• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • Bhanwari devi case: जिस एक्सपर्ट की रिपोर्ट बनी थी CBI का सबसे बड़ा सबूत, कोर्ट में नहीं दे रही गवाही

Bhanwari devi case: जिस एक्सपर्ट की रिपोर्ट बनी थी CBI का सबसे बड़ा सबूत, कोर्ट में नहीं दे रही गवाही

भंवरी देवी मर्डर केस में CBI के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह है कि वह अपहरण और हत्या को कोर्ट में साबित करे

भंवरी देवी मर्डर केस में CBI के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह है कि वह अपहरण और हत्या को कोर्ट में साबित करे

Bhanwari Devi case Update: विधि विशेषज्ञों का मानना है कि भंवरी देवी केस में सीबीआई को ही साबित करना है कि किस तरह अपहरण के बाद उसकी हत्या की गई. यह साबित करने में फेडरल ब्यूरो आफ इंवेस्टीगेशन की रिपोर्ट सबसे अहम कड़ी है. यदि फॉरेंसिक एक्सपर्ट अंबर बी कार की गवाही नहीं हो पाती है तो निश्चित तौर पर सीबीआई का दावा कमजोर होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    जयपुर. राजस्थान की राजनीति में भूचाल लाने वाले भंवरी प्रकरण (Bhanwari devi case) में सभी आरोपियों की जमानत हो चुकी है. सीबीआई (Central bureau of investigation) को अभी साबित करना है कि राजीव गांधी लिफ्ट नहर से जो हड्डियां बरामद की गईं थीं, वह वास्तव में भंवरी देवी की ही हैं. यह साबित करने के लिए अमेरिका से Federal Bureau of Investigation (FBI) की एक्सपर्ट अंबर बी कार को बुलाने में नाकाम रही CBI की मुश्किलें अब बढ़ सकती हैं.

    सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें बुलाने के लिए CBI को 8 सप्ताह की मोहलत दी थी. यह अवधि 16 सितंबर को पूरी हो गई. कोर्ट अंबर बी कार को गवाही देने के लिए 41 बार समन जारी कर चुका है. अमेरिकी नियमों से बंधी अंबर बी कार एक बार भी कोर्ट में पेश नहीं हो सकीं.

    अमेरिकी फॉरेंसिक एक्सपर्ट ने बताया हड्डियां भंवरी की हैं

    अब CBI के सामने भंवरी के अपहरण व हत्या को कोर्ट में साबित करना बड़ी चुनौती है. दरअसल, CBI ने राजीव गांधी लिफ्ट नहर से बरामद हड्डियों को भंवरी की होने का दावा किया था. इन हड्डियों की जांच अमेरिका की जांच एजेंसी फेडरल ब्यूरो आफ इंवेस्टीगेशन (FBI) के सहयोग से कराई गई थी. भंवरी के दो बच्चों के डीएनए से मिलान कर FBI की फॉरेंसिक एक्सपर्ट अंबर बी कार ने घोषणा की थी कि यह हड्डियां भंवरी की ही हैं.

    जब इंदिरा गांधी सरकार ने Jaigarh Fort का खजाना खोजने के लिए बुलाई थी सेना

    कोर्ट 41 बार जारी कर चुका है समन 

    कोर्ट अंबर बी कार को गवाही देने के लिए 41 बार समन जारी कर चुका है. अमेरिकी नियमों से बंधी अंबर बी कार एक बार भी कोर्ट में पेश नहीं हो सकीं. अब सीबीआई की अंबर बी कार की गवाही कराने को लेकर दायर SLP को खारिज माना जाएगा. इस मामले में मुश्किल बढ़ती देख सीबीआई अन्य विकल्प पर भी विचार कर रही है. मामले की अगली सुनवाई 21 सितंबर 2021 को होगी.

    सीबीआई नए सिरे से दायर कर सकती है याचिका

    सीबीआई के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह है कि अब तक गढ़ी गई कहानी को कोर्ट में साबित कैसे करे ? इसके लिए अंबर बी कार की गवाही सबसे अधिक महत्वपूर्ण है. जांच की इस महत्वपूर्ण कड़ी के टूटने का असर पूरे मामले पर पड़ सकता है. ऐसे में अब सीबीआई एक बार फिर नए सिरे से अंबर बी कार को बुलाने के लिए याचिका दायर कर सकती है. माना जा रहा है कि सीबीआई हाईकोर्ट में नए सिरे से याचिका दायर कर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये अंबर बी कार को अपने बयान देने की अनुमति देने की मांग कर सकती है.

    भंवरी केस में सबसे अंत में गिरफ्तार हुई थी इंद्रा विश्नोई

    बोरुंदा निवासी एएनएम भंवरी लापता हो गई. उसके पति अमरचंद ने 1 सितंबर 2011 को थाने में गुमशुदगी और 15 सितंबर को कोर्ट में इस्तगासा पेश किया. राज्य सरकार ने अक्टूबर में मामले की जांच CBI को सौंप दी. CBI ने दिसंबर तक तत्कालीन मंत्री महिपाल मदेरणा, विधायक मलखान सिंह विश्नोई सहित कुल 16 लोगों को इस मामले में गिरफ्तार कर लिया. पूछताछ के बाद मलखान की बहन इंद्रा गायब हो गई. आखिरकार वर्ष 2017 में मध्यप्रदेश में शिप्रा नदी के किनारे साध्वी के रूप में पांच लाख की इनामी इंद्रा पकड़ में आई. इस मामले में बचाव पक्ष को अपने साक्ष्य यानि गवाह पेश करने हैं. सभी आरोपी जमानत पर जेल से बाहर आ चुके हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज