Rajasthan News: CM फेस पर बोले गुलाबचंद कटारिया- BJP में प्रदेश अध्यक्ष के मुख्‍यमंत्री बनने की परंपरा नहीं

कटारिया बोले पार्टी तय करेगी कि किसके नेतृत्व में विधानसभा चुनाव लड़ा जाएगा.

Political turmoil in Rajasthan BJP: बीजेपी की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में सीएम फेस को लेकर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया (Gulabchand Kataria) की ओर से दिये गये बयान से पार्टी में सियासी तूफान आ गया है.

  • Share this:
जयपुर. बीजेपी में सीएम फेस को लेकर जारी घमासान के बीच नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया (Gulabchand Kataria) के एक बयान ने सियासी प्याले में तूफान ला दिया है. भाजपा राजस्‍थान कार्यसमिति की बैठक के बीच कटारिया ने पत्रकारों से कहा कि प्रदेश अध्यक्ष के सीएम बनने (CM Face) की बीजेपी में परंपरा नहीं है.

बीजेपी की प्रदेश कार्यसमिति की मंगलवार को हुई बैठक के बीच गुलाबचंद के इस बयान ने बखेड़ा खड़ा कर दिया है. कटारिया ने कहा कि बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष ही मुख्यमंत्री का चेहरा नहीं होता है. ऐसा बहुत कम हुआ है कि जो प्रदेशाध्यक्ष होता है, वही मुख्यमंत्री बना हो. कटारिया ने कहा कि बीजेपी में व्यक्ति तय नहीं करता कि कौन मुख्यमंत्री बनेगा.

वसुंधरा समर्थकों के बयान से उठी बात
गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि प्रदेश बीजेपी में काम करने के लिए बहुत चेहरे हैं. चुने हुए विधायक और संसदीय बोर्ड ही मुख्यमंत्री तय करता है. वसुंधरा राजे के समर्थन में आ रहे विधायक और पूर्व विधायकों के बयान पर कटारिया बोले अभी मुख्यमंत्री बनाने का सीजन नहीं आया न ही चुनावों की तारीख आई है. पार्टी तय करेगी किसके नेतृत्व में विधानसभा चुनाव लड़ा जाएगा.

मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत को लिए आड़े हाथ
कटारिया ने सीएम गहलोत पर भी जमकर हमला बोलते हुए कहा कि वह रोज बयानों की बमबारी करते हैं. 18 महीने से प्रदेश का सीएम सिविल लाइंस आवास में कैद है. प्रदेश में राजनीतिक तूफान आ रहा है, इसलिए सीएम होम क्वारन्टीन हो गए. मुख्यमंत्री निर्दलीयों और बसपा से आए विधायकों से रोजाना भाषण दिलवाते हैं.

गहलोत सरकार कोरोना संकट से निपटने में विफल: भाजपा
दिनभर चली प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में राजनीतिक प्रस्ताव पारित किया गया. इसमें कोरोना से निपटने में गहलोत सरकार को पूरी तरह विफल करार दिया गया. प्रस्ताव में कहा गया कि केन्द्र की ओर से उपलब्ध करवायी गई वैक्सीन का राज्य में सही इस्तेमाल नहीं किया गया. प्रस्ताव में सरकार पर युवाओं को धोखा देने के आरोप लगाए गए. रोजगार पर सरकार की कथित वादाखिलाफी पर भी जमकर खरी-खोटी सुनाई गई.

कार्यसमिति की बैठक में कई दिग्‍गज नेता रहे मौजूद
इसके साथ ही संविदाकर्मियों को स्थायी नहीं करने, बिजली के बढ़ते बिल और खराब कानून व्यवस्था को लेकर भी सरकार पर आरोपों की झड़ी लगाई गई. बैठक में प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह, केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया और उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ समेत कई नेता मौजूद रहे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.