Home /News /rajasthan /

jaipur bomb blast case accused still away from hanging after 11 years death penalty to 4 convicts givin nodps

Jaipur Bomb Blast: आज के दिन बम धमाकों से दहला था जयपुर, 14 साल बाद भी फांसी से दूर हैं गुनहगार

बलास्ट के 11 साल बाद जयपुर बम ब्लास्ट की विशेष अदालत ने 4 आरोपियों को फांसी की सज़ा सुनाई थी.

बलास्ट के 11 साल बाद जयपुर बम ब्लास्ट की विशेष अदालत ने 4 आरोपियों को फांसी की सज़ा सुनाई थी.

13 मई यानी आज ही के दिन जयपुर में 14 साल पहले हुए बम धमाकों की बरसी है. इन आठ सीरियल बम ब्लास्ट में करीब 71 लोगों की मौत हुई थी. वहीं 185 लोग घायल हो गए थे. बलास्ट के 11 साल बाद जयपुर बम ब्लास्ट की विशेष अदालत ने 4 आरोपियों को फांसी की सज़ा सुनाई थी. हालांकि ढाई साल बाद भी आरोपियों को फांसी नहीं हो पाई है.

अधिक पढ़ें ...

जयपुर. राजस्थान की राजधानी जयपुर में जैसे ही 13 मई कलेंडर पर दस्तक देती है यहां के रहवासियों की आंखे नम हो जाती हैं. 13 मई यानी आज ही के दिन जयपुर में 14 साल पहले हुए बम धमाकों की बरसी है. इन धमाकों में 71 लोगों की जान गई थी. शाम को शुरू हुए एक के बाद एक 8 धमाकों की गूंज आज भी 71 मृतकों के परिजनों के कानों में गूंजती रहती है.

14 साल बाद भी परिजनों को न्याय नहीं मिल पा रहा है. आरोपियों को सजा मिलने के बाद भी फांसी नहीं हो पा रही है. साल 2008 में हुए इन धमाकों ने पिंकसिटी को दहला दिया था. आज भी इस ब्लास्ट के जख्म हरे हैं. पीड़ितों को न्याय मिलने में 11 साल की देरी हुई और सज़ा का ऐलान होने के ढ़ाई साल बाद भी दोषियों को फांसी के फंदे पर नहीं लटकाया जा सका है.

फांसी की सुनाई सजा
ब्लास्ट के चारों दोषियों को विशेष अदालत ने 20 दिसम्बर 2019 को फांसी की सज़ा तो सुना दी. लेकिन आज भी हर जयपुरवासी को उस दिन का इंतज़ार है, जब ये सभी गुनहगार फांसी के फंदे पर लटकाए जाएंगे. अभी डेथ वारंट और दोषियों की अपील पर हाई कोर्ट में मामला लंबित है. वहीं देरी होने की दूसरी वज़ह राजस्थान एटीएस की कार्यशैली है. मामले में विशिष्ट लोक अभियोजक विनोद शर्मा ने बताया कि एटीएस ने घटना के करीब साढ़े 11 साल बाद रामचंद्र मंदिर के बाहर जिंदा बम के मामलें में चालान पेश किया. जिस पर जयपुर बम ब्लास्ट की विशेष अदालत सुनवाई कर रही है. इसकी वज़ह से भी मामलें में देरी हो रही है.

71 लोगों की हुई थी मौत
इन आठ सीरियल बम ब्लास्ट में करीब 71 लोगों की मौत हुई थी. वहीं 185 लोग घायल हो गए थे. बलास्ट के 11 साल बाद जयपुर बम ब्लास्ट की विशेष अदालत ने 4 आरोपियों को फांसी की सज़ा सुनाई थी. 18 दिसम्बर 2019 को जज अजय कुमार शर्मा प्रथम ने चारों आरोपियों मोहम्मद सैफ, सरवर आजमी, सलमान और सैफुर्रहमान को बम ब्लास्ट का दोषी करार दिया था.

वहीं मुजाहिद्दीन के नाम से धमाकों की जिम्मेदारी लेने वाले आरोपी मोहम्मद शहबाज हुसैन को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया था. वहीं 20 दिसम्बर 2019 को इन चारों आरोपियों को फांसी की सज़ा सुनाई थी. ब्लास्ट केस के कुल 11 आरोपियों में से 5 को राजस्थान एसओजी ने गिरफ्तार किया था. एक आरोपी को 2018 में दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया था. जबकि तीन आरोपी मिर्जा शादाब बेग उर्फ मलिक, साजिद बड़ा और मोहम्मद खालिद अभी तक फरार हैं. दो आरोपी मोहम्मद आतिफ अमीन उर्फ बशीर और छोटा साज़िद बाटला एनकाउंटर में मारे जा चुके हैं.

Tags: Jaipur news, Rajasthan news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर