• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • BJP का चिंतन शिविर: क्या कुम्भलगढ़ के पहाड़ों से बहेगी एकता की बयार या जारी रहेगी खींचतान ?

BJP का चिंतन शिविर: क्या कुम्भलगढ़ के पहाड़ों से बहेगी एकता की बयार या जारी रहेगी खींचतान ?

माना जा रहा है कि असन्तुष्ट खेमा हर सूरत में एक बार फिर वसुंधरा सरकार का नारा बुलंद करना चाहता है. यही पार्टी में टकराव का मुद्दा बना हुआ है.

माना जा रहा है कि असन्तुष्ट खेमा हर सूरत में एक बार फिर वसुंधरा सरकार का नारा बुलंद करना चाहता है. यही पार्टी में टकराव का मुद्दा बना हुआ है.

BJP Chintan Shivir News: राजस्थान बीजेपी का दो दिवसीय चिंतन शिविर कल से कुंम्भलगढ़ (Kumbhalgarh) में शुरू होगा. हरी भरी वादियों के बीच यहां पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव (Assembly elections) की रणनीति पर मंथन करेगी और इसका रोडमैप तैयार किया जायेगा.

  • Share this:

जयपुर. बीजेपी के चिंतन शिविर (BJP Contemplation Camp) का कल से कुम्भलगढ़ में आगाज होगा. विधानसभा चुनाव (Assembly elections) से सवा दो साल पहले बीजेपी सत्ता प्राप्ति के लिए कुम्भलगढ़ (Kumbhalgarh) के होटल एवरेस्ट हिल में चिंतन करेगी. पार्टी ने रणनीतिक स्तर पर चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी है. बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पदाधिकारी अलग-अलग सत्रों में विधानसभा चुनाव की रणनीति बनाएंगे. मुख्य फोकस विधानसभा चुनाव की प्रदेश स्तर से लेकर बूथ स्तर तक रणनीति बनाने का है. पार्टी की कमजोर कड़ियां दूर करने पर मंथन होगा. सुझावों पर पार्टी नेता आपसी संवाद करेंगे. शिविर में पार्टी के अंदरुनी मतभेदों पर भी चर्चा हो सकती है.

दो दिन तक चलने वाले इस चिंतन शिविर के लिए बीजेपी नेताओं का कुम्भलगढ़ पहुंचने का सिलसिला शुरू हो चुका है. प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ समेत प्रदेश के कई नेता कुम्भलगढ़ पहुंच चुके हैं. इस शिविर में पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष 2023 में पार्टी को राजस्थान फतह का मंत्र देंगे.

पार्टी के भविष्य का रोडमैप बनाएंगे
मेवाड़ की धरती बीजेपी के लिए हमेशा उर्वरा रही है. बीजेपी इसे हिंदुत्व की लैबोरेटरी समझती है. राजस्थान में तो यहां तक कहा जाता है, जिधर मेवाड़, उधर सरकार. इसलिए बीजेपी को कुम्भलगढ़ की हसीन हरी भरी वादियां चिंतन के लिए मुफीद नजर आई. बीजेपी के थिंक टैंक राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष चिंतन शिविर में राजस्थान बीजेपी के संगठन से जुड़े कामकाज की समीक्षा करेंगे. वे पार्टी के भविष्य का रोडमैप बनाएंगे. इसी रोडमैप की गूंज अगले दो साल तक प्रदेश में गूंजेगी. पार्टी संगठन को और सक्रिय बनाने पर जोर होगा. बीजेपी का फोकस बूथ से लेकर मंडल की यूनिट तक कार्यकर्ताओं का वोटर से सीधे जुड़ाव कायम करना है. शिविर में पार्टी के कामकाज की समीक्षा होगी.

आपसी खींचतान का मुद्दा भी उठेगा
चिंतन बैठक में बीजेपी नेताओं की आपसी खींचतान का मुद्दा भी उठेगा. पुत्रवधू की तबीयत नासाज होने के बावजूद वसुंधरा राजे का चिन्तन बैठक में भाग लेने की संभावना है. गुटबाजी पर फुल स्टॉप लगाने के लिए बीएल संतोष पार्टी नेताओं को सख्त हिदायत दे सकते हैं. बीजेपी में वसुंधरा खेमा प्रदेश नेतृत्व के खिलाफ हमलावर है. संगठन विस्तार बैठक के एजेंडे में टॉप प्रायोरिटी पर है. बीजेपी अब ‘एक बूथ-10 यूथ’ से बहुत आगे निकल चुकी है. अब वो ‘वन बूथ-30 यूथ’ का फार्मूला बनाकर बनाकर जीत की राह आसान करना चाहती है.

आखिर में होगी बीजेपी कोर कमेटी की बैठक
बीजेपी दो दिन के चिंतन शिविर के आखिर में बीजेपी कोर कमेटी की बैठक होगी. कोर कमेटी की बैठक में मौजूदा सियासी माहौल पर चर्चा के साथ बीजेपी के अंदरुनी मतभेदों पर चर्चा हो सकती है. लेकिन पहाड़ पर होने वाले मंथन से एकता की आबोहवा बह निकलेगी इसकी उम्मीद कम ही है. असन्तुष्ट खेमा हर सूरत में एक बार फिर वसुंधरा सरकार का नारा बुलंद करना चाहता है. यही पार्टी में टकराव का मुद्दा बना हुआ है. राजनीतिक पंडितों के अनुसार इसका समाधान इस चिंतन में भी निकलना मुश्किल है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज