लाइव टीवी

BJP संगठन चुनाव में खींचतान का 'साया', 1049 मंडलों में से 456 में नहीं चुने जा सके अध्यक्ष

Sudhir sharma | News18 Rajasthan
Updated: December 10, 2019, 8:15 PM IST
BJP संगठन चुनाव में खींचतान का 'साया', 1049 मंडलों में से 456 में नहीं चुने जा सके अध्यक्ष
पार्टी के चुनाव प्रभारी राजेन्द्र गहलोत का दावा है कि मंडल अध्यक्षों के मसले पर कोई मतभेद नही हैं.

प्रदेश बीजेपी में चल रहे संगठनात्मक चुनाव (BJP Organization Election) के तहत अब तक 593 मंडल अध्यक्ष ही चुने जा सके हैं. 9 संगठनात्मक जिले ऐसे हैं, जिनमें अभी तक कई मंडल अध्यक्षों का निर्वाचन नहीं हो पाया है.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश बीजेपी में चल रहे संगठनात्मक चुनाव (BJP Organization Election) के तहत अब तक 593 मंडल अध्यक्ष ही चुने जा सके हैं. 9 संगठनात्मक जिले ऐसे हैं, जिनमें अभी तक कई मंडल अध्यक्षों का निर्वाचन नहीं हो पाया है. इससे पहले ही वहां ऊपर की इकाई यानि जिला अध्यक्ष (District president) के निर्वाचन की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है. इन स्थानों पर सीधे तौर पर पार्टी बड़े नेताओं (Big leaders) के बीच खींचतान चल रही है. इसके चलते मंडल अध्यक्षों की घोषणा नही हो पाई है.

चुनाव प्रभारी का दावा कोई मतभेद नहीं
प्रदेश बीजेपी के 1049 मंडलों में से अभी तक केवल 593 में ही अध्यक्ष बने हैं. 52,072 बूथों में से 25,163 में बूथ समितियों का गठन किया जा सका है. जबकि इनमें अब जिलाध्यक्षों के निर्वाचन की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. पार्टी के चुनाव प्रभारी राजेन्द्र गहलोत का दावा है कि मंडल अध्यक्षों के मसले पर कोई मतभेद नही हैं.

इन जिलों में हो रही है खींचतान

यह बात दीगर है कि अभी तक 9 जिलों में 456 स्थानों पर मंडल अध्यक्ष नही बने हैं. अभी तक जयपुर शहर में 33 मंडलों में अध्यक्ष नहीं बन पाए हैं. इसी तरह जयपुर देहात में 29, झुंझुनूं में 39, दौसा में 25, धौलपुर में 19, करौली में 22, कोटा शहर 14, कोटा देहात में 19 और बासंवाड़ा में 22 मंडल अध्यक्षों का निर्वाचन नहीं हो पाया है.

उम्र की सीमा बढ़ने के बाद पार्टी में असंतोष उभरा
मंडल अध्यक्षों के मामले में युवाओं को तरजीह दिया तय किया गया था. इसके तहत 40 साल की उम्र तय की गई थी. लेकिन कई स्थानों पर उम्र की सीमा बढ़ने के बाद पार्टी में असंतोष नजर आया. इस पर राजेन्द्र गहलोत कहना है कि जहां पर युवा नहीं मिले वहां दूसरों को जिम्मेदारी दी गई है.पार्टी कर रही है संगठनात्मक जिलों का विस्तार
बीजेपी अपना वर्चस्व बढ़ाने के लिए अपने संगठनात्मक जिलों का भी विस्तार कर रही है. इसके तहत अलवर को शहर और देहात में बांट दिया गया है. वहीं जयपुर शहर में वार्डों की संख्या बढ़ने के बाद जयपुर ग्रेटर और जयपुर हैरिटेज नाम से दो जिले बनाने पर पार्टी में मंथन चल रहा है. संगठनात्मक चुनाव को लेकर बुधवार को जयपुर स्थित प्रदेश कार्यालय में समीक्षा बैठक का आयोजन किया जाएगा.

गहलोत सरकार का बेरोजगार के लिए तोहफा, GNM और ANM के 11233 पद फिर किए सृजित

Be Alert: नाबालिगों से रेप और छेड़छाड़, 89 फीसदी आरोपी रिश्तेदार और परिचित

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2019, 8:10 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर