मतदान के लिए टैक्सट और वॉइस मैसेज जरिए जागरुक करेंगी मोबाइल कंपनियां

लोकतंत्र के महापर्व विधानसभा चुनाव में आमजन अधिक से अधिक अपनी भागीदारी निभाए इसके लिए मोबाइल कंपनियां अब लोगों को जागरुक करेंगी.

Prem Meena | News18 Rajasthan
Updated: November 10, 2018, 10:54 AM IST
मतदान के लिए टैक्सट और वॉइस मैसेज जरिए जागरुक करेंगी मोबाइल कंपनियां
फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।
Prem Meena | News18 Rajasthan
Updated: November 10, 2018, 10:54 AM IST
लोकतंत्र के महापर्व विधानसभा चुनाव में आमजन अधिक से अधिक अपनी भागीदारी निभाए इसके लिए मोबाइल कंपनियां अब लोगों को जागरुक करेंगी. मोबाइल कंपनियां अपनी ओर से सभी मोबाइल उपभोक्ताओं को टैक्सट और वॉइस मैसेज के साथ ही कॉलर ट्यून के माध्यम से जागरुक करेंगी.

हाल ही में मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने सभी मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनियों के साथ सचिवालय में अहम बैठक की थी. उसमें उन्होंने मोबाइल नेटवर्क की कम पहुंच वाले गांवों में नेटवर्क उपलब्ध कराने के निर्देश दिए थे. मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि आज ज्यादातर लोग मोबाइल सेवा से जुड़े हुए हैं. मोबाइल कंपनियां अपने विभिन्न प्लटेफार्म के माध्यम से आमजन को मतदान के प्रति जागरुक करने का कार्य करें. इस पर बैठक में मौजूद बीएसएनएल समेत अन्य मोबाइल कंपनियों के आला अधिकारियों ने अपनी सहमति जताई.

यहां पढ़ें- राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018 से जुड़ी अन्य खबरें 

कांग्रेस में टिकटों की माथापच्ची, वरिष्ठ नेताओं का विकल्प नहीं खोज पा रही है स्क्रीनिंग कमेटी

पुलिस के नंबर का भी होगा प्रचार
इसके साथ ही पुलिस की ओर से एक मोबाइल नंबर कंपनियों को उपलब्ध कराया जाएगा. उसका भी मोबाइल कपंनियां प्रचार करेगी ताकि आम लोगों के पास वो नबंर पहुंच सके. जहां कहीं भी आचार संहिता उल्लंघन और गड़बड़ी की शिकायत मिले तो उस पर तत्काल कार्रवाई हो सके.

ये मैसेज करेंगी मोबाइल कंपनियां
Loading...
- मतदान अवश्य करें.
- मतदान आपका अधिकार है. अपने अधिकार का प्रयोग अवश्य करें.
- थोड़ा वक्त निकालें. वोट जरूर डालें.
- विधानसभा चुनाव में वीवीपैट का भी इस्तेमाल होगा.
- आप पुष्टि कर सकोगे की आपने जिसे वोट दिया, उसे ही वोट गया है.
- वीवीपेट यानी पुष्टि, संतुष्टि और विश्वास.
- विशेष योग्यजन आसानी से मतदान कर सकेंगे.
- मतदान केंद्र तक परिवहन, रैंप, व्हील चेयर, वॉलंटियर जैसी सुविधा मिलेगी.

नेटवर्क की रेंज बढ़ाने के निर्देश
ये सभी मैसेज कंपनियां 25 नवंबर तक प्रसारित करेंगी. उसके बाद 26 नवंबर से 7 दिसंबर तक इस तरह के मैसेज भेज जाएंगे. प्रदेश में मोबाइल नेटवर्किंग के हिसाब से 926 गांव शेडो एरिया के रूप में चिन्हित किए गए हैं, जहां नेटवर्क की रेंज बहुत कम है. ऐसे एरिया में नेटवर्क की रेंज बढ़ाने के भी निर्देश दिए गए हैं. ये गांव ज्यादातर पहाड़ी और रेगिस्तानी इलाकों में है. इसमें जैसलमेर, बाड़मेर, जालोर, सिरोही और उदयपुर के गांव शामिल हैं. अगर इसके बाद भी नेटवर्क में सुधार नहीं होता है तो वहां वायरलेस सेट उपलब्ध कराए जाएंगे, ताकि तत्काल सूचना उपलब्ध हो सके.

यहां पढ़ें- राजस्थान विधानसभा चुनाव की ताजा अपडेट LIVE 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर