Rajasthan: BJP की बागी नेता पूर्व मंत्री ऊषा पूनिया और सुरेंद्र गोयल की घर वापसी की सुगबुगाहट तेज
Jaipur News in Hindi

Rajasthan: BJP की बागी नेता पूर्व मंत्री ऊषा पूनिया और सुरेंद्र गोयल की घर वापसी की सुगबुगाहट तेज
सुरेंद्र गोयल ने विधानसभा चुनाव-2018 में टिकट नहीं मिलने से नाराज होकर कांग्रेस का दामन थाम लिया था.

राजस्थान बीजेपी (Rajasthan BJP) में इन दिनों बागियों की वापसी के चर्चें काफी तेज हैं. घनश्याम तिवाड़ी और मानवेन्द्र सिंह के बाद अब राजे सरकार में मंत्री रही ऊषा पूनिया और सुरेंद्र गोयल (Usha Poonia and Surendra Goyal) का नाम इस सूची में शामिल हो गया है.

  • Share this:
जयपुर. पिछले विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं मिलने समेत अन्य कारणों से बीजेपी से बगावत (Rebellion) कर निकले नेताओं की वापसी की जमीन फिर से तैयार की जा रही है. इस कड़ी में पहले घनश्याम तिवाड़ी और मानवेंद्र सिंह (Ghanshyam Tiwari and Manvendra Singh) का नाम सामने आया था. लेकिन अब इस सूची में दो पूर्व मंत्रियों का नाम भी जुड़ गया है. इनमें वसुंधरा सरकार में मंत्री रही ऊषा पूनिया और सुरेंद्र गोयल (Usha Poonia and Surendra Goyal) का नाम शामिल हैं.

Sriganganagar: भारत-पाक बॉर्डर पर BSF ने 2 पाकिस्‍तानी घुसपैठियों को मार गिराया, हथियार बरामद

दोनों ने पिछले दिनों पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से मुलाकात की थी
इन दोनों नेताओं ने पिछले दिनों पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से मुलाकात की थी. उसके बाद इन दोनों नेताओं के भी कांग्रेस छोड़कर वापस बीजज का दामन थामने की अटकलें तेज हो गई है. इन दोनों नेताओं ने कांग्रेस का दामन तो थामा लेकिन ये कभी पार्टी के किसी मंच पर नजर नहीं आए. सुरेंद्र गोयल ने विधानसभा चुनाव-2018 में टिकट नहीं मिलने से नाराज होकर कांग्रेस का दामन थाम लिया था. लेकिन अब पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से उनकी मुलाकात काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है. कयास लगाये जा रहे हैं कि उनकी जल्द घर वापसी हो सकती है.
North Western Railway : 4 नई पैसेंजर ट्रेनों की घोषणा, 12 सितंबर से चलेंगी, देखें पूरा शिड्यूल



राजे के लिये बेनीवाल की काट साबित हो सकती हैं पूनिया
वहीं दिग्गज जाट नेत्री ऊषा पूनिया ने भी हाल ही में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से उनके निवास में पहुंचकर मुलाकात की थी. उसके बाद सियासत में इस बात की चर्चा तेजी से उठी है कि राजे के जरिए पूनिया की पार्टी में वापसी हो सकती है. ऐसा होता है तो राजे अपने घोर विरोधी आरएलपी नेता हनुमान बेनीवाल के खिलाफ पार्टी में ऊषा पूनिया और उनके पति विजय पूनिया को मजबूती से खड़ा कर सकती है. यह इसलिए हो सकता है क्योंकि पूर्व में ऊषा पूनिया ने विधानसभा के चुनाव में मूंडवा में हनुमान बेनीवाल को शिकस्त दी थी. हनुमान बेनीवाल अभी बीजेपी में आरएलपी पार्टी के सहयोगी के तौर पर ही है लेकिन वे राजे के खिलाफ खुलकर बोलते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज