अपना शहर चुनें

States

बीजेपी का राजस्थान गौरव संकल्प पत्र-2018: किसानों को लुभाने की पूरी कोशिश

फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।
फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

बीजेपी ने अपने चुनावी घोषणा-पत्र में किसानों पर खासा फोकस किया है. पूरे चुनाव में राजनैतिक पार्टियों के केन्द्र बिन्दु में आए किसानों को लुभाने के लिए बीजेपी ने अपने घोषणा-पत्र में सबसे पहले किसान वर्ग को रखा है.

  • Share this:
बीजेपी ने अपने चुनावी घोषणा-पत्र में किसानों पर खासा फोकस किया है. पूरे चुनाव में राजनैतिक पार्टियों के केन्द्र बिन्दु में आए किसानों को लुभाने के लिए बीजेपी ने अपने घोषणा-पत्र में सबसे पहले किसान वर्ग को रखा है. उसके बाद अन्य वर्गों पर फोकस किया गया है. किसानों की सबसे बड़ी मांग न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को ध्यान में रखते हुए इसे और अधिक सुदृढ़ और पारदर्शी बनाने का वादा किया गया है.

यहां देखें- विधानसभा चुनाव का LIVE कवरेज- राजस्थान समाचार

किसानों की आय को दुगुना करने के वादे के साथ बीजेपी ने इसके लिए कृषि केन्द्रीत 250 करोड़ रुपए का ग्रामीण स्टार्ट-अप फंड स्थापित करने की घोषणा की गई है. किसान वर्ग को लुभाने के लिए सहकारी कृषि ऋण को विस्तार देने की बात भी कही गई है. इसके लिए अभियान चलाकर पांच वर्ष में एक लाख करोड़ रुपए के सहकारी ऋण बांटने का लोक लुभावना वादा किया गया है. किसान के लिए बीजेपी ने प्रदेश के सभी संभागों में 'ऋण राहत आयोग' स्थापित करने का वादा भी किया है.



यह भी पढ़ें: राजस्थान: BJP का घोषणा पत्र जारी, 50 लाख रोजगार तो बेरोजगारों को 5 हजार भत्ते का वादा
 बेणेश्वर में पीएम मोदी ने कहा, हमारे चार साल कांग्रेस की चार पीढ़ियों पर भारी 

जानिए कैसे पारसी दादा के बावजूद दत्‍तात्रेय गोत्र वाले ब्राह्मण हैं राहुल गांधी

ईस्टर्न कैनाल प्रोजेक्ट
किसानों को सिंचाई सुविधा देने के लिए ईस्टर्न कैनाल प्रोजेक्ट को भी घोषणा-पत्र में स्थान दिया गया है. इसमें कहा गया है कि सिंचाई व पेयजल के लिए 13 जिलों को जोड़ने वाली 37 हजार करोड़ रुपयों के इस प्रोजेक्ट की डीपीआर के कार्य को प्राथमिकता से किया जाएगा. इस प्रोजेक्ट से प्रदेश के 26 बांधों में जल आपूर्ति करने के साथ ही इन बांधों से लगभग 80000 हैक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधाओं में न केवल सुधार किया जाएगा, बल्कि 2 लाख हैक्टेयर क्षेत्र में नई सिंचाई सुविधा सृजित की जाएगी.

इन 20 वर्गों में बांटा गया है घोषणा-पत्र को
कृषि, शिक्षा, सामाजिक, युवा, रोजगार, महिला सशक्तिकरण, कर्मचारी, श्रम कल्याण, ग्रामीण, सूचना एवं तकनीक, वरिष्ठ नागरिक, पर्यटन और संस्कृति व कला. इसके अलावा शहीद-पूर्व सैनिक, उद्योग, पशुपालन, पत्रकार कल्याण, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य और सुशासन समेत अन्य क्षेत्रों को अलग-अलग वर्गों में बांटा गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज