Home /News /rajasthan /

CM अशोक गहलोत ने साधु-संतों को मंदिरों में पूजा-अर्चना के लिए जाने की दी छूट, सफाई कर्मचारियों को लेकर कही ये बात

CM अशोक गहलोत ने साधु-संतों को मंदिरों में पूजा-अर्चना के लिए जाने की दी छूट, सफाई कर्मचारियों को लेकर कही ये बात

सीएम अशोक गहलोत ने साधु-संतों को मंदिरों में जाने की अनुमति दी (फाइल तस्वीर)

सीएम अशोक गहलोत ने साधु-संतों को मंदिरों में जाने की अनुमति दी (फाइल तस्वीर)

साधु-सन्यासियों को मंदिरों में जाने की छूट के साथ-साथ सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने अधिकारियों को सख्त हिदायत दी कि सीवेज की सफाई का काम मशीनों की मदद से किया जाए राज्य में कहीं भी कोई सफाई कर्मचारी सीवेज में सफाई के लिए नहीं उतारा जाना चाहिए.

अधिक पढ़ें ...
जयपुर. सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने साधु-संतों को मंदिरों में पूजा-अर्चना के लिए जाने की आज छूट दे दी साथ ही उन्होंने अधिकारियों को ये भी निर्देश दिए कि कोई भी सफाई कर्मी सीवेज की सफाई की दौरान उनमें उतारा नहीं जाएगा. दरअसल वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Pandemic Coronavirus) के संक्रमण से बचाव के मद्देनजर लॉकडाउन (Lockdown) में सभी सार्वजनिक स्थलों पर लोगों के जाने की मनाही थी जिनमें धार्मिक स्थल भी शामिल हैं. अनलॉक की प्रक्रिया में सीएम ने साधु-सन्यासियों को मंदिरों में जाने की छूट दे दी है हालांकि आम श्रद्धालुओं के मंदिरों में जाने पर रोक लागू रहेगी.

सीएम गहलोत ने शहरी निकायों के जनप्रतिधियों, अफसरों और सफाई-कर्मियों के साथ आज वीसी की इस दौरान मंदिर खोले जाने की मांग पर उन्होंने कहा कि साधु-संत मंदिर जा सकते हैं, मेरी तरफ से साधु- महात्माओं को मैसेज दे दीजिए, उन्हें मंदिर जाने से कोई नहीं रोकेगा, मंदिर खुले ही हैं, मंदिर में पुजारी पूजा कर ही रहे हैं, केवल श्रद्धालुओं पर रोक है. वीसी में जोधपुर से घनश्याम ओझा ने सीएम से सावन में मंदिर खोलने की सीमित व्यवस्था की मांग रखी थी. ओझा ने कहा कि चातुर्मास में जैन संतों को भी छूट दी जाए. उनका कहना था कि मंदिर खोलने से सकारात्मक माहौल बनेगा.

राजस्थान में कहीं भी सीवेज में नहीं उतरना चाहिए कोई सफाईकर्मी
पाली के सफाईकर्मी गौतम से संवाद के दौरान मुख्यमंत्री ने अफसरों को साफ निर्देश दिए कि राजस्थान में एक भी सफाई कर्मी सीवेज में नहीं उतरना चाहिए. उन्होंने कहा अफसर इस बात का खास ध्यान रखें कि सीवेज की सफाई का काम मशीनों से लिया जाए. कोई सफाईकर्मी सीवेज लाइन में न उतरे. दरअसल पाली से सफाईकर्मी गौतम ने बताया कि नालों में उतरकर सफाई की. इसी दौरान सीएम ने ये निर्देश जारी किए.

ये भी पढ़ें- अटल उत्कृष्ट विद्यालय योजना से बच्चों के सपनों को लगेंगे पंख, 190 स्कूलों के चयन ने पकड़ी रफ्तार

'कोई भूखा नहीं सोए' बना पूरे देश का नारा
सीएम अशोक गहलोत ने  यह भी कहा, हमने कहा था कि 'कोई भूखा नहीं सोए' यह आज राज्य के साथ साथ पूरे देश में एक नारा बन गया है, अब तो पीएम मोदी भी वीसी में कोई भूखा नहीं सोए की बात करते हैं. कोरोना से लड़ने में राजस्थान देश में अग्रणी राज्य है. प्रधनमंत्री मोदी ने भी राजस्थान के मैनेजमेंट की तारीफ की है. आप किसी राज्य में पूछ लीजिए, वह राजस्थान में कोरोना में किए गए  मैनेजमेंट की तारीफ कर रहा है. हमने कोराना की शुरुआत में ही सबको बुलाकर चर्चा की, जनप्रतिनिधि, धर्मगुरु,एनजीओ सहित समाज के विभिन्न् वर्गों से चर्चा की, डॉक्टर, नर्स, पुलिस , सफाई कर्मचारियों ने जीवन दाव पर लगाकर काम किया. हमें जीवन और आजीविका दोनों को बचाना है. लॉकडाउन से अर्थव्यवस्था पूरी तरह ठप हो गई, रेवेन्यू 30 फीसदी पर आ गया. आगे किस तरह गाड़ी पटरी पर आए इसके प्रयास भी हम लगातार तेजी से कर रहे हैं. अर्थव्यवस्था को लेकर सभी चिंतित है, कोरोना से लड़ाई में हर वर्ग इन्वॉल्व हो गया, मैंने मेरी जिंदगी में पहली बार ऐसा देखा, जब हर वर्ग ने अपनी क्षमता से बढकर काम किया.

Tags: CM Ashok Gehlot, Lockdown, Rajasthan government, Temples

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर