नोटबंदी के दो साल: कांग्रेस का प्रदेशभर में प्रदर्शन, सरकार से मांगा जवाब

नोटबंदी के दो साल पूरे होने पर शुक्रवार को कांग्रेस की ओर से हल्ला बोल कार्यक्रम आयोजित किया गया. प्रदेशभर में सभी जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस की ओर से आयोजित इस हल्ला बोल कार्यक्रम बडी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता और नेता मौजूद रहे.

Satveer Singh Rathore | News18 Rajasthan
Updated: November 9, 2018, 5:35 PM IST
नोटबंदी के दो साल: कांग्रेस का प्रदेशभर में प्रदर्शन, सरकार से मांगा जवाब
जयपुर में प्रदर्शन में शामिल कांगेस के वरिष्ठ नेता। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।
Satveer Singh Rathore | News18 Rajasthan
Updated: November 9, 2018, 5:35 PM IST
नोटबंदी के दो साल पूरे होने पर शुक्रवार को कांग्रेस की ओर से हल्ला बोल कार्यक्रम आयोजित किया गया. प्रदेशभर में सभी जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस की ओर से आयोजित इस हल्ला बोल कार्यक्रम बडी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता और नेता मौजूद रहे. इस दौरान कांगेस नेताओं ने नोटबंदी को जमकर कोसा और केन्द्र सरकार से जवाब मांगा.

राजधानी जयपुर में सिविल लाइन फाटक पर कांग्रेस नेता प्रताप सिंह खाचरियावास के नेतृत्व में धरना प्रदर्शन आयोजित किया गया. इसमें वरिष्ठ नेता डॉ. सीपी जोशी, राजीव अरोड़ा, पूर्व मंत्री बृजकिशोर शर्मा, पूर्व महापौर ज्योति खंडेलवाल और कांग्रेस प्रवक्ता अर्चना शर्मा सहित कई नेताओं और कार्यकर्ता शामिल हुए. इस दौरान कांग्रेस ने आरोप लगाया कि नोटबंदी के कारण युवाओं में बेरोजगारी भी बढ़ने के साथ ही अर्थव्यवस्था को भी काफी नुकसान पहुंचा. गरीब और गरीब हो गया.

भी पढ़ें- OPINION: राजस्थान में BJP के लिए गले की फांस बने मौजूदा विधायक!

सरकार लोगों की बात नहीं सुनना चाहती अपने मन की कहना चाहती है

जयपुर शहर कांग्रेस अध्यक्ष प्रताप सिंह खाचरिवास ने कहा कि देशभर में हालत खराब है. नोटबंदी से ना तो काला धन वापस और ना ही अर्थव्यवस्था सुधरी. नोटबंदी एक बड़ा घोटाला साबित हुई. खाचरियावास ने आरोप लगाया की यह पहली सरकार है जो लोगों की बात नहीं सुनना चाहती और अपने मन की बात कहना चाहती है. प्रधानमंत्री मोदी ने नोट तो बदल दिए, लेकिन इसके साथ ही उन्होंने लोगों के चेहरों की मुस्कान भी छीन ली. डॉ. सीपी जोशी ने कहा कि जिन उद्देश्यों को लेकर नोटबंदी की गई थी वो उद्देश्य पूरे नहीं हुए. सरकार को जनता को जवाब देना चाहिए.

500 और 1000 के नोट किए गए थे बंद
उल्लेखनीय है कि आठ नवंबर का दिन देश की अर्थव्यवस्था के इतिहास में एक खास दिन के तौर पर दर्ज है. दो बरस पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आठ नवंबर को रात आठ बजे दूरदर्शन के जरिए देश को संबोधित करते हुए 500 और 1000 के नोट बंद करने का ऐलान किया. नोटबंदी की यह घोषणा उसी दिन आधी रात से लागू हो गई. इससे कुछ दिन देश में अफरातफरी का माहौल रहा और बैंकों के बाहर लंबी कतारें लगी रहीं.
Loading...
यह भी पढ़ें: अतीत के झरोखे से: जब जयपुर राजघराने की गायत्री देवी ने बनाया जीत का रिकॉर्ड

यहां पढ़ें- राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018 से जुड़ी अन्य खबरें
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर