लाइव टीवी

अलवर के अस्पताल में झुलसी बच्ची रात भर लड़ती रही मौत से जंग, सुबह 10:30 बजे जयपुर में तोड़ा दम
Alwar News in Hindi

News18Hindi
Updated: January 1, 2020, 2:45 PM IST
अलवर के अस्पताल में झुलसी बच्ची रात भर लड़ती रही मौत से जंग, सुबह 10:30 बजे जयपुर में तोड़ा दम
बच्ची ने बुधवार को जयपुर में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया.

अलवर (alwar) के गीतानंद शिशु हॉस्पिटल (Geetanand Children Hospital) में बच्ची बेबी वार्मर (baby warmer) में झुलसी 15 दिन की बच्ची ने बुधवार को राजधानी जयपुर में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 1, 2020, 2:45 PM IST
  • Share this:
जयपुर. राजस्थान के अलवर (alwar) शहर में सरकारी अस्पताल में झुलसी 15 दिन की नवजात बच्ची की बुधवार को राजधानी जयपुर में इलाज के दौरान मौत हो गई. मंगलवार को ही अलवर के गीतानंद शिशु हॉस्पिटल (Geetanand Children Hospital) में बच्ची बेबी वार्मर (baby warmer) में झुलस गई थी. इसके बाद उसे जयपुर के जेके लोन अस्पताल में रैफर किया गया था. एफबीएनसी वार्ड में स्टाफ की लापरवाही की वजह से वार्मर मशीन में नवजात बच्ची के झुलसने से परिजनों और स्थानीय लोगों में भारी रोष देखा गया. इस दौरान नवजात के परिजनों ने झुलसी बच्ची को इलाज के लिए जयपुर रैफर करने का भी विरोध किया था. लेकिन फिर भी सीएमएचओ के जरिए बच्ची को जयपुर के जेकेलोन रैफर किया गया. यहां यह झुलसी बच्ची पूरी रात मौत से लड़ती रही और आखिरकार बुधवार सुबह 10.30 बजे वो जिंदगी की जंग हार गई.

70% झुलस गई थी बच्ची, बचाना था मुश्किल

जेकेलोन अस्पताल के अधीक्षक डॉ. अशोक गुप्ता ने बताया कि इस बच्ची की मौत की मुख्य वजह सत्तर फीसदी बर्न होना है. बच्ची का शव मोर्चरी में रखवाया गया है, जहां अब पोस्ट मार्टम के बाद शव परिजनों को सौंपा जाएगा. बता दें कि कोटा के बाद अलवर में शिशु अस्पताल में बड़ी लापरवाही उजागर हुई है. यहां राजकीय गीतानंद शिशु हॉस्पिटल के एफबीएनसी वार्ड में लापरवाही से मशीन (baby Incubator) या बेबी-वार्मर में 15 दिन की नवजात गम्भीर रूप से झुलस गई और स्टाफ को भनक तक नहीं लगी.

15 अन्य बच्चों को बचाया गया

वार्ड में धुंआ ही धुंआ दिखाई देने के बाद सुबह 5 बजे के करीब अन्य बच्चों के परिजनों ने वार्ड के स्टाफ को सूचित किया. इसके बाद वार्ड में मौजूद अन्य 15 नवजात बच्चों को वार्ड से दूसरे वार्ड में शिफ्ट किया गया. इतनी बड़ी घटना के बाद भी अस्पताल प्रसासन मामले को दबाने में जुटा रहा. बच्ची की जान पर बन आई तो अस्पताल प्रसासन ने बच्ची को अलवर से जयपुर के जेके लोन अस्पताल में रैफर कर दिया.

ये भी पढ़ें- 

कोटा में 77 मासूमों की मौत का यह था कारण

55 साल बाद सबसे सर्द रात, पढ़ें- कहां-कहां टूटा सर्दी का रिकॉर्ड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अलवर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 1, 2020, 2:33 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर