अपना शहर चुनें

States

Cartist Festival-2020: प्लास्टिक का उपयोग सोच-समझकर करें, पुरानी कार भी बन सकती है अनूठी कलाकृति

कार्टिस्ट के संस्थापक हिमांशु जांगिड़ बताते हैं कि इसका मुख्य उद्देश्य हमें उज्जवल व बेहतर भविष्य की ओर जाने के लिए हमारे दिन-प्रतिदिन के जीवन से शुरू होने वाले सस्टेनेबल सॉल्यूशंस को लागू करना है.
कार्टिस्ट के संस्थापक हिमांशु जांगिड़ बताते हैं कि इसका मुख्य उद्देश्य हमें उज्जवल व बेहतर भविष्य की ओर जाने के लिए हमारे दिन-प्रतिदिन के जीवन से शुरू होने वाले सस्टेनेबल सॉल्यूशंस को लागू करना है.

Cartist Festival-2020: यह भारत का सबसे बड़ा ऑटोमोबाइल आर्ट फेस्टिवल है. इसके जरिए युवाओं में कला को बढ़ावा देने के मिशन के साथ संपूर्ण भारत के ऑटोमोबाइल व कला जगत (Automobiles & Art World) के लोगों को एक मंच पर लाया गया है.

  • Share this:
जयपुर. कोरोना (COVID-19) के चलते इस बार राजधानी जयपुर में वर्चुअल 'कार्टिस्ट फेस्टिवल-2020' (Cartist Festival) का आयोजन किया जा रहा है. इसके तहत कला और ऑटोमोबाइल के जरिए सस्टेनेबिलिटी (Sustainability) का संदेश देने वाली विभिन्न गतिविधियां आयोजित की जा रही हैं. फेस्टिवल में देशभर से विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ, कलाकार, ऑटोमोबाइल विशेषज्ञ, डिजाइनर और अन्य प्रख्यात व्यक्ति अपने विचारों को साझा कर जीवन में सस्टेनेबिलिटी के महत्व पर बात कर रहे हैं.

कलाकारों के समूह कार्टिस्ट द्वारा पुरानी कारों का फिर से उपयोग कर इन्हें अनूठी कलाकृतियों में परिवर्तित कर रहे हैं. इनको री-साइकिल करके सस्टेनेबिलिटी को बढ़ावा दिया जा रहा है. इससे ये पुरानी कारें पर्यावरण के लिए हानिकारक बनने से बच रही है. इसके अतिरिक्त भारत की कला व संस्कृति का समर्थन करने के प्रयास के तहत कार्टिस्ट के साथ देश के विभिन्न हिस्सों के कलाकारों भी उत्साहपूर्वक जुड़े हुए हैं. 27 नवंबर से शुरू हुआ यह 'कार्टिस्ट फेस्टिवल' 2 दिसंबर तक चलेगा.

Farmer Protest: राजस्थान की नन्हीं बेटी ने खेत से भरी हुंकार, PCC चीफ ने ट्वीटर पर शेयर किया जोशीला VIDEO

पुराने वाहनों को सावधानीपूर्वक तरीके से नष्ट किए जाने के महत्व को दर्शाया गया है


इस फेस्टिवल में एक क्लासिक एंबेसडर का इंस्टॉलेशन शामिल है. इसे स्वर्णिम पत्तों के डिजाइनों से कवर किया गया है. 'ओल्ड इज गोल्ड' नामक इस इंस्टॉलेशन के जरिए पुराने वाहनों को सावधानीपूर्वक तरीके से नष्ट किए जाने के महत्व को दर्शाया गया है. इसके जरिए मजबूती के साथ यह संदेश दिया जा रहा है कि हमें हमारे व्यक्तिगत हितों के लिए धरती पर कचरे के ढेर नहीं लगाने चाहिए. बल्कि समाज की भलाई के लिए सस्टेनेबल सॉल्यूशंस अपनाए जाने चाहिए. यह इंस्टॉलेशन जयपुर के विख्यात गोल्ड वर्क का व्यापक अनुभव रखने वाले कलाकार अफजल खान व उनकी टीम द्वारा तैयार किया गया है.

प्लास्टिक का कम से कम उपयोग करें
इसके अतिरिक्त कार्टिस्ट द्वारा हजारों यूज्ड प्लास्टिक की बोतलों से भी एक अन्य आर्ट इंस्टॉलेशन भी प्रदर्शित किया गया है. इसके जरिए प्लास्टिक का कम से कम उपयोग करने के बारे में जागरूकता उत्पन्न की जा रही है जो वर्तमान समय की गंभीर जरूरत भी है. इसके जरिए बताया जा रहा है कि प्लास्टिक पर्यावरण के लिए सर्वाधिक नुकसान पहुंचाने वाले तत्वों में से एक है. इसका पर्यावरण को सुरक्षित रखने के लिए अत्यंत विवेकपूर्ण तरीके से इस्तेमाल किया जाना चाहिए.

कोरोना योद्धाओं की कहानियों पर फोकस
वहीं कोरोना के इस मुश्किल दौर में व्यक्तिगत हितों से आगे बढ़कर मानवता की सेवा कर रहे कोरोना योद्धाओं की कहानियों को अमर बनाने के लिए कार्टिस्ट द्वारा डॉक्टर्स को समर्पित एक कार की कलाकृति बनाई गई है. यह कृति दुनिया को बचाने के लिए जी-जान से जुटकर रीयल लाइफ के हीरो बन चुके मेडिकल स्टाफ के प्रति सम्मान है. कार्टिस्ट फेस्टिवल को समर्थन करने के लिए, लखनऊ, बीकानेर, दिल्ली, बैंगलूरु, पुणे, इंदौर और सांगली जैसे शहरों के कलाकार कोविड की स्थिति के मद्देनजर सभी सुरक्षा सावधानियों को अपनाते हुए फेस्टिवल के वर्चुअल मंच पर अपने घरों से कलाकृतियां बना रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज