Rajasthan: BJP और कांग्रेस दोनों ही नहीं उतरी वादे पर खरी, अधूरी रही किसानों की कर्ज माफी

संसद में पेश आंकड़ों के मुताबिक 4 ऋण माफी योजनाओं से प्रदेश के कुल 48 लाख 72 हजार किसानों को लाभ मिला है.
संसद में पेश आंकड़ों के मुताबिक 4 ऋण माफी योजनाओं से प्रदेश के कुल 48 लाख 72 हजार किसानों को लाभ मिला है.

राजस्थान में किसानों की कर्ज माफी (Debt waiver of Farmers) बीजेपी और कांग्रेस दोनों की सरकारों के कार्यकाल में पूरी नहीं हो पाई, जबकि दोनों ने इसका वादा किया था. लोकसभा में एक सवाल के जवाब में आई जानकारी में इसका खुलासा हुआ है.

  • Share this:
जयपुर. देश-प्रदेश में सत्ता का रास्ता खेतों से होकर गुजरता है. यही वजह है कि सरकारें किसानों (Farmers) को साधने के लिए तमाम तरह के जतन करती रही है. राजस्थान में बीजेपी और कांग्रेस (BJP and Congress) दोनों ही दलों की सरकारों ने किसानों की कर्ज माफी (Debt waiver) की, लेकिन दोनों ही अपनी-अपनी घोषणाओं पर पूरी तरह खरी नहीं उतर सकीं. लोकसभा में एक सवाल के जवाब में कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री की ओर से पेश किए आंकड़ों में यह जानकारी सामने आई है.

जवाब में जानकारी दी गई है कि राजस्थान सरकार ने अलग-अलग श्रेणी के कर्जदार किसानों के लिए साल 2018 से 2019 के बीच कर्जमाफी की कुल चार योजनाओं की घोषणा की. इन योजनाओं के तहत 18 हजार 695 करोड़ के कर्ज माफ करने का ऐलान किया गया था, लेकिन हकीकत में इसमें से 15 हजार 603 करोड़ के ही कर्ज माफ हो पाए.

सवाई माधोपुर नाबालिग रेप केस: BJP महिला नेत्री ने महज 2000 रुपयों की खातिर पीड़िता को इलेक्ट्रीशियन के हाथों सौंपा



किस योजना में कितना लाभ?
किसान कर्जमाफी के लिए जो 4 योजनाएं लाई गई उनमें अशोक गहलोत की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार के अलावा वसुंधरा राजे की अगुवाई वाली बीजेपी सरकार की ऋण माफी योजना भी शामिल है. साल 2018 में आई राजस्थान कृषक ऋण माफी योजना के तहत 8414.53 करोड़ की ऋण माफी प्रस्तावित थी, लेकिन इसमें 7546.78 करोड़ रुपए का ही कर्ज माफ हो पाया. इसी तरह राजस्थान जनजातीय उपयोजना कृषि ऋण माफी एवं रहन मुक्ति योजना 2018 के तहत 96.97 करोड़ के ऋण माफ होने थे लेकिन TSP क्षेत्र के लिए आई इस योजना में 72.56 करोड़ की माफी का ही लाभ किसानों को मिल पाया. वहीं राजस्थान कृषक ऋण माफी योजना 2019 में 9513.22 करोड़ की कर्जमाफी प्रस्तावित थी लेकिन इस योजना में 7672.81 करोड़ की ऋण माफी का फायदा ही किसानों को मिला. उधर 2019 में ही लाई गई सहकारी मध्यकालीन एवं दीर्घकालीन ऋण माफी योजना में 671 करोड़ की कर्ज माफी प्रस्तावित थी, लेकिन इस योजना में भी 311.20 करोड़ की माफी का ही लाभ किसानों को मिला.

Rape Cases: राजस्थान में बारां, सीकर, जयपुर और अजमेर की घटनाओं पर मचा बवाल, नेताओं में छिड़ा 'Twitter War'

48.72 लाख किसान लाभान्वित
संसद में पेश आंकड़ों के मुताबिक इन ऋण माफी योजनाओं से प्रदेश के कुल 48 लाख 72 हजार किसानों को लाभ मिला है. बीजेपी सरकार की मुख्य कर्जमाफी योजना में 27 लाख 90 हजार किसान लाभान्वित हुए थे जबकि कांग्रेस सरकार की मुख्य ऋण माफी योजना का फायदा 20 लाख 47 हजार किसानों को मिला. इसके अलावा कर्जमाफी की दो अन्य योजनाओं में करीब 36 हजार किसानों का कर्जा माफ हुआ। ऋण माफी योजनाओं से बड़े स्तर पर किसान लाभान्वित जरुर हुए, लेकिन कांग्रेस और बीजेपी दोनों ने ही सरकारों ने अपने वादे के मुताबिक किसानों के कर्ज को माफ नहीं किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज