Rajasthan का सियासी संकट : गहलोत सरकार के लिए तुरुप का इक्का बनेंगे अविनाश पांडे
Jaipur News in Hindi

Rajasthan का सियासी संकट : गहलोत सरकार के लिए तुरुप का इक्का बनेंगे अविनाश पांडे
अविनाश पांडे (दाएं) दूर कर सकते हैं सचिन पायलेट की नाराजगी. (फाइल फोटो)

सचिन पायलट से संभावित मुलाकात पर अविनाश पांडे ने स्थिति साफ करते हुए कहा कि पिछले दो-तीन दिन से उनसे कोई बात नहीं हुई है, पर वे पूरे दावे के साथ कहते हैं कि राजस्थान में सरकार गिराने की हर कोशिश फेल हो जाएगी.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) में गहलोत सरकार (Gehlot Government) के सामने जारी सियासी संकट पर प्रदेश के प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे (Avinash Pandey) पड़ सकते हैं भारी. उनका दावा है कि राजस्थान में सरकार गिराने की हर कोशिश नाकाम कर दी जाएगी. प्रभारी महासचिव पर कई नेताओं की उम्मीद भरी नजर है. सूत्र बताते हैं कि कांग्रेस हाईकमान का निर्देश मिलते ही अविनाश पांडे जयपुर (Jaipur) जा सकते हैं. इनके अलावा केसी वेणुगोपाल (KC Venugopal) या अहमद पटेल (Ahmed patel) को भी जयपुर भेजने का हो सकता है फैसला. फिलहाल तो डिप्टी चीफ मिनिस्टर सचिन पायलट (Deputy CM Sachin Pilot) से संभावित मुलाकात पर अविनाश पांडे ने अपनी स्थिति साफ करते हुए कहा कि पिछले दो-तीन दिन से उनसे कोई बात नहीं हुई है, पर वे पूरे दावे के साथ कहते हैं कि राजस्थान में सरकार गिराने की हर कोशिश फेल हो जाएगी.

कौन हैं अविनाश पांडे

राजस्थान विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को सत्ता में लाने का श्रेय अविनाश पांडे के हिस्से जाता रहा है. कांग्रेस खेमे में उन्हें एक बेहतर रणनीतिकार माना जाता है. इसके अलावा उनकी एक बड़ी खासियत यह है कि वे पार्टी के अलग-अलग गुटों को साथ लेकर चलने में भी माहिर हैं. यह एक बड़ी वजह है कि अक्सर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट कैंप के बीच वह एक मध्यस्थ की भूमिका में नजर आते हैं. सत्ता में आने के बाद पिछले 1 साल से अधिक समय में उन्होंने अपनी भूमिका का निर्वहन बेहद शानदार ढंग से किया है.



क्या है राजस्थान का सियासी संकट
सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट के बीच मतभेद अब खुलकर सामने आने लगा है. सचिन पायलट को लगता है कि अशोक गहलोत उन्हें हाशिये पर धकेलने की कोशिश कर रहे हैं. इस बाबत शनिवार को उन्होंने दिल्ली में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल से बात भी की है. इस बातचीत में उन्होंने राजस्थान में सियासी हलचल की जानकारी दी है. फिलहाल सचिन पायलट को आश्वासन दिया गया है कि उनके साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा. अहमद पटेल से बातचीत के बाद शनिवार देर रात सचिन पायलट जयपुर लौट गए हैं. बताया जा रहा है कि बीते शनिवार को सचिन पायलट के 10 से ज्यादा समर्थक विधायक दिल्ली पहुंचे थे. लेकिन वे एक जगह इकट्ठा नहीं हुए. बता दें कि विधायकों की खरीद फरोख्त के आरोप मामले में स्पेशल आपरेशन ग्रुप (SOG) ने बड़ी कार्रवाई की है. मामले में एसओजी ने एफआईआर दर्ज की है. इसमें सचिन पायलट की भूमिका भी संदिग्ध बताई जा रही है. इसके अलावा चर्चा यह भी है कि सचिन पायलट अपने समर्थकों के साथ बीजेपी के संपर्क में लगातार हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading