लाइव टीवी

गहलोत सरकार का बड़ा फैसला: प्रदेश में नहीं होगी शराबबंदी, जागरूकता अभियान चलाया जाएगा
Jaipur News in Hindi

Prem Meena | News18 Rajasthan
Updated: January 10, 2020, 5:13 PM IST
गहलोत सरकार का बड़ा फैसला: प्रदेश में नहीं होगी शराबबंदी, जागरूकता अभियान चलाया जाएगा
डॉ. कल्ला ने कहा कि गुजरात और बिहार में पूर्ण शराबबंदी लागू है, लेकिन गुजरात में शराबबंदी के अनुभव ठीक नहीं है.

गहलोत सरकार (Gehlot Government) प्रदेश में शराबबंदी (Liquor Ban) नहीं करेगी. शराबबंदी के लिए बनाई गई हाई पावर कमेटी (High power committee) के अध्यक्ष ऊर्जा मंत्री डॉ. बीडी कल्ला (Dr. BD Kalla) ने इसको लेकर प्रदेश में जारी तमाम अटकलों पर विराम (Fullstop) लगा दिया है.

  • Share this:
जयपुर. गहलोत सरकार (Gehlot Government) प्रदेश में शराबबंदी (Liquor Ban) नहीं करेगी. शराबबंदी के लिए बनाई गई हाई पावर कमेटी (High power committee) के अध्यक्ष ऊर्जा मंत्री डॉ. बीडी कल्ला (Dr. BD Kalla) ने इसको लेकर प्रदेश में जारी तमाम अटकलों पर विराम (Fullstop) लगा दिया है. हाई पावर कमेटी की बैठक के बाद मंत्री डॉ. कल्ला ने कहा कि सरकार का प्रदेश में शराबबंदी लागू करने का कोई इरादा (Plan) नहीं है. उन्होंने कहा कि शराब के दुष्परिणामों को लेकर प्रदेशभर में जन जागरूकता अभियान (Public awareness campaign) चलाया जाएगा.

शराबबंदी की कोई संभावना नहीं है
कैबिनेट मंत्री डॉ. बीडी कल्ला की अध्यक्षता में शराबबंदी को लेकर गठित उच्च स्तरीय कमेटी की शुक्रवार को सचिवालय में बैठक हुई. बैठक के बाद डॉ. कल्ला ने कहा कि गुजरात और बिहार में पूर्ण शराबबंदी लागू है, लेकिन गुजरात में शराबबंदी के अनुभव ठीक नहीं है. वहां पर शराब आसानी से उपलब्ध है. हालांकि फिर भी विभाग और एनजीओ के पदाधिकारी गुजरात और बिहार जाकर स्थिति देखेंगे. लेकिन शराबबंदी की कोई संभावना नहीं है. इसमें एनजीओ का सहयोग भी लिया जाएगा.

छोटे होटलों औऱ भवनों को भी दिया जाएगा शराब का लाइसेंस



नई शराब नीति पर डॉ. कल्ला ने कहा कि ऐसे हेरिटेज होटल और ऐतिहासिक भवन जो छोटी सड़कों पर स्थित हैं और वहां विदेशी मेहमान जाते हैं उन होटलों औऱ भवनों को भी शराब का लाइसेंस दिया जाएगा. इसके अलावा कोई नई दुकान खोलने की अनुमति नहीं दी जाएगी. बैठक में चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा, एससीएस राजीव स्वरूप, आबकारी आयुक्त विष्णु चरण मलिक समेत शराबबंदी मुहिम से जुड़ी पूजा छाबड़ा शामिल रही.

पूर्व विधायक गुरुशरण छाबड़ा ने किया था अनशन
उल्लेखनीय है कि पूर्ववर्ती बीजेपी सरकार में पूर्व विधायक गुरुशरण छाबड़ा ने प्रदेश में शराबबंदी की मांग को लेकर आमरण अनशन शुरू किया था और बाद में उनकी मौत हो गई थी. गुरुशरण छाबड़ा की मौत के बाद राज्य में शराबबंदी आंदोलन का बीड़ा उनकी पुत्रवधू पूजा छाबड़ा ने उठाया. पूजा छाबड़ा ने गहलोत सरकार के शासन में शराबबंदी के लिए आमरण अनशन शुरू किया था. उसके बाद सीएम अशोक गहलोत ने पूजा छाबड़ा को आश्वासन दिया था कि सरकार शराबबंदी के विकल्पों पर विचार करेगी.

 

खुशखबरी: संविदाकर्मियों को गहलोत सरकार देगी राहत, जल्द हो सकते हैं स्थाई !

पंचायत चुनाव: चौथे चरण पर लगी रोक, पहले 3 चरणों में भी फेरबदल, अब यह है स्थिति

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 10, 2020, 5:10 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर