BLOG: इलेक्ट्रिक कार खरीद पर आयकर में छूट सराहनीय लेकिन राजस्व व्यय में इजाफा निराश करने वाला

मोदी सरकार 2.0 का के पहले बजट में इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद ऋण पर लगने वाले ब्याज की आयकर में छूट, GST डीलर्स को interest subvention और कर दर को घटाकर 12% से 5% करने के प्रस्ताव सराहनीय है.

News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 4:29 PM IST
BLOG: इलेक्ट्रिक कार खरीद पर आयकर में छूट सराहनीय लेकिन राजस्व व्यय में इजाफा निराश करने वाला
इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद ऋण पर लगने वाले ब्याज की आयकर में छूट. (प्रतिकात्मक तस्वीर)
News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 4:29 PM IST
मोदी सरकार 2.0 का के पहले बजट में इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद ऋण पर लगने वाले ब्याज की आयकर में छूट, GST डीलर्स को interest subvention और कर दर को घटाकर 12% से 5% करने के प्रस्ताव की घोषणा के साथ ही Corporate tax rate 25% के दायरे में लाने के लिए turnover की सीमा को बढ़ाकर 400 करोड़ करना सराहनीय है. साथ ही Service Tax से सम्बन्धित Litigations के समाधान के लिए 'सबका विश्वास' (Legacy Dispute Resolution Scheme) और 2024 तक सबको साफ पानी उपलब्ध कराना की योजनाएं सराहनीय प्रस्ताव है.

इस बजट से गांव, किसान, युवाओं को काफी उम्मीदें थी जिनको लेकर कहीं न कहीं निराशा ही मिली है. साथ ही कर सुधारों के सरलीकरण, कर ढांचागत सुधार और प्रक्रियागत सरलीकरण की भी काफी उम्मीदें थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.
मोदी 2.0 के इस बजट को लेकर माना जा रहा था कि दीर्घकालीन योजनाओं पर ध्यान दिया जाएगा. उनके लिए संसाधनों की उपलब्धता को बढ़ाया जाएगा लेकिन यदि 2018-19 के आंकड़ों से ही तुलना करें तो सिर्फ 22,000 करोड़ रुपए ही प्रस्तावित हैं. इसके साथ ही राजस्व व्यय (Revenue Expenditure) 3.07 करोड़ से अधिक के इजाफे का प्रस्ताव 2018-19 के राजस्व व्यय की तुलना में निराश करने वाला ही होगा.

इसी प्रकार MGNREGA जैसी योजना जो हमेशा से बीजेपी और मोदी सरकार में सवालों के घेरे में रही है, लेकिन इस बजट में इस योजना के लिए 5000 करोड़ रुपए का प्रस्ताव कहीं न कही चौंकाने वाला है. यह सरकार की कथनी और करनी में अन्तर को दर्शाता है. कुल मिलाकर कुछ अच्छे प्रस्तावों को छोड़ दें तो ज्यादातर समय बजट भाषण पुरानी बातों को दोहराने या ख्याली पुलाव पकाने वाला ही लगा.

(लेखक- सीएल यादव,  पूर्व चेयरमैन, ICAI, जयपुर)

Budget 2019, Budget impacts
फोटो- सीएल यादव, पूर्व चेयरमैन, ICAI, जयपुर.


ये भी पढ़ें- मोदी सरकार 2.0 बजट के केन्द्र में गांव, गरीब और किसान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 5, 2019, 3:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...