राजस्थान चुनाव के मद्देनजर आदिवासियों का दिल जीतने में जुटी भाजपा

Babulal Dhayal | ETV Rajasthan
Updated: August 13, 2017, 3:25 PM IST
राजस्थान चुनाव के मद्देनजर आदिवासियों का दिल जीतने में जुटी भाजपा
आदिवासियों को लुभाने में जुटी भाजपा
Babulal Dhayal | ETV Rajasthan
Updated: August 13, 2017, 3:25 PM IST
आगामी राजस्थान विधनसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा आदिवासियों का दिल जीतने की कोशिश में जुट गई है. आदिवासी मतदाताओं से जुड़ाव मजबूत करने के लिए इस समय पार्टी ठोस कार्ययोजना बनाने में व्यस्त है.

जानकारी के मुताबिक बीजेपी के नेता और कार्यकर्ता आदिवासियों को लुभाने की कवायद में जुट गये हैं. जंगल और पहाड़ों पर आबाद आदिवासी मतदाताओं का भाजपा में भरोसा कायम रखने के इरादे से पार्टी ने हाल ही में आदिवासी दिवस मनाने का एलान किया. इसके बाद पार्टी अब तिरंगा यात्रा के जरिए आदिवासियों का दिल जीतने के प्रयास जारी हैं.

राजस्थान में अनुसूचित जनजाति के लिए 200 में से 25 विधानसभा सीटें आरक्षित हैं. बीजेपी ने 2013 के चुनाव में 18 सीटें जीतकर कांग्रेस को आदिवासी बहुल इलाकों में चारों खाने चित कर दिखाया जबकि दो आदिवासी विधायक सामान्य सीटों से भी चुनाव जीतने में कामयाब रहे. बीजेपी 2013 के विधानसभा चुनाव के नतीजों को 2018 में वनवासियों के बीच दोहराना चाहती हैं.

इसलिए न सिर्फ अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित 25 विधानसभा सीटों पर बल्कि करीब चार दर्जन उन विधानसभा सीटों पर भी पार्टी फोकस कर रही है जहां आदिवासियों का वोट निर्णायक भूमिका में हैं. पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी का दावा है कि आदिवासियों के कल्याण के लिए शुरु की गई वसुंधरा और मोदी सरकार की योजनाओं से पार्टी वनवासियों के बीच और मजबूत होगी. इस कड़ी में पार्टी ने आदिवासियों के बीच कई कार्यक्रम आयोजित करने का एलान किया है.
First published: August 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर