Home /News /rajasthan /

Rajasthan News: 60 दिन पहले फटा था फेफड़ा, रेलवे के डॉक्टरों ने 12 दिनों में ऐसे बचाई मरीज की जान

Rajasthan News: 60 दिन पहले फटा था फेफड़ा, रेलवे के डॉक्टरों ने 12 दिनों में ऐसे बचाई मरीज की जान

जयपुर रेलवे हॉस्पिटल ने 12 दिनों में मरीज को पूरी तरह से ठीक कर दिया.

जयपुर रेलवे हॉस्पिटल ने 12 दिनों में मरीज को पूरी तरह से ठीक कर दिया.

Jaipur News: रेलवे (Indian Railway) के एक रिटायर्ड रेलवे कर्मचारी के फेफड़े बीमारी के चलते 60 दिनों पहले बुरी तरह से फट गए थे. जयपुर रेलवे हॉस्पिटल (Jaipur Railway Hospital) ने महज 12 दिनों में मरीज को पूरी तरह से ठीक कर दिखाया है.

अधिक पढ़ें ...

जयपुर. NWR के तहत आने वाली जयपुर केन्द्रीय हॉस्पिटल ने लगभग नामुमकिन सर्जरी करके सुर्खियां बटोरी है. रेलवे में काम करने वाले एक रिटायर्ड कर्मचारी जिसके फेफड़े लगभग फट चुके थे, उसको 12 दिनों में इलाज करके मरीज को पूर्णत स्वस्थ कर दिया. आम तौर पर इस तरह का इलाज प्राइवेट या एम्स जैसी हॉस्पिटल में होता है, लेकिन पहली इस तरह के ऑपरेशन का रिस्क जयपुर रेलवे हॉस्पिटल ने उठाया है. जानकारी के मुताबिक, रिटायर्ड रेलवे कर्मचारी के फेफड़े बीमारी के चलते 60 दिनों पहले बुरी तरह से फट गए थे. कर्मचारी को अब ज्यादा उम्मीदे नहीं थी, लेकिन जयपुर रेलवे हॉस्पिटल (Jaipur Railway Hospital) ने इसका जिम्मा उठाया और महज 12 दिनों में मरीज को पूरी तरह से ठीक किया.

फेफड़ों में ब्रोंकोपल्यूरल फिस्टुला बताया गया जिसके इलाज के लिए एम्स या फिर प्राइवेट हॉस्पिटल का सहारा लेना पड़ा था. लेकिन पहली बार जयपुर रेलवे हॉस्पिटल में इस तरह की सर्जरी को मुमकिन बनाया गया.

दो महीने पहले खराब हुई थी मरीज की तबियत

उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी कैप्टन शशि किरण के अनुसार हनुमानगढ़ जिले के रहने वाले रेलवे के रिटायर कर्मचारी, जिसको 2 महीने पहले अचानक सांस लेने में तकलीफ हुई जिसकी वजह से उसने हनुमानगढ़ के सरकारी हॉस्पिटल में दिखाया. वहां एक्स-रे करने के बाद उसे बताया गया कि उसका दाहिना फेफड़ा फट गया है. इस समस्या के लिए हनुमानगढ़ में और उसके बाद मरीज जयपुर के एक बड़े निजी अस्पताल में भर्ती हुआ, लेकिन लगभग दो महीने बाद भी उसको इस फटे हुए फेफड़े और सांस की तकलीफ से कोई निजात नहीं मिली.

06 अक्टूबर 2021 को मरीज रेलवे के केंद्रीय अस्पताल जयपुर में श्वसन रोग विशेषज्ञ डॉक्टर मुकेश कुमार मंडावरिया की ओपीडी में आया. उन्होंने इस मरीज का टेस्ट करने पर पाया की फेफड़ों में ब्रोंकोपल्यूरल फिस्टुला बन गया है. टीम की गहन देखरेख में मात्र 07 दिन में उसका ब्रोंकोपल्यूरल फिस्टुला ठीक हो गया तथा दसवें दिन फेफड़े के पूरी तरह एक्सपेंडेड होने के बाद उसकी चेस्ट ट्यूब निकाल दी गई. 2 दिन तक ऑब्जर्वेशन में रखकर 18 अक्टूबर 2021 को छुट्टी दे दी गई.

ये भी पढ़ें: राजस्थान के मजदूर की रूस में मौत, 95 दिनों से नहीं हुआ अंतिम संस्कार, विदेश मंत्रालय से गुहार

महाप्रबंधक-उत्तर पश्चिम रेलवे विजय शर्मा ने रेल कर्मियों के उत्तम स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देते हुए चिकित्सा अधिकारियों को नवीन एवं आधुनिक तकनीक का प्रयोग करने के लिए निर्देशित किया है. इसी क्रम में उत्तर पश्चिम रेलवे पर सुपर विशेषज्ञ यूरोलॉजिस्ट एवं विशेषज्ञ फिजिशियन की नियुक्ति की गई है. जल्द ही कार्डियोलॉजिस्ट और न्यूरोलॉजिस्ट की नियुक्ति भी की जाएगी. हाल ही में मरीजों के उपचार संबंधी सम्पूर्ण जानकारी की उपलब्धता एवं दवाओं संबंधी रिकॉर्ड से संबंधित हॉस्पीटल मैनेजमेंट इन्फारमेशन प्रणाली (HMIS) की शुरूआत केन्द्रीय चिकित्सालय, जयपुर में की गई है.

Tags: Latest Medical news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर