Rajasthan Crisis: सीएम अशोक गहलोत बोले- BJP के इशारे पर बयानबाजी कर रही हैं मायावती
Jaipur News in Hindi

Rajasthan Crisis: सीएम अशोक गहलोत बोले- BJP के इशारे पर बयानबाजी कर रही हैं मायावती
बसपा सुप्रीमो मायावती पर सीएम गहलोत ने निशाना साधा है.

Rajasthan Crisis Update: मुख्यमंत्री गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा कि बसपा (BSP) के पूरे छह विधायक खुद अपने विवेक से हमारी पार्टी में शामिल हुए. उसके बाद कोई वाजिब शिकायत नहीं हो सकती.

  • Share this:
रहीजयपुर. राजस्थान (Rajasthan) में सत्ता का संग्राम जारी है. सियासी हलचल के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने बसपा सुप्रीमो पर निशाना साधा है. सीएम गहलोत ने कहा कि राजस्थान में बसपा के छह विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने को लेकर बसपा प्रमुख मायावती (Mayawati) भाजपा के इशारे पर बयानबाजी कर रही हैं. मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि दो तिहाई बहुमत से कोई पार्टी टूट सकती है, अलग पार्टी बन सकती है. विलय कर सकती है दूसरी पार्टी में. यहां बसपा के 6 के 6 विधायक मिल गए हैं तो मायावती की जो शिकायत हैं, वह वाजिब नहीं है क्योंकि मायावती के दो विधायक अगर-अलग होते तो शिकायत हो सकती थी.

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि बसपा के पूरे छह विधायक खुद अपने विवेक से हमारी पार्टी में शामिल हुए. उसके बाद कोई वाजिब शिकायत नहीं हो सकती. उन्होंने कहा,  मेरा मानना है कि मायावती जो बयानबाजी कर रही हैं, वह भाजपा के इशारे पर कर रही हैं. भाजपा जिस प्रकार से सीबीआई, ईडी, आयकर विभाग का दुरुपयोग कर रही है, डरा रही है, धमका रही है सबको, आप ही देखो राजस्थान में क्या हो रहा है.

मजबूरी में दे रहे बयान: सीएम गहलोत



मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि मायावती भी डर रही हैं, मजबूरी में वो बयान दे रही हैं. गौरतलब है कि संदीप यादव, वाजिब अली, दीपचंद खेरिया, लखन मीणा, जोगेन्द्र अवाना और राजेन्द्र गुढ़ा ने 2018 में विधानसभा चुनाव बसपा के टिकट पर जीता था. ये सभी विधायक सितम्बर 2019 में बसपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए थे. वहीं, बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय से अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली राजस्थान सरकार को मजबूती मिली थी, क्योंकि 200 सदस्यीय सदन में सत्तारूढ़ दल के विधायकों की संख्या बढ़कर 107 हो गई थी.
ये भी पढ़ें: पहले करते थे आनाकानी, अब नरोत्तम मिश्रा भी लगाने लगे मास्क, जानें क्या है माजरा

सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि इस मामले में भाजपा का दोहरा चेहरा भी जनता के सामने आ गया है. उन्होंने कहा कि भाजपा ने टीडीपी के चार सांसदों का राज्यसभा में रातों रात विलय करवा दिया. वह विलय तो सही है और राजस्थान के अंदर 6 विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए, वह विलय गलत है. फिर भाजपा का चाल, चरित्र, चेहरा कहां गया? मैं पूछना चाहता हूं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading