राजस्थान में अमीरों से अर्बन-यूडी टैक्स वसूलने की तैयारी, CM गहलोत ने दिए संकेत

गहलोत सरकार अर्बन टैक्स वसूली की तैयारी कर रही है.
गहलोत सरकार अर्बन टैक्स वसूली की तैयारी कर रही है.

राजस्थान (Rajasthan) के शहरी निकायों की आय के लगातार घट रहे संसाधनों के बीच अब अर्बन टैक्स-यूडी टैक्स (Urban-UD Tax) की वसूली के लिए बड़ा अभियान चलाने पर विचार किया जा रहा है.

  • Share this:
जयुपर. राजस्थान (Rajasthan) के शहरी निकायों की आय के लगातार घट रहे संसाधनों के बीच अब अर्बन टैक्स-यूडी टैक्स (Urban-UD Tax) की वसूली के लिए बड़ा अभियान चलाने पर विचार किया जा रहा है. नगर निगमों, नगर परिषदों और नगरपालिका क्षेत्रों में आर्थिक रूप से मजबूत लोगों से नियमित रूप से अर्बन टैक्स-यूडी टैक्स की वसूली की जा सकती है. इसके लिए जल्द सभी शहरी निकायों में अभियान चलाया जा सकता है. सीएम अशोक गहलोत ने इसके लिए अभियान चलाने के संकेत दिए हैं. शहरी निकायों के पास खुद की आय के साधन घटने से ये अब फंड के लिए सरकार पर निर्भर हैं.

बताया जा रहा है सरकार की माली हालत पहले से ही कमजोर थी और अब कोविड के कारण हालात और बिगड़ गए हैं. ऐसे हालात में राज्य सरकार चाहती है कि शहरी  निकाय अपने खुद के आय के साधन विकसित करें. ताकि उसका बोझ कुछ कम हो सके.

सीएम ने कही ये बात
शहरी विकास के 68 प्रोजेक्ट्स के डिजिटल शिलान्यास लोकार्पण समारोह में सीएम  अशोक गहलोत ने निकायों की आय बढ़ाने के लिए टैक्स वसूलने पर जोर देते हुए कहा कि नगर निकायों के पास इनकम नहीं बची है, पहले नगरपालिकाओं के पास चुंगी से पैसा आता था, अब अर्बन टैक्स लगने नहीं दिया जा रहा है. कोरोना में हालत और खराब हो रहे हैं. अर्बन टैक्स कई लोग देना चाहते हैं. पैसे वाले टैक्स दे सकते हैं, लेकिन निकायों के अफसर वसूलने में रुचि ही नहीं दिखा रहे. नगर निकायों के आय का साधन होना जरूरी है, हम सब पार्टियों से मिलकर बात करेंगे कि कैसे निकायों की आय बढ़ सकती है, जो अर्बन टैक्स दे सकते हैं उनसे लिया जाए.
राजनीतिक विरोध होता


राज्य के शहरी निकायों में यूडी टैक्स की वसूली बड़ा राजनीतिक मुद्दा रहा है. जब जब भी शहरी निकायों ने यूडी टैक्स वसूलने का प्रयास किया, तब-तब भारी राजनीतिक विरोध के कारण निकायों को कदम पीछे खींचने पड़े. यूडी टैक्स का कांग्रेस राज में भााजपा के नेता और भाजपा के राज में कांग्रेस के नेता विरोध करते आए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज