vidhan sabha election 2017

हाउसिंग बोर्ड और यूडीएच की अफसरी का शिकार हुआ केंद्रीय संस्थान

ETV Rajasthan
Updated: December 7, 2017, 7:04 PM IST
हाउसिंग बोर्ड और यूडीएच की अफसरी का शिकार हुआ केंद्रीय संस्थान
(फाइल फोटो)
ETV Rajasthan
Updated: December 7, 2017, 7:04 PM IST
राजस्थान हाउसिंग बोर्ड और यूडीएच महकमे की लालफीताशाही से केंद्रीय एचआरडी मंत्रालय की संस्था नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग तक नहीं बच पाई है.

केंद्र की इस संस्था ने चार साल पहले जमीन आवंटन के लिए पैसा जमा करवा दिया था, लेकिन अब तक संस्था को न जमीन दी गई और न जमा करवाया गया पैसा वापस दिया जा रहा है.

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग ने 22 नवंबर 2013 को जमीन के लिए 1.95 करोड़ रुपए जमा करवा दिए थे. इस मामले में संस्था ने आखिरी तारीख 31 मार्च 2013 के बाद पैसा जमा करवाया था, इसलिए पेनल्टी का पैसा वसूलने के बाद जमीन आवंटित करने की बात कही.

केंद्र की संस्था ने हाउसिंग बोर्ड से इस मामले में निर्देश मांगे लेकिन जवाब तक नहीं दिया, चार साल बीत जाने के बावजूद हालात जस के तस हैं. केंद्र की संस्था के 1.95 करोड़ हाउसिंग बोर्ड के पास पड़े हैं. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग ने यूडीएच और हाउसिंग बोर्ड को तीन बार चिट्ठी लिखकर उसके द्वारा जमा करवाया गया पैसा लौटाने को कहा, लेकिन उसका भी कोई जवाब तक नहीं दिया जा रहा . संस्था ने फिर एक दिसंबर को यूडीएच को चिट्ठी लिखी है.

इस पूरे मामले में हाउसिंग बोर्ड और यूडीएच का कोई अफसर बोलने को तैयार नहीं है. इस पूरे मामले में यूडीएच और हाउसिंग बोर्ड की कार्यप्रणाली सवालों के घेरे में है.

(रिपोर्टः गोवर्धन चौधरी ) 156
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर