Jaipur News: स्टेटस सिंबल के लिए क्लबों की मेंबरशिप लेने की होड़, फीस जानकर रह जाएंगे हैरान

जयपुर में क्‍लब मेंबरशिप फीस के तौर पर लोग 5 से 15 लाख रुपये देने को तैयार हैं.

जयपुर में क्‍लब मेंबरशिप फीस के तौर पर लोग 5 से 15 लाख रुपये देने को तैयार हैं.

Jaipur Club News: जयपुर में क्लब कल्चर बढ़ता जा रहा है और लोग स्टेट्स सिंबल (States Symbol)के लिए लाखों की कीमत चुकाने को तैयार हैं, लेकिन उन्‍हें मेंबरशिप नहीं मिल पा रही है.

  • Share this:

जयपुर. राजस्‍थान की राजधानी जयपुर (Jaipur) में क्लब कल्चर बढ़ता जा रहा है. यही वजह है कि बरसों पुराने और प्रतिष्ठित क्लबों में लाखों की फीस के बाद भी लोगों को एंट्री नहीं मिल पा रही है. स्टेटस सिंबल (Status Symbol) बन चुकी ज्यादातर क्लबों की मेंबरशिप बंद हो चुकी है, तो वहीं बढ़ती डिमांड के बाद स्पोटर्स और मनोरंजन के क्लब भी अपनी फीस और बढ़ाने वाले हैं. हैरान करने वाली बात यह है कि कई क्लबों की मेंबरशिप के लिए नेताओं और अधिकारी की शिफारिशें भी काम नहीं आ रही हैं.

बता दें कि जयपुर में खेल और मनोरंजन के लिए कई क्लब हैं, लेकिन कई साल पुराने और शहर के बीच प्रतिष्ठित क्लबों में इस समय मेंबरशिप न के बराबर हैं. जबकि नए मेंबर बनने की प्रक्रिया इतनी जटिल और महंगी की आम व्यक्ति तो कोई सोच भी नहीं सकता. इसके अलावा जो लोग अपने स्टेटस सिंबल के लिए मुंह मांगे दामों पर भी क्लबों से जुड़ना चाहते हैं, लेकिन उनके सामने भी मुश्किले हैं. जबकि नेताओं और अधिकारियों के सहारे भी बात नहीं बन पा रही है. जयपुर के कई क्लबों में पहले से ही मेंबरशिप का कोटा पूरा हो चुका है. लिहाजा यहां नए सदस्य नहीं बनाए जा रहे हैं. मेंबरशिप में भी पहली प्रायोरिटी उन सदस्यों और उनके परिवारों को मिलती है जो इन क्लबों के सदस्य पहले से हैं. क्लबों में आनरेरी मेंबरशिप, टैंप्रेरी, लाइफ मेंबरशिप, डिपेंडेंट मैंबरशिप के साथ ही अब कई मेंबरर्स मंथली बेसिस पर भी बनाए जाने लगे हैं. जबकि सामान्य मेंबरशिप में सालाना दो से पांच प्रतिशत नए मेंबर्स की बढोतरी होती है.

जयपुर के प्रमुख क्लब की मेंबरशिप फीस

>>जयपुर क्लब 15 लाख रुपये.
>>जय क्लब 12 लाख रुपये.

>>रामबाग गोल्फ क्लब 7 लाख रुपये.

>>राजस्थान पोलो क्लब 75 हजार 242 रुपये.



>>अशोक क्लब 5 लाख रुपये.

खास तौर पर रामबाग पोलो गोल्फ क्लब में करीब अठारह सौ मेंबरर्स के साथ इस क्लब की मेंबरशिप पर कैप लग चुकी है, जहां तीन साल पहले आखिरी बार करीब सात लाख रुपये की जनरल मेंबरशिप दी गई थी. हालांकि यहां अलग-अलग वर्गों में मेंबरशिप दी जा रही है, लेकिन नई मेंबरशिप के लिए भी अब मंथली मेंबरशिप की प्लानिंग लाई जा सकती है. राजस्थान पोलो क्लब में करीब ढाई सौ ही सदस्य हैं और यहां भी सदस्यों की संख्या सीमित रखी गई है. इसमें नब्बे प्रतिशत पोलो के खिलाड़ी और खेल से जुड़े लोगों को ही मेंबरशिप दी गई है. इसकी फीस सबसे कम करीब 75 हजार रुपये सालाना है, लेकिन इसमें बाहरी लोगों की एंट्री बेहद मुश्किल है. इसी प्रकार अशोक क्लब में भी करीब बारह सौ सदस्य हैं. यह पूर्व राजपरिवार का क्लब होने के कारण केवल बारह सौ मेंबर तक सीमित है. जबकि पांच लाख रुपए की मेंबरशिप फीस है. इसके अलावा जय क्लब में आगामी दिनों में मेंबरशिप और भी महंगी हो सकती है. यहां भी 12 लाख रुपये में मेंबरशिप मिलती है. इसी तरह गोल्फ क्लब में भी आगामी दिनों में मेंबरशिप दी जाएगी तो दरों का बढ़ना तय है, लेकिन फिलहाल मेंबरशिप को लेकर कुछ भी स्पष्ट नहीं है. नई मेंबरशिप को लेकर क्लबों की अलग-अलग प्लानिंग की है.

Jaipur News,Rajasthan News, जयपुर न्‍यूज़, राजस्‍थान न्‍यूज़
जयपुर में बढ़ते क्लब कल्चर के बीच नेता और अधिकारी वर्ग भी इन क्लबों से जुड़ा हुआ है.

क्लबों में मौजूद हैं यह सुविधाएं

जयुपर के इन क्लबों में बास्केटबॉल, ब्रिज, बैडमिंटन, बिलियर्ड्स एंड स्नूकर, क्रिकेट, फुटबॉल, जिमनेशियम, जॉगिंग एंड एथलेटिक्स, स्वीमिंग पूल, स्क्वैश कोर्ट, टेनिस, टेबल-टेनिल, वॉलीबॉल जैसी खेल गतिविधियां तो हैं ही साथ ही मनोरंजन के लिए कार्ड रूम, बार, रेस्टोरेंट, होटल रूम जैसी लग्जरी सुविधाएं भी मौजूद हैं. लिहाजा इनकी मांग खास तौर पर देखी जाती है. जयपुर में बढ़ते क्लब कल्चर के बीच नेता और अधिकारी वर्ग भी इन क्लबों से जुड़ा हुआ है, लेकिन डिमांड ज्यादा होने और मेंबरशिप नहीं मिल पाने से इनकी पहुंच नहीं बन पा रही थी. इस वजह से नए क्लबों की डिमांड बढ़ी और अब शहर में कई क्लब तैयार होने लगे हैं. आरएएस अधिकारियों का क्लब भी जयपुर में बनकर तैयार है जहां आईएएस और आरएएस क्लब के साथ ही जनरल मेंबरशिप भी रखी गई है, लेकिन इसमें भी अब मेंबरशिप लगभग पूरी हो चली है. बहरहाल, क्लबों से जुड़ना और मेंबरशिप हासिल करना ऊंचे तबके में स्टेट्स सिंबल बन गया है जिसके चलते भी नए क्लब स्थापित होने लगे हैं, लेकिन लोगों के मुताबिक क्लबों में सुविधाओं के साथ लोगों को सुकून भी मिल सके, वो ही सदस्यों के लिए सार्थक है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज