों सीटें झटकने की जुगत लगा रही है.

मंडावा पर टिकी है बीजेपी-कांग्रेस की नजरें
दोनों विधानसभा सीटों पर 21 अक्टूबर को मतदान होगा और 24 को मतगणना होगी. मंडावा सीट परंपरागत रूप से कांग्रेस की मानी जाती रही है. 1957 से अस्तित्व में आई मंडावा सीट पर अब तक 13 बार हुए चुनाव हुए हैं. इनमें से आठ बार कांग्रेस ने जीत दर्ज कराई है. बीजेपी ने यहां गत बार पहली दफा अपना परचम लहराया था. उसके बाद बीजेपी यहां के विधायक नरेन्द्र खीचड़ को लोकसभा चुनाव में उतारा था. खीचड़ के सांसद बन जाने से खाली हुई इस सीट को बीजेपी किसी भी कीमत पर गंवाना नहीं चाहती. वहीं कांग्रेस इस सीट पर अपना वर्चस्व फिर कायम करने के लिए पुरजोर कोशिश में जुटी है.

खींवसर में हनुमान बेनीवाल का है दबदबा
नागौर की खींवसर विधानसभा सीट पर गत तीन बार से लगातार हनुमान बेनीवाल जीतते आ रहे हैं. इनमें एक वे पहली बार बीजेपी से दूसरी निर्दलीय और अबकी बार अपनी खुद की पार्टी आरएलपी से चुनाव जीतकर विधायक बने हैं. इस सीट पर बेनीवाल का दबादबा है. यहां बीजेपी के लिए राहत की बात यह है कि विधानसभा चुनाव के बाद उसका लोकसभा चुनाव-2019 में आरएलपी से गठबंधन हो गया था. गठबंधन के तहत बीजेपी ने नागौर संसदीय क्षेत्र से आरएलपी के हनुमान बेनीवाल को प्रत्याशी घोषित किया था. बीजेपी के सहयोग से बेनीवाल सांसद बन गए.

गठबंधन जारी रहेगा या नहीं इस पर बना हुआ है संशय
आरएलपी और बीजेपी का यह गठबंधन उपचुनाव में भी जारी रहेगा या नहीं इसका अभी तक खुलासा नहीं हो पाया है. ऐसे में दोनों ही पार्टियां अपनी-अपनी तैयारियों में जुटी हुई हैं. वहीं सत्तारूढ़ कांग्रेस अपने साढ़े माह के कामकाज के बूते इस सीट को काबू में करने का प्रयास कर रही है.

विधानसभा उपचुनाव का ऐलान: मंडावा और खींवसर सीट पर 21 अक्टूबर को होगा मतदान

विधानसभा उपचुनाव: मंडावा और खींवसर के लिए कांग्रेस में दावेदार हुए सक्रिय

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज