Rajasthan: जयपुर, जोधपुर और कोटा के 6 नगर निगमों के चुनावों पर फिर मंडराये संशय के बादल, SC पहुंची गहलोत सरकार

अभी तक सुनवाई के लिए तारीख तय नहीं हुई है.
अभी तक सुनवाई के लिए तारीख तय नहीं हुई है.

Municipal corporations elections: जयपुर, जोधपुर और कोटा के 6 नगर निगमों में होने वाले चुनावों को टलवाने के लिये गहलोत सरकार सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है.

  • Share this:
जयपुर. राजधानी जयपुर समेत जोधपुर और कोटा (Jaipur, Jodhpur and Kota) के 6 नगर निगमों के चुनाव (Municipal corporations elections) समय पर होगें या नहीं इस पर एक बार फिर संशय के बादल मंडराने लग गये हैं. क्योंकि राज्य सरकार ने अब नगर निगम चुनावों को टलवाने के लिये सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) का दरवाजा खटखटाया है. हाईकोर्ट ने पिछले दिनों ही राज्य सरकार की चुनाव टालने की याचिका को खारिज कर 31 अक्टूबर से पूर्व नियत समय पर चुनाव कराने के आदेश दिये थे.

राज्य सरकार अब हाईकोर्ट के इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पहुंच गई है. सरकार कोरोना की आड़ में चुनाव टलवाने के लिये प्रयासरत है. सरकार को आशंका है कि इस समय चुनाव के दृष्टिकोण से माहौल पार्टी के फेवर में नहीं है. लिहाजा मार्च तक चुनाव टल जाये.

Rajasthan Panchayat elections: 80 फीसदी पार पहुंच रही पोलिंग, लेकिन बदइंतजामी पड़ सकती है सेहत पर भारी



छह नगर निगम चुनावों के लिये निगाहें अब सुप्रीम कोर्ट पर टिकी
राज्य निर्वाचन आयोग ने जयपुर ,जोधपुर और कोटा की सभी छह नगर निगम के चुनाव कराने संबंधी तीनों जिलों के कलक्टर्स को दिशा-निर्देश दे दिये हैं. उन्हें चुनाव के प्रारंभिक तैयारियां शुरू करने को कह दिया गया है. सुप्रीम कोर्ट से जल्दी कोई आदेश नहीं मिला तो आयोग चुनाव कार्यक्रम घोषित कर सकता है. किसी भी मतदान केंद्र पर 900 से ज्यादा मतदाता नहीं हो इसके लिए कलक्टर से सहायक मतदान केंद्र बनाने को कहा है. सुप्रीम कोर्ट में राज्य सरकार ने चुनाव टलवाने के लिए अपील पेश तो कर दी है, लेकिन अभी तक सुनवाई के लिए तारीख तय नहीं हुई है. एक-दो दिन में सुनवाई की तारीख तय होने की उम्मीद की जा रही है.

राज्य सरकार को लग सकता है झटका
प्रदेश की गहलोत सरकार भले ही तीन नगर निगमों के चुनाव टलवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई हो, लेकिन देश की शीर्ष अदालत से राज्य सरकार को झटका लग सकता है. सुप्रीम कोर्ट हाईकोर्ट के फैसले को यथावत रखने के आदेश दे सकता है. क्योंकि हाईकोर्ट ने अपने निर्णय में कहा था कि जब प्रदेश में ग्राम पंचायत के चुनाव करवाए जा सकते हैं तो फिर 3 निगम के चुनाव कराने में क्या दिक्कत है ?

Rajasthan: BJP और कांग्रेस दोनों ही नहीं उतरी वादे पर खरी, अधूरी रही किसानों की कर्ज माफी

राज्य सरकार की ये है दलील
यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल का कहना है कि जयपुर और जोधपुर में कोरोना वायरस तेजी से बढ़ रहा है. ऐसे में यहां फिलहाल चुनाव कराना संभव नहीं है. लोगों के स्वास्थ्य का ध्यान रखना सरकार की जिम्मेदारी है. दूसरी और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट हाईकोर्ट के फैसले को यथावत रखता है तो कोई दिक्कत नहीं है. सरकार चुनाव के लिए पूरी तरह तैयार है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज