होम /न्यूज /राजस्थान /

सीएम गहलोत ने की बड़ी घोषणा: बांसवाड़ा इंजीनियरिंग कॉलेज में बनेगी आईटी आधारित आधुनिक लाइब्रेरी

सीएम गहलोत ने की बड़ी घोषणा: बांसवाड़ा इंजीनियरिंग कॉलेज में बनेगी आईटी आधारित आधुनिक लाइब्रेरी

वन धन विकास केन्द्रों में न्यूनतम 60 प्रतिशत सदस्य जनजाति समुदाय से होंगे.

वन धन विकास केन्द्रों में न्यूनतम 60 प्रतिशत सदस्य जनजाति समुदाय से होंगे.

सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने आदिवासी इलाके के लिये बड़ी घोषणा की है. गहलोत ने कहा है कि बांसवाड़ा इंजीनियरिंग कॉलेज (Banswara Engineering College) में जल्द ही आईटी आधारित आधुनिक लाइब्रेरी खोली जायेगी.

जयपुर. बांसवाड़ा इंजीनियरिंग कॉलेज (Banswara Engineering College) में जल्द ही आईटी आधारित आधुनिक लाइब्रेरी खोली जायेगी. सीएम अशोक गहलोत ने ट्राइबल यूनिवर्सिटी (Tribal University) बांसवाड़ा के अकादमिक भवनों के वर्चुअल लोकार्पण समारोह में इसकी घोषणा की है. सीएम ने बासंवाड़ा में वेद विद्यापीठ खोलने का भी आश्वासन दिया है. सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने मंगलवार को गोविंद गुरू जनजातीय विश्वविद्यालय, बांसवाड़ा में महर्षि वाल्मीकि भवन, परीक्षा एवं शोध अनुभाग का वर्चुअल लोकार्पण किया.

समारोह में सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि आजादी की जंग हो या समाज सुधार या फिर अन्याय के खिलाफ आंदोलन इन सभी में इस क्षेत्र की भूमिका सदैव महत्वपूर्ण रही है. गोविंद गुरू, भोगीलाल पण्ड्या, भीखाभाई भील, हरिदेव जोशी और कालीबाई सहित कई महान व्यक्तित्व यहां हुए हैं. उनका जीवन प्रेरणादायी है. सीएम ने कहा कि जनजातीय क्षेत्र में उच्च शिक्षा के प्रसार के लिए स्थापित गोविन्द गुरू जनजातीय विश्वविद्यालय शिक्षा का उजियारा फैलाने के साथ ही प्रदेश के टीएसपी क्षेत्र में आदिवासी और गैर आदिवासी लोगों के बीच सेतु का काम करेगा. उन्होंने कहा कि हमारी पिछली सरकार के समय वेद विद्यापीठ की स्थापना के लिए किए गए प्रयासों को हम आगे बढ़ाएंगे. सीएम ने रतलाम-बांसवाड़ा रेल प्रोजेक्ट और सुपर क्रिटिकल पावर स्टेशन के प्रोजेक्ट बंद करने पर बीजेपी सरकार पर निशाना साधा.

Rajasthan: ओवैसी की AIMIM और BTP में गठबंधन हुआ तो इन 50 सीटों पर बिगड़ सकता है कांग्रेस का समीकरण

आदिवासी संस्कृति के अच्छे पहलुओं का प्रदर्शन दुनिया के सामने किया जाए
विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी ने कहा कि गोविंद गुरू विश्वविद्यालय केवल डिग्री बांटने का केंद्र ही ना बने. यह परफॉर्मिंग आर्ट का सेंटर बने. आदिवासी इलाके में परफॉर्मिंग आर्ट का बड़ा स्कोप है. ओटीटी और यूट्यूब के जमाने में अब कलाकारों को बॉलीवुड जाने की बाध्यता हट गई है. विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम को यूनिक बनाएं. बदले परिवेश में मल्टी टेलेंटेड होना जरूरी है. बांसवाड़ा विश्वविद्यालय का पाठ्यक्रम ऐसा बने जो तकनीक के साथ आदिवासी संस्कृति का झरोखा हो. सामाजिक व्यवस्था को पढ़े लिखे लोग नहीं जानते. आदिवासी संस्कृति के अच्छे पहलुओं का प्रदर्शन दुनिया के सामने किया जाये.

कॉलेजों में खाली पदों को जल्द भरा जाएगा
उच्च शिक्षा मंत्री भंवरसिंह भाटी ने कहा कि कॉलेजों में खाली पदों को जल्द भरा जाएगा. टीएडी मंत्री अर्जुन सिंह बामनिया ने कहा कि मुख्यमंत्री ने ट्राइबल क्षेत्र में शिक्षा के विस्तार की दिशा में कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं. तकनीकी शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने कहा कि जनजातीय क्षेत्र में प्रतिभाओं की कमी नहीं है. उन्हें अवसर प्रदान कर आगे बढ़ाने की आवश्यकता है.

Tags: Ashok Gahlot, Congress, Education

अगली ख़बर