Rajasthan News: रेप के बढ़ते मामलों पर सीएम गहलोत ने 2.30 घंटे ली पुलिस अधिकारियों की क्लास

सीएम ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रत्येक फरियादी की आवश्यक रूप से सुनवाई और एफआईआर दर्ज करने की नीति लागू की हुई है.
सीएम ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रत्येक फरियादी की आवश्यक रूप से सुनवाई और एफआईआर दर्ज करने की नीति लागू की हुई है.

Rajasthan News: प्रदेश में रेप और गैंगरेप (Increasing rape cases) की दिन-प्रतिदिन बढ़ती घटनाओं को लेकर सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने पुलिस अधिकारियों की क्लास लेकर उन्हें इनकी रोकथाम के लिये आवश्यक दिशा-निर्देश दिये हैं.

  • Share this:
Rajasthan News: प्रदेश में बढ़ रही रेप की घटनाओं (Increasing rape cases) के बाद सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने बुधवार को देर रात ढाई घंटे तक वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की क्लास ली. सीएम ने देर रात कानून- व्यवस्था की समीक्षा (Law and order review) करते हुए महिलाओं और बालिकाओं सहित समाज के कमजोर वर्गों के खिलाफ होने वाले अपराधों के मामलों में पुलिस को पूरी तत्परता और संवेदनशीलता से कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं.

सीएम ने कहा कि सरकार ने यह सुनिश्चित किया है कि थानों में प्रत्येक फरियादी की आवश्यक रूप से सुनवाई हो. उसे एफआईआर दर्ज कराने के लिए भटकना न पड़े. करीब ढाई घंटे तक चली इस बैठक में मुख्यमंत्री ने कानून-व्यवस्था, महिलाओं से संबंधित अपराधों, संगठित अपराधों, मादक पदार्थों की तस्करी रोकने, माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई तेज करने आदि विषयों पर गहन समीक्षा की.

Rajasthan: रेप की वारदातों पर पूर्व सीएम वसुंधरा राजे का अशोक गहलोत पर 'Twitter attack', कहा-जंगलराज



इस्तगासे से दर्ज होने वाले घटे
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रत्येक फरियादी की आवश्यक रूप से सुनवाई और एफआईआर दर्ज करने की नीति लागू की हुई है. उच्च स्तर से इसकी निरंतर मॉनीटरिंग की जा रही है।. इसी का नतीजा है कि इस्तगासों के जरिए दर्ज होने वाली एफआईआर की संख्या 31 प्रतिशत से घटकर मात्र 13 प्रतिशत रह गई है.

चूरू में 19 साल की युवती से 8 दिनों तक गैंगरेप, 9 युवकों पर लगा आरोप

रेप केस की जांच में लगने वाला औसत समय कम हुआ
महिलाओं से संबंधित अपराधों को रोकने के लिए प्रदेश के सभी 41 पुलिस जिलों में गठित स्पेशल इंवेस्टिगेशन यूनिट फॉर क्राइम अगेंस्ट वूमन का असर है कि रेप और पोक्सो केसेज की तफ्तीश में लगने वाले समय में उल्लेखनीय कमी दर्ज की गई है. पहले जहां इन अपराधों के अनुसंधान में पुलिस को औसत रूप से 278 दिन का समय लगता था. वहीं इस यूनिट के गठन तथा मॉनिटरिंग के कारण इस समय में 40 प्रतिशत तक कमी आई है. अब इसमें औसत 113 दिन का समय लग रहा है.  गहलोत ने कहा सरकार अपराधों को रोकने के लिये कृत संकल्प है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज