Rajasthan: CS राजीव स्वरूप को एक्सटेंशन मिलेगा या फिर किसी और को मिलेगी कमान ? नजरें दिल्ली पर

सीएस राजीव स्वरूप 31 अक्टूबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं.
सीएस राजीव स्वरूप 31 अक्टूबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं.

राजस्थान के मुख्य सचिव राजीव स्वरूप को एक्सटेंशन (Extension) मिलेगा या फिर प्रदेश को नया मुख्य सचिव (New CS) इसका फैसला आने वाले 7 दिनों हो जायेगा. इसके लिये सभी की नजरें दिल्ली (Delhi) पर टिकी है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान की ब्यूरोक्रेसी (Bureaucracy) के लिए अगले 7 दिन बेहद अहम हैं. इन 7 दिनों में राज्य की 2 महत्वपूर्ण फाइलों (Important files) पर दिल्ली में फैसला होगा. पहला फैसला मुख्य सचिव राजीव स्वरूप का एक्सटेंशन (Extension) से जुड़ा है. दूसरा बड़ा मामला डीजीपी (DGP) के लिए पैनल आना है. अभी डीजी (क्राइम) एमएल लाठर के पास राजस्थान पुलिस महानिदेशक का अतिरिक्त चार्ज है. भूपेन्द्र सिंह यादव की सेवानिवृत्ति के बाद अभी तक डीजीपी पद पर स्थायी निुयक्ति नहीं हो पाई है. ऐसे में अब राजस्थान की जनता और ब्यूरोक्रेट्स की नजरें दिल्ली पर टिकी हुई हैं.

मुख्य सचिव राजीव स्वरूप 31 अक्टूबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं. उन्हें एक्सटेंशन का इंतजार है. मुख्य सचिव के एक्सटेंशन के लिये राज्य सरकार ने फाइल केन्द्र को भेज रखी है. उसके जवाब की प्रतीक्षा की जा रही है. केन्द्र से हां या ना का कोई भी जवाब मिल सकता है. लेकिन इस बीच राज्य सरकार ने विकल्प के तौर पर नये मुख्य सचिव को ढूंढने की तैयारी भी शुरू कर दी है. ताकि 1 नवंबर को किसी दूसरे सीनियर आईएएस को मुख्य सचिव पद की कमान देने में कोई अड़चन ना आए. मुख्य सचिव को एक्सटेंशन नहीं मिलने पर कई सीनियर आईएएस ऑफिसर इस पद के दावेदार हैं.

Big News: राजस्थान में बदल सकती है पंचायती राज की तस्वीर, बिना सिंबल चुनाव कराने की तैयारी



ये है आईएएस अधिकारियों की वरिष्ठता सूची
वरिष्ठता के हिसाब से देखा जाए तो 1985 बैच के आईएएस रविशंकर श्रीवास्तव सबसे वरिष्ठ हैं. लेकिन एसीबी में दर्ज मामले उनकी राह में अड़चन पैदा कर सकते हैं. दूसरी वरीयता गिरिराज सिंह की है. लेकिन वे बीजेपी और और कांग्रेस के शासन में मुख्यधारा में कम ही रहे हैं. 1985 बैच के आईएएस अधिकारियों में रविशंकर श्रीवास्तव, गिरिराज सिंह और उषा शर्मा हैं. 1987 बैच की आईएएस नीलकमल दरबारी और वीनू गुप्ता वरिष्ठ हैं. वहीं 1988 बैच के सुबोध अग्रवाल और पीके गोयल हैं. इनके बाद 1989 बैच के राजेश्वर सिंह, निरंजन आर्य और रोहित कुमार सिंह हैं.

गत एक दशक में राजन को ही दो बार सेवा विस्तार मिला है
प्रदेश में पिछले एक दशक में राज्य में 9 आईएएस मुख्य सचिव बने हैं. लेकिन इस दौरान केवल सीएस राजन को ही दो बार तीन 3-3 महीने का सेवा विस्तार मिला है. राजन का कार्यकाल 31 दिसंबर 2015 को पूरा हो गया था. लेकिन तत्कालीन वसुंधरा सरकार ने उन्हें जून 2016 तक का केंद्र सरकार से 2 बार एक्सटेंशन दिलवाया था. अब देखना है यह है कि मुख्य सचिव राजीव स्वरूप को एक्सटेंशन मिलता है या फिर प्रदेश को नया मुख्य सचिव मिलेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज