होम /न्यूज /राजस्थान /स्वच्छता सर्वेक्षण रिपोर्ट: राजस्थान फिर पिछड़ा, पिंकसिटी को टॉप 20 में भी नहीं मिली जगह

स्वच्छता सर्वेक्षण रिपोर्ट: राजस्थान फिर पिछड़ा, पिंकसिटी को टॉप 20 में भी नहीं मिली जगह

Jaipur News: प्रमुख शहर टॉप-100 में भी शामिल नहीं, पिछली बार की रेंकिंग से मामूली सुधार

Jaipur News: प्रमुख शहर टॉप-100 में भी शामिल नहीं, पिछली बार की रेंकिंग से मामूली सुधार

Jaipur News: स्वच्छता की ओवरऑल रेंकिंग में इंदौर एक बार फिर सिरमौर बना है और राजस्थान फिसड्डी साबित हुआ है. राज्यों की ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

नगर निगम हैरिटेज और ग्रेटर की एक साल में सुधरी रेंकिंग में मामूली सुध
लेक सिटी उदयपुर, कोटा और जोधपुर जैसे शहर टॉप-100 में भी शामिल नहीं

जयपुर. केंद्र सरकार ने स्वच्छता सर्वेक्षण (Cleanliness survey-2022) की रैंकिंग जारी कर दी है. ओवरऑल रेंकिंग में हैरिटेज नगर निगम (Heritage Municipal corporation)  26वें और ग्रेटर नगर निगम 33वें स्थान पर है. प्रदेश (Rajasthan) की बात करें तो यहां हैरिटेज नगर निगम अव्वल रहा है. इसकी रेंकिंग (Ranking) भी पिछली बार की तुलना में छह पायदान बेहतर रही है. स्वच्छता में सिरमौर इंदौर शहर से सबक लेने के बजाए राजस्थान के कई शहरों के निकाय आपसी राजनीति में ही उलझे रहे. इसके कारण ये ओवरऑल रेंकिंग में पिछड़ गए.

स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 की रैंकिंग में राजस्थान का एक भी नगर निगम टॉप-10 में जगह नहीं बना पाया. जयपुर में दो नगर निगम, दो मेयर, अफसरों के साथ सफाईकर्मियों की फौज होने के बावजूद पिंकसिटी को टॉप 20 में भी जगह नहीं मिली. 10 से 40 लाख की आबादी वाले शहरों में राजस्थान के नगर-निगम हेरिटेज ने 26वीं रैंक हासिल की है. हेरिटेज नगर निगम ने 7500 में से 4230.96 अंक हासिल किए हैं.

‘मैं CM रहूं या ना रहूं 102 MLA को नहीं भूल सकता…’ बोल गहलोत ने BJP को फिर घेरा

पिछली बार की रेंकिंग से मामूली सुधार
वहीं ग्रेटर नगर निगम की स्थिति तो और भी खराब है. काम से ज्यादा राजनीति होने के कारण इसकी 33 वी रैंक आई है. ग्रेटर निगम को 3877.28 अंक प्राप्त हुए हैं. बस संतोष की बात इतनी सी है कि दोनों ही निगम ने अपनी पिछली बार की रेंकिंग में मामूली सुधार किया है. दोनों निगमों की पिछली बार की रेंकिंग क्रमश: 32वीं और 36वीं थी.

प्रमुख शहर टॉप-100 में भी शामिल नहीं
राजस्थान के अन्य शहरों की बात करें तो कोटा, उदयपुर, अजमेर, जोधपुर जैसे शहर टॉप-100 में भी अपनी जगह नहीं बना पाए हैं. एक लाख से अधिक आबादी वाले शहरों में देशभर में स्वच्छता के शिखर पर इंदौर छठी बार विराजमान है. एक लाख से कम आबादी वाले शहरों में महाराष्ट्र का पंचगनी पहले और छत्तीसगढ़ का पाटन दूसरे नंबर पर है.

Tags: Jaipur Greater Municipal Corporation, Jaipur news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें