Rajasthan: चित्तौड़गढ़ सांसद ने लिया अनूठा संकल्प, 5,76,247 वोटों से जीते हैं तो उतने ही लगायेंगे पौधे
Chittorgarh News in Hindi

Rajasthan: चित्तौड़गढ़ सांसद ने लिया अनूठा संकल्प, 5,76,247 वोटों से जीते हैं तो उतने ही लगायेंगे पौधे
सांसद जोशी ने 1 साल बाद 5,76,247 पेड़ लगाने का महाअभियान शुरू कर वोटर्स को रिटर्न गिफ्ट देने की शुरुआत की है.

देश लॉकडाउन से अनलॉक होने की प्रक्रिया में है. लॉकडाउन के दौर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा कही गई एक बात की चित्तौड़गढ़ सांसद सीपी जोशी ने गांठ बांध ली. बात थी आपदा में अवसर ढूंढने की.

  • Share this:
जयपुर. देश लॉकडाउन से अनलॉक होने की प्रक्रिया में है. लॉकडाउन के दौर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) द्वारा कही गई एक बात की चित्तौड़गढ़ सांसद सीपी जोशी (MP CP Joshi) ने गांठ बांध ली. बात थी आपदा में अवसर ढूंढने की. राजस्थान इस वक्त कोरोना महामारी के साथ सियासी संग्राम की दोहरी मार झेल रहा है. नेता या तो बयानों में उलझे हैं या बाड़ेबंदी में अटके हैं. लेकिन एक युवा सांसद खामोशी से ऐसे महाअभियान में जुटे हैं जिससे वे प्रकृति के प्रति प्रतिबद्धता भी जता रहे हैं और कार्यकर्ता से लेकर आमजन का समर्थन भी जुटा रहे हैं.

चुनाव में मिली लीड के बराबर पौधे लगाने का संकल्प
2019 के आम चुनाव में मतदाताओं ने राजस्थान के चित्तौड़गढ़ लोकसभा क्षेत्र से सीपी जोशी को 5,76,247 मतों की भारी-भरकम लीड से जीताकर दूसरी बार संसद में भेजा. 1 साल बाद जोशी ने 5,76,247 पेड़ लगाने का महाअभियान शुरू कर वोटर्स को रिटर्न गिफ्ट देने की शुरुआत की है. उसमें ख्याल इस बात का भी रखा जा रहा है कि हर विधानसभा क्षेत्र में उतने पौधे रोपे जाए जितनी लीड उस विधानसभा क्षेत्र से मिली थी.

Rajasthan Crisis: सियासी संग्राम के इस खेल में छिपे हैं गहरे राज, पढ़ें इनसाइड स्टोरी
दिशा दिखाते ही आगे आए दानवीर


कोरोना के कारण स्थगित हुए संसद सत्र के बाद सीपी जोशी ने संसदीय क्षेत्र में पहुंचकर चुनिंदा कार्यकर्ताओं से हरित परिसर अभियान पर चर्चा की. अनूठा आइडिया सुनते ही एसआरएम ग्रुप के रतन सिंह झाला और हिम्मत सिंह झाला ने पौधों के लिए ना सिर्फ ट्री गार्ड का इंतजाम करने की जिम्मेदारी ली बल्कि कार्यकर्ता के तौर पर अभियान को सफल बनाने में भी जुट गए.

3 महीने में सवा लाख से ज्यादा पौधे लगाए
बात फैली तो पूरे संसदीय क्षेत्र में लोग जुड़ते चले गए. नतीजतन पिछले 3 महीने में सवा लाख से ज्यादा पौधे लगाए जा चुके हैं. खास बात यह कि हर गांव में जनसमूह को साथ लेकर पौधे की देखभाल की जिम्मेदारी भी मौके पर ही थमा दी जाती है. पेड़ लगाने के लिए ऐसी जगह का चुनाव किया जा रहा है जहां दीवार या तारबंदी के साथ पानी की पूरी व्यवस्था हो.

Rajasthan: राजभवन ने तीसरी बार लौटाई विधानसभा सत्र बुलाने की फाइल, राज्यपाल से मिलने पहुंचे गहलोत

पौधे को पानी तो सियासी जमीन को खाद
ऐसा भी नहीं कि आपदा में अवसर ढूंढने का काम पौधारोपण तक ही सीमित हो. पौधों को पानी देने के साथ सांसद जोशी अपनी पॉलिटिकल प्रसिद्धि के पैरामीटर्स भी चेक कर रहे हैं. इसीलिए अब तक 120 से ज्यादा पंचायतों के गांवों में पहुंचे जोशी ने हर गांव में पार्टी के ईकाई कार्यकर्ताओं और आम लोगों के साथ समस्या समाधान बैठकें भी की हैं. इनमें वे लोगों की समस्या समाधान की हर मुमकिन कोशिश करते भी दिखाई देते हैं.

आम चुनाव से पहले सियासी फलों का इंतजाम
बैठकों में पर्यावरण संरक्षण के संदेश के साथ प्रधानमंत्री मोदी के विजन और केंद्र सरकार की योजनाओं का भी जिक्र होता है. आत्मनिर्भर भारत से लेकर रेहड़ी पटरी योजना और उज्जवला से लेकर हर घर नल से जल योजना के बारे में विस्तार से बताया जाता है. इन बैठकों में सीपी जोशी किसान सम्मान निधि की राशि से लेकर वृद्धावस्था पेंशन तक मोदी सरकार की हर योजना का फायदा गिनाना भी नहीं भूलते. ताकि पेड़ों की छांव के साथ- साथ अगले आम चुनाव से पहले सियासी फलों का इंतजाम हो सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading