Rajasthan: रेप के बढ़ते मामलों को लेकर BJP प्रतिनिधिमंडल पहुंचा राज्यपाल के पास, ज्ञापन सौंपा

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि राजस्थान के हालात क्राइम कैपिटल जैसे हो गए हैं.
बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि राजस्थान के हालात क्राइम कैपिटल जैसे हो गए हैं.

प्रदेश में दिन प्रतिदिन बढ़ रहे रेप और गैंगरेप के मामलों (Rape cases) को लेकर बीजेपी ने राज्यपाल कलराज मिश्र (Governor Kalraj Mishra) ज्ञापन सौंपा है. उसने मांग की है कि वे सरकार से कानून व्यवस्था की समीक्षा करवायें और इस मामले में खुद भी हस्तक्षेप करें.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश की बिगड़ी कानून व्यवस्था और रेप के लगातार बढ़ते मामलों (Increasing rape cases) को लेकर बीजेपी राज्यपाल के पास पहुंच गई है. बीजेपी (BJP) के पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने बुधवार को राज्यपाल कलराज मिश्र (Governor Kalraj Mishra) को इस संबंध में ज्ञापन सौंपा है. बीजेपी ने अपने ज्ञापन में कहा है कि राज्य में कानून व्यवस्था बद से बदतर होती जा रही है. उसने राज्यपाल से मांग की है कि वे राज्य सरकार से कानून व्यवस्था की समीक्षा करवायें और इस मामले में खुद भी हस्तक्षेप करें.

राज्यपाल को ज्ञापन देने गये प्रतिनिधिमंडल में पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़, विधायक मदन दिलावर और सांसद जसकौर मीणा शामिल थीं. राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने के बाद पूनिया ने आरोप लगाया कि राजस्थान के इतिहास में यह ऐसी लचर सरकार आई है जो कि बेहद कमजोर है. यह न तो अपनी पार्टी को संक्रमण से बचा पा रही हैं ना ही सरकार को बचा पा रही हैं.

चूरू में 19 साल की युवती से 8 दिनों तक गैंगरेप, 9 युवकों पर लगा आरोप



राजस्थान के हालात क्राइम कैपिटल जैसे हो गए हैं
पूनिया ने कहा कि उससे भी ज्यादा चिंताजनक बात यह है कि राजस्थान में लगातार अपराध के आंकड़े बढ़ रहे हैं. पूनिया ने कहा कि सरकार का इकबाल खत्म हो गया है. प्रदेश में पूर्णकालिक गृहमंत्री पिछले 20 माह में नहीं बना है. सरकार हर मोर्चे पर विफल हो रही है. सरकार बच्चियों को न्याय दिलाने में सक्षम नहीं दिख रही है. सरकार इस समय एक बुरे पिता की भूमिका में दिखाई दे रही है. राजस्थान के हालात क्राइम कैपिटल जैसे हो गए हैं.

पिछले महीने 8 बार अलग-अलग जगह पुलिस की पिटाई हुई है
नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि सितंबर के महीने में प्रदेश के हर हिस्से में दुष्कर्म की घटनाओं की खबर आई हैं. सिरोही की घटना ने तो हर किसी को दहला दिया है. ज्यादातर मामलों में सरकार की लापरवाही देखी गई है. ऐसे मामलों में न्याय नहीं मिलने से पीड़ितों ने आत्महत्या तक की है. कटारिया ने कहा कि प्रदेश में 2018 की तुलना में दुष्कर्म के मामले 14 फीसदी ज्यादा बढ़े हैं. राजस्थान का दुष्कर्म की घटनाओं में पहले नंबर पर होना दुखद है. उपनेता राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि पिछले महीने 8 बार अलग-अलग जगह पुलिस की पिटाई हुई है. इससे पुलिस के इकबाल में कमजोरी आई है. राठौड़ ने डीजीपी भूपेंद्र सिंह के बयान पर भी सवाल उठाए हैं.

Rajasthan: रेप की वारदातों पर पूर्व सीएम वसुंधरा राजे का अशोक गहलोत पर 'Twitter attack', कहा-जंगलराज

सांसद दिया कुमारी ने भी अलग से सौंपा ज्ञापन
वहीं आज सांसद दिया कुमारी ने भी इन्हीं मामलों को लेकर राज्यपाल कलराज मिश्र को एक अलग ज्ञापन दिया है. इस पर पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि उन्होंने राज्यपाल से अलग समय ले रखा था. कोरोना संक्रमण के चलते ज्यादा लोग प्रतिनिधिमंडल में शामिल नहीं हो सकते थे. आने वाले दिनों में बीजेपी के अलग-अलग नेता राज्यपाल से मुलाकात कर इस मामले में हस्तक्षेप की मांग करेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज